Mohan Bhagwat’s Dussehra speech 2021: संघ प्रमुख के भाषणों की पड़ताल, जिसमें छिपी है ‘बड़े भाई’ से ‘जुड़वा भाई’ बनने की कहानी

प्रतिभा ज्योति, अमर उजाला, नई दिल्ली। Published by: प्रतिभा ज्योति Updated Thu, 14 Oct 2021 02:57 PM IST

सार

भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में केंद्र में चल रही एनडीए की सरकार के मद्देनजर दशहरे के मौके पर दिए जाने वाले संघ प्रमुख के भाषण को केंद्र सरकार के लिए रोडमैप माना जाता है। तो संघ के कार्यकर्ताओं के लिए एक निजी दस्तावेज की तरह होता है।
Mohan Bhagwat’s Dussehra speech 2021: मोहन भागवत और नरेंद्र मोदी
Mohan Bhagwat’s Dussehra speech 2021: मोहन भागवत और नरेंद्र मोदी - फोटो : Amar Ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कल देश भर में विजयादशमी या दशहरे का त्योहार मनाया जाएगा। विजयादशमी को ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस भी होता है। इस मौके पर संघ प्रमुख के शस्त्र पूजा करने की परंपरा रही है। उसके बाद संघ के मुखिया यानी सरसंघचालक हर साल दशहरा के मौके पर अपने मुख्यालय नागपुर में एक व्याख्यान देते हैं। इस मौके पर दिए जाने वाला उनका भाषण मीडिया की सुर्खियां भी खूब बटोरता है।  
विज्ञापन


इस भाषण की अहमियत क्या
हर साल विजय दशमी के मौके पर संघ प्रमुख स्वंयसेवकों को संबोधित करते हैं जिसमें वो संगठन की नीतियों और विचारों पर चर्चा करते हैं। 1925 में विजयदशमी के दिन ही डॉ केशव बलिराम हेडगेवार ने आरएसएस की स्थापना की थी। 


संघ को समझने वाले एक जानकार बताते हैं कि संघ प्रमुख के भाषण में प्रमुखता से वही बात उठाई जाती है जो वह केंद्र सरकार से अपेक्षा रखते हैं। 2014 से मोहन भागवत के भाषणों पर गौर करें तो पाएंगे कि सरकार ने धीरे-धीरे प्रमुखता से उन सभी मुद्दों को छूने की कोशिश की है या छू रही है जिसका जिक्र भागवत ने अपने भाषणों में किया है, जैसे आर्टिकल 370 की बात हो या राम मंदिर के निर्माण की या रोहिंग्या मुसलमान की। वे कहते हैं कि संघ प्रमुख हमेशा संकेत में सरकार के लिए एजेंडा तय कर देते हैं और फिर सरकार उस पर आगे बढ़ती है।

क्या पहले भी रहा ऐसा तालमेल
पहली बार संघ और केंद्र में भाजपा की सरकार के बीच ऐसा तालमेल देखा गया है। इसकी एक बड़ी वजह यह है कि संघ प्रमुख मोहन भागवत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संघ में साथ-साथ काम किया है और वे हमउम्र भी हैं। इसलिए दोनों के बीच अच्छा सामांजस्य है जिसकी झलक संघ और सरकार के कामकाज में भी दिखाई देती है। 
 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00