विज्ञापन

कौन थे असली 'ठग्स ऑफ हिंदुस्तान' जिनसे अंग्रेज भी डरते थे

बीबीसी हिंदी Updated Fri, 09 Nov 2018 01:47 PM IST
Real Thugs of Hindustan
Real Thugs of Hindustan - फोटो : BBC Hindi
ख़बर सुनें
ठग शब्द सुनते ही लोगों के दिमाग में एक चालाक और मक्कार आदमी की तस्वीर उभरती है जो झांसा देकर कुछ कीमती सामान ठग लेता है लेकिन भारत में 19वीं सदी में जिन ठगों से अंग्रेजों का पाला पड़ा था, वे इतने मामूली लोग नहीं थे।
विज्ञापन
ठगों के बारे में सबसे दिलचस्प और पुख्ता जानकारी 1839 में छपी किताब 'कनफेशंस ऑफ ए ठग' से मिलती है। किताब के लेखक पुलिस सुप्रीटेंडेंट फिलिप मीडो टेलर थे लेकिन किताब की भूमिका में उन्होंने बताया है कि उन्होंने 'इसे सिर्फ कलमबंद किया है।'

दरअसल, साढ़े पांच सौ पन्नों की किताब ठगों के एक सरदार आमिर अली खां का 'कनफेशन' यानी इकबालिया बयान है। फिलिप मीडो टेलर ने आमिर अली से जेल में कई दिनों तक बात की और सब कुछ लिखते गए। टेलर के मुताबिक, "ठगों के सरदार ने जो कुछ बताया, उसे मैं तकरीबन शब्दश: लिखता गया, यहां तक कि उसे टोकने या पूछने की जरूरत भी कम ही पड़ती थी।"

आमिर अली का बयान इतना ब्यौरेवार और दिलचस्प है कि वह एक उपन्यास बन गया और छपते ही उसने धूम मचा दी। रूडयार्ड किपलिंग के मशहूर उपन्यास 'किम' (1901) से करीब 60 साल पहले छपी इस किताब एक और खासियत थी कि यह किसी अंग्रेज का नजरिया नहीं बल्कि एक हिंदुस्तानी ठग का 'फर्स्ट पर्सन अकाउंट' है।

टेलर का कहना है कि आमिर अली जैसे सैकड़ों सरगना थे जिनकी देखरेख में ठगी का धंधा चल रहा था। आमिर अली से जब टेलर ने पूछा कि तुमने कितने लोगों को मारा तो उसने मुस्कुराते हुए कहा, "अरे साहब, वो तो मैं पकड़ा गया, नहीं तो हजार पार कर लेता। आप लोगों ने 719 पर ही रोक दिया।"

ठगी का आलम ये था कि अंग्रेजों को इनसे निबटने के लिए एक अलग डिपार्टमेंट बनाना पड़ा था, वही विभाग आगे चलकर इंटेलिजेंस ब्यूरो या आईबी के नाम से जाना गया।

टेलर ने लिखा है, "अवध से लेकर दक्कन तक ठगों का जाल फैला था, उन्हें पकड़ना इसलिए बहुत मुश्किल था क्योंकि वे बहुत खुफिया तरीके से काम करते थे। उन्हें आम लोगों से अलग करने का कोई तरीका ही समझ नहीं आता था। वे अपना काम योजना बनाकर और बेहद चालाकी से करते थे ताकि किसी को शक न हो।"

ठगों से निबटने के लिए बने डिपार्टमेंट के सुपरिटेंडेंट कैप्टन रेनॉल्ड्स ने 1831 से 1837 के बीच ठगों पर हुई कार्रवाइयों का 1838 में ब्योरा दिया था। इस ब्योरे के मुताबिक, पकड़े गए जिन 1059 लोगों का दोष पूरी तरह साबित नहीं हो सका उन्हें दूर मलेशिया के पास पेनांग टापू पर ले जाकर छोड़ दिया गया ताकि वे दोबारा वारदात न कर सकें। इसके अलावा, 412 को फांसी दी गई और 87 को आजीवन कारावास की सजा हुई।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

ठगों की खुफिया रहस्यमय जिंदगी

विज्ञापन

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

भारत-चीन बार्डर पर बन रही रणनीतिक तौर पर अहम 44 सड़कें, युद्ध हुआ तो तुरंत पहुंचेगी सेना

भारत-चीन सीमा पर केंद्र सरकार 44 सड़कें बनवाने की तैयारी में जुट गई है। इसके साथ ही पाकिस्तान से सटे पंजाब और राजस्थान में करीब 2100 किलोमीटर की मुख्य एवं संपर्क सड़कों का निर्माण करेगी। इन सड़कों को सामरिक रूप से महत्वपूर्ण बताया जा रहा है।

17 जनवरी 2019

विज्ञापन

BJP अध्यक्ष अमित शाह को हुआ स्वाइन फ्लू, AIIMS में भर्ती

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू हो गया है जिसकी जानकारी खुद अमित शाह ने ट्वीटर पर दी.. अमित शाह को देर रात एम्स में भर्ती कराया गया है

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree