राजनीति की पिच पर खूब खेले मास्टर ब्लास्टर पीएम मोदी

शशिधर पाठक, नई दिल्ली Updated Thu, 08 Feb 2018 08:13 AM IST
Master blaster PM Modi played a lot on the pitch of politics
नरेंद्र मोदी - फोटो : PTI
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा पर जवाब देते हुए मास्टर ब्लास्टर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जमकर खेले। कांग्रेस मुक्त भारत पर भी खेले और राजनीति की पिच पर भी दमदार स्ट्रोक्स लगाए। प्रधानमंत्री पूरी रौ में थे। विपक्ष की यॉर्कर, बाऊंसर से बचते हुए उन्होंने खूब छक्के जड़े। विपक्ष को अपने गांव की क्रिकेट का हवाला देते हुए नसीहत भी दी कि गांव के बच्चे की तरह वह खेल नहीं चलेगा कि अपने बल्लेबाजी कर लिए और फिर मैदान छोड़कर चल दिए। हालत यह रही प्रधानमंत्री मोदी के जवाब देने के बाद राज्यसभा में विपक्ष के पास एक ढंग का स्पष्टीकरण भी नहीं था। 
प्रधानमंत्री के जवाब देने के बाद पूर्व रक्षा मंत्री और कांग्रेस के नेता एके एंटनी खड़े हुए। उन्होंने सैन्य बलों के लिए एक रैंक एक पेंशन पर स्पष्टीकरण चाहा, लेकिन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उस पर भी सवाल उठा दिया और विपक्ष ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। यहां तक कि विपक्ष ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे समेत तमाम सवालों के जवाब न मिलने का मुद्दा भी नहीं उठाया। इसके बरअक्स अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने लक्षणा, व्यंजना, तंज के साथ पूर्व के सरकारों की नाकामी को बताते हुए अपनी सरकार की सफलता गिनाई। उन्होंने सदन को बताया कि उनकी सरकार व्यापक दृष्टिकोण के साथ सही उद्देश्य को लेकर देश को विकास के रास्ते पर ले जाने के लिए पूरी पारदर्शिता के साथ काम कर रही है।

याद आए कवि दुष्यंत 

देश में भय, आतंक का माहौल पर प्रधानमंत्री ने विपक्ष को आड़े हाथों लिया। उन्होंने समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल की चर्चा का जिक्र करते हुए अपने अंदाज में कहा भय का माहौल...जेल...। हम तो भुक्त भोगी हैं। 15 साल में क्या कुछ नहीं झेला है। हमको मालूम है....लेकिन कानून तो अपना काम करेगा ही। इसके साथ प्रधानमंत्री ने प्रसिद्ध कवि दुष्यंत कुमार की पंक्तियां सुनाई। उन्होंने कहा - उनकी अपील है कि उन्हें हम मदद करें, चाकू कि पसलियों से गुजारिश तो देखिए। 

दुष्यंत कुमार की इस पंक्ति के साथ प्रधानमंत्री वह सबकुछ कह गए, जिसका एहसास विपक्ष को बिना कुछ कहे ही हो गया।

स्वच्छता पर खर्च को लेकर भी नहीं बख्शा 

प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष को याद दिलाया कि कैसे इस देश में एक पार्टी के परिवार के लोगों के जन्मदिन पर देश के गरीबों लोगों से आए करोड़ों रुपये विज्ञापन पर खर्च हो जाते थे। उन्होंने नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के सवाल का उत्तर देते हुए कहा कि स्वच्छ भारत अभियान को आगे बढ़ाने के लिए लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाना जरूरी है। इसलिए इस पर विज्ञापन में खर्च करके लोगों को शिक्षित किया जा रहा है। देश के लोगों के व्यहार में परिवर्तन लाकर स्वच्छता के प्रति स्वभाव को पैदा किया जा रहा है।
आगे पढ़ें

जरा इतिहास पलटकर देख लीजिए 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

PNB घोटाले की जांच के लिए JPC पर विपक्षी एकता तय करेगी मोदी सरकार की सांसत

दिलचस्प यह भी की चेहरा राहुल गांधी बनेंगे और विपक्षी दलों को साथ लाने की कमान सोनिया गांधी के हाथ में रहेगी।

17 फरवरी 2018

Related Videos

नीरव मोदी को लेकर बीजेपी कांग्रेस में गुत्थमगुत्था

लगाया। साथ ही कहा कि बीजेपी ने इस पूरे मामले का पर्दाफाश किया है कांग्रेस ने घोटाला किया है।

17 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen