लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   MEA condemns Congresswoman Ilhan Omar visit to PoK

अमेरिका ने दी सफाई : इल्हान उमर का पीओके दौरा सरकारी नहीं था, भारत ने सख्त आपत्ति जताते हुए की थी निंदा

एएनआई, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Fri, 22 Apr 2022 08:10 AM IST
सार

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि इल्हान उमर ने जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से का दौरा करके नियमों का उल्लंघन किया है, यह निंदनीय है। 

इल्हान उमर और अरिंदम बागची।
इल्हान उमर और अरिंदम बागची। - फोटो : Amar Ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अमेरिकी डेमोक्रेट सांसद इल्हान उमर के पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) दौरे पर भारत की सख्त आपत्ति व निंदा के बाद बाइडन प्रशासन ने सफाई दी है। अमेरिकी सरकार ने स्पष्ट किया है कि इल्हान का यह दौरा सरकारी नहीं था। 


भारत ने इल्हान के दौरे को देश की संप्रभुता का हनन बताया था। वह पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ से भी मिली थीं। पीओके दौरे को लेकर अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि सांसद उमर का दौरा अमेरिकी सरकार द्वारा प्रायोजित नहीं था। 


इससे पहले अमेरिकी कांग्रेस सदस्य इल्हान उमर के पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर दौरे पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने सख्त आपत्ति जताई। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि इल्हान उमर ने जम्मू-कश्मीर के एक हिस्से का दौरा किया, जिस पर पाकिस्तान का अवैध कब्जा है। यदि ऐसी कोई राजनेता अपने देश में अपनी संकीर्ण मानसिकता की राजनीति करना चाहती है तो यह उसका अपना मामला है, लेकिन अगर ऐसा करके हमारे क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करता है तो यह हमारा सरोकार हो जाता है। यह निंदनीय है।  

रायसीना डायलॉग में आएंगे 90 देश 
वहीं, रायसीना डायलॉग के संबंध में उन्होंने कहा कि इसमें 90 देशों के 210 से अधिक वक्ताओं के साथ लगभग 100 सत्र होंगे। हम सभी आतंकवादी हमलों की निंदा करते हैं जैसे कि अफगानिस्तान में हुआ है। हम वहां के घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं। 

इसके साथ ही बागची ने कहा, हमें भारत से यूक्रेन और उसके पड़ोसी देशों के लिए मानवीय सामान लेने के लिए मुंबई में उतरने की अनुमति के लिए जापान से एक अनुरोध मिला था। हमने वाणिज्यिक विमानों का उपयोग करके आपूर्ति लेने की मंजूरी दी है। 

ऑस्ट्रेलिया की शैक्षणिक स्वतंत्रता में भारतीय उच्चायोग द्वारा कथित हस्तक्षेप पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह संस्थान ऑस्ट्रेलियाई सरकार द्वारा मेलबर्न विश्वविद्यालय के साथ साझेदारी में स्थापित किया गया था और ऑस्ट्रेलियाई सरकार और संस्थानों द्वारा वित्त पोषित किया गया था। इस संस्थान के निर्णय लेने में भारत सरकार का कोई अधिकार नहीं है। 
विज्ञापन

बोरिस जॉनसन के दौरे पर यह कहा
भारत ने गुरुवार को कहा कि वह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की महत्वपूर्ण एवं सार्थक यात्रा को लेकर आशान्वित है जिसमें ‘रोडमैप 2030’ सहित द्विपक्षीय, बहुपक्षीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा होगी। ब्रिटिश प्रधानमंत्री जॉनसन अपनी दो दिवसीय भारत यात्रा पर अहमदाबाद पहुंचे हैं। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बेरिस जॉनसन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर भारत आए हैं और सुबह गुजरात पहुंचे। उन्होंने कहा कि जॉनसन साबरमती आश्रम गए और इसके बाद वह कुछ अन्य कार्यक्रमों में हिस्सा ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि शाम को जॉनसन दिल्ली के लिये रवाना होंगे। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00