विज्ञापन
विधानसभा चुनाव 2018 विधानसभा चुनाव 2018

जानिए उस महिला स्वतंत्रता सेनानी के बारे में जिसके झंडा फहराते ही आजादी की जंग शुरू हो गयी…

श्रद्धा चतुर्वेदी Updated Sat, 11 Aug 2018 12:46 PM IST
अरुणा आसफ अली (फाइल फोटो)
अरुणा आसफ अली (फाइल फोटो)
ख़बर सुनें
आजाद भारत को 71 साल हो गए हैं। इसके साथ ही हम यह भी जानते हैं कि भारत की आजादी में जितना योगदान पुरुषों का रहा है उतना ही महिलाओं का भी है। अमर उजाला की इस सीरीज में हम आपको बताएंगे उन महिलाओं के बारे में जिन्होंने भारत की आजादी में एक ऐसी भूमिका निभाई जिसे कभी नहीं भुलाया जा सकता है। हमारी इस महिला स्वतंत्रता सेनानी फाइटर सीरीज में हम आपको उन कहानियों के बारे में बताएंगे, जो हमें किताबों में कभी पढ़ने को नहीं मिलीं। आज की सीरीज में जानिए अरूणा आसफ अली के बारे मेंः
विज्ञापन
विज्ञापन
अरूणा आसफ अली, अगस्त क्रांति की हिरोइन

देशभर में भारत छोड़ो या अगस्त क्रांति आंदोलन की शुरुआत 9 अगस्त 1942 को हुई थी। महात्मा गांधी ने 8 अगस्त को ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के बंबई महाअधिवेशन में इसकी घोषणा की। आंदोलन का मकसद भारत में ब्रिटिश शासन को पूर्ण रूप से देश के बाहर का रास्ता दिखाना था। अरुणा 'भारत छोड़ो' आंदोलन में एक नायिका के रूप में उभर कर सामने आईं। एक मध्यमवर्गीय बंगाली परिवार में जन्मीं अरूणा लाहौर के सेक्रेड हार्ट कॉन्वेंट स्कूल से पढ़ाई करने के बाद नैनीताल के ऑल सेंट्स कॉलेज में पढ़ने चली गयीं। स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद अरूणा ने एक स्कूल में शिक्षिका के तौर पर भी काम किया। यह वही दौर था जब उनकी मुलाकात आसफ अली से हुयी, जो कि खुद एक मशहूर वकील और भारत की आजादी में अहम भूमिका निभाने वाले स्वतंत्रता सेनानी थे।

बनीं दिल्ली की पहली महिला मेयर और मिले कई पुरस्कार

अरूणा साल 1958 में दिल्ली की पहली मेयर चुनी गईं। साल 1975 में लेनिन शांति पुरस्कार और 1991 में अंतर्राष्ट्रीय समझौते के लिए जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मरणोपरांत साल 1998 में उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया गया। साल 1930 में अरुणा पहली बार गांधी के सत्याग्रह आंदोलन में शामिल हुई। उन्होंने कई जुलूसों और धरनों का नेतृत्व किया जिसकी वजह से उन्हें कई बार ब्रिटिश शासन में इस दौरान उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा।

जब अरूणा गयीं जेल-

आसफ अली से मुलाकात के बाद अरूणा कांग्रेस से जुड़ गयीं। वह आजादी की मुहीम में शामिल होने लगीं। आसफ से उनकी शादी के दो साल बाद यानी 1930 में ही नमक सत्याग्रह हुआ। यह वह समय था जब गांधी जी ने नमक बनाकर ब्रिटिशों के खिलाफ भारत छोड़ो की मुहिम छेड़ी थी। अरूणा ने इस आंदेलन में आगे आकर हिस्सा लिया। जिसकी वजह से उनके जेल भी जाना पड़ा। 1931 में सविनय अवज्ञा आंदोलन (सिविल डिसओबेडियेंस मूवमेंट) में शामिल सभी लोगों को रिहा कर दिया गया। लेकिन अरुणा से ब्रिटिश सरकार इतना चिंतित थी कि उनको जेल से रिहा ही नहीं किया।

ब्रिटिश सरकार नें रखा 5000 का इनामः

8 अगस्त 1942 वह समय जब कांग्रेस ने भारत छोड़ो प्रस्ताव पारित किया, जिसके बाद कांग्रेस के कई बड़े नेता हिरासत में ले लिए गए। जिसके दूसरे दिन यानि 9 अगस्त को अरूणा आसफ अली गोवलिया टैंक मैदान पहुंची और वहां से झंडा फहराकर अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन की शुरूआत की। जिसके बाद अरूणा ब्रिटिश सरकार के निशाने पर आ गयीं। ब्रिटिश सरकार ने उनके नाम पर 5000 का इनाम भी रखा। इस बारे में ये भी सुनने के मिलता है कि खुद गांधी जी ने उनको चिट्टी लिखी की वो खुद को पुलिस के हवाले कर दें।

अरुणा को उनके गुजर जाने के बाद 1997 में भारत रत्न सम्मान दिया गया। दिल्ली में उनके नाम से अरुणा आसफ अली मार्ग है। अरूणा ने देश के लिए जो काम किए उसके लिए समय उन्हें हमेशा याद करता रहेगा।
 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News

विधानसभा चुनाव परिणाम 2018: आप को जनता ने किया खारिज, प्रत्याशियों से ज्यादा नोटा को मिले वोट

विधानसभा चुनाव नतीजों से पता चलता है तीन राज्यों में आम आदमी पार्टी के प्रत्याशियों को जनता ने सिरे से नकार दिया।

11 दिसंबर 2018

विज्ञापन

कांग्रेस की जीत पर हिंदी में बोले शशि थरूर, जनता ने ‘जुमलेबाजी’ का जवाब दिया

राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की जीत तय हो चुकी है। इस बीच पार्टी की लीड से गदगद शशि थरूर ने हिंदी में बयान देते हुए कहा कि जनता ने ‘जुमलेबाजी’ का जवाब दे दिया है।

11 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election