लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   ISRO Chief says Gaganyaan mission can not happen this year or next year focus fully on safety aspects

ISRO: गगनयान मिशन पर इसरो प्रमुख का बड़ा बयान, अगले साल तक नहीं हो पाएगी मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, श्रीहरिकोटा Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Thu, 30 Jun 2022 10:56 PM IST
सार

इसरो प्रमुख ने ये बयान तब दिया जब श्रीहरिकोटा में स्पेसपोर्ट पर इसरो द्वारा तीन विदेशी उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया गया। यहां उन्होंने कहा कि गगनयान मिशन में सुरक्षा को लेकर परीक्षण किए जा रहे हैं।

गगनयान मिशन (सांकेतिक चित्र)
गगनयान मिशन (सांकेतिक चित्र)
ख़बर सुनें

विस्तार

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने गुरुवार को महत्वाकांक्षी गगनयान मिशन के बारे में बड़ा एलान किया। उन्होंने देश की पहली मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान के बारे में घोषणा करते हुए कहा कि ये उड़ान इस साल या अगले साल नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि हम पहले यह सुनिश्चित करेंगे कि यान में सभी सुरक्षा प्रणालियां मौजूद हैं कि नहीं। उन्होंने कहा कि यह एक बहुत महत्वपूर्ण मिशन है, इसलिए जब इंसानों को अंतरिक्ष में भेजा जाएगा तो सुरक्षा पर बहुत ध्यान देना होगा।



सुरक्षा पर विशेष ध्यान
इसरो प्रमुख ने ये बयान तब दिया जब श्रीहरिकोटा में स्पेसपोर्ट पर इसरो द्वारा तीन विदेशी उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया गया। यहां उन्होंने कहा कि गगनयान मिशन में सुरक्षा को लेकर परीक्षण किए जा रहे हैं। इस दौरान इसरो प्रमुख ने जोर देकर कहा कि अगले साल के मध्य में एक मानव रहित मिशन को अंजाम दिया जाएगा और सुनिश्चित किया जाएगा कि सब कुछ ठीक है। उन्होंने कहा कि अगर हम अंतरिक्ष में मानव को भेजना चाहते हैं तो हमें पहले सुरक्षा प्रणाली को हर प्रकार से चेक करना होगा। इसके लिए कई बार कई परीक्षण करने होंगे। 


चंद्रयान-3 को लेकर बोली यह बात
इस दौरन चंद्रयान-3 के बारे में बोलते हुए इसरो प्रमुख सोमनाथ ने कहा कि वर्तमान में बहुत सारे परीक्षण किए जा रहे हैं।  उन्होंने कहा कि इस बार हमें चांद पर जाने की कोई जल्दी नहीं है। इस समय हम परीक्षण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बार हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम चाँद पर उतरें। 

इस दौरान कुलशेखरपट्टिनम में स्पेसपोर्ट के बनने को लेकर इसरो प्रमुख सोमनाथ ने कहा कि इसरो के हाथों में 2,000 एकड़ जमीन आ गई है। जिस क्षेत्र में हमें लॉन्च पैड बनाना है, वह हमारे पास है। इसके साथ ही डिजाइन प्रक्रिया भी पूरी हो गई है। अब  निविदा प्रक्रिया शुरू की जाएगी। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00