विज्ञापन
विज्ञापन

2004 को वो चुनाव जब नहीं चला भाजपा का 'इंडिया शाइनिंग' नारा, सोनिया के इंकार के बाद मनमोहन बने पीएम

चुनाव डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 16 May 2019 04:58 PM IST
2004 का लोकसभा चुनाव
2004 का लोकसभा चुनाव
ख़बर सुनें
साल 2004 के 14वें लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का 'इंडिया शाइनिंग' का नारा असफल रहा और कांग्रेस सत्ता में लौटी। कांग्रेस की जीत भाजपा के लिए करारा झटका थी क्योंकि साल 1999 में जीत के बाद पहली बार भाजपा केंद्र में पांच साल सरकार चलाने में सफल रही थी। भारतीय जनता पार्टी ने जहां 1999 का चुनाव 'विदेशी सोनिया' बनाम 'स्वदेशी वाजपेयी' पर लड़ा था, वहीं 2004 के आम चुनाव में पार्टी ने शाइनिंग इंडिया और फील गुड का नारा दिया, लेकिन चुनाव नतीजे आने पर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री बनने से इंकार कर दिया।
विज्ञापन
विज्ञापन
कांग्रेस को मिलीं 145 सीटें और मनमोहन सिंह बने पीएम  
इस चुनाव में कांग्रेस को 145 सीटें मिलीं। जबकि भाजपा के खाते में 138 सीटें आई। सीपीएम के खाते में 43 सीटें गई और सीपीआई 10 सीटें जीतने में कामयाब रही। बहुजन समाज पार्टी ने चुनाव में सबसे ज्यादा 435 उम्मीदवार खड़े किए थे। इनमें से 19 प्रत्याशियों ने ही जीत दर्ज की। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 9 प्रत्याशी चुनाव जीते। कांग्रेस ने बसपा, सपा और लेफ्ट फ्रंट के सहयोग से सरकार बनाई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रधानमंत्री बनने पर इनकार करने के बाद, पूर्व वित्त मंत्री मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। 
 
इस लोकसभा चुनाव में कुल 5,435 उम्मीदवार मैदान में उतरे थे। इनमें से 2385 निर्दलीय प्रत्याशी थे। कांग्रेस ने चुनाव में 417 उम्मीदवार उतारे थे। इनमें से 145 जीते। इस चुनाव में कांग्रेस को 26.53 फीसदी और भारतीय जनता पार्टी को 22.16 फीसदी मत मिले। भाजपा ने चुनाव में 364 उम्म्मीदवार खड़े किए थे। इनमें से 138 प्रत्याशियों को ही जीत नसीब हुई।


लखनऊ से अटल और रायबरेली से सोनिया जीतीं चुनाव
लखनऊ सीट से अटल बिहारी वाजपेयी की जीत हुई। वाजपेयी ने सपा की मधु गुप्ता को चुनाव हराया। रायबरेली से सोनिया गांधी ने समाजवादी पार्टी के अशोक कुमार सिंह को भारी मतों से चुनाव हराया। जबकि, अमेठी से राहुल गांधी चुनाव जीते। चुनाव में पीलीभीत से भाजपा के टिकट पर मेनका गांधी जीती, गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ सांसद चुन गए। मैनपुरी से समाजवादी पार्टी के मुलायम सिंह यादव ने बसपा के अशोक शाक्य को भारी मतों से चुनाव हराया। गुजरात की गांधीनगर सीट पर भाजपा के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कांग्रेस के जीएम ठाकोर को चुनाव हराया। महाराष्ट्र के बारामती में राकांपा के शरद पवार ने भाजपा प्रत्याशी को पराजित किया। 

भाजपा-कांग्रेस को किन राज्यों में मिली कितनी सीटें?
कांग्रेस को चुनाव में यूपी से 9 सीटें और बिहार से तीन सीटें मिलीं। आन्ध्र प्रदेश में कांग्रेस ने 29 सीटें और गुजरात में 12 सीटें जीतीं। दिल्ली में कांग्रेस के खाते में छह सीटें आईं। जबकि महाराष्ट्र में पार्टी ने 13 सीटें जीतीं। इसी तरह, भाजपा ने यूपी में सिर्फ 10 सीटें जीतीं और बिहार में पार्टी के खाते में पांच सीटें आई। गुजरात में भारतीय जनता पार्टी ने 14 सीटें और राजस्थान में 21 सीटें जीतीं। भाजपा ने कर्नाटक में 18 सीटें और मध्यप्रदेश में 25 सीटें जीतीं।

अरुणाचल और असम में भाजपा ने दो सीटें और हरियाणा व हिमाचल में एक-एक सीट जीती। कांग्रेस ने असम में नौ सीटें और हिमाचल प्रदेश में तीन सीटें जीतीं। मध्य प्रदेश से कांग्रेस के खाते में सिर्फ चार सीटें गईं। पंजाब में पार्टी ने दो और उत्तराखंड से एक सीट जीती।

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

मोबाइल के जरिए ज्योतिषाचार्यो से करें बातचीत और पाएं समाधान
Astrology

मोबाइल के जरिए ज्योतिषाचार्यो से करें बातचीत और पाएं समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

दुष्कर्म के आरोपी बसपा के नवनिर्वाचित सांसद अतुल राय को सुप्रीम कोर्ट से झटका

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस की अवकाश पीठ ने कहा कि वह राय को गिरफ्तारी से राहत देने वाली याचिका पर सुनवाई करने के पक्ष में नहीं हैं।

27 मई 2019

विज्ञापन

अमर उजाला की महिला सशक्तिकरण की मुहिम ‘अपराजिता’ के तहत 500 महिलाओं ने डाली नाटी

हिमाचल प्रदेश के मंडी में जिलास्तरीय बालीचौकी मेले में बालीचौकी स्कूल मैदान में 500 से अधिक महिलाएं अमर उजाला की महिला सशक्तीकरण की मुहिम ‘अपराजिता’ के तहत एक साथ नाटी डालकर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया।

27 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree