वैश्विक बौद्धिक संपदा सूचकांक में 44वें पायदान पर पहुंचा भारत

एजेंसी, वाशिंगटन Updated Thu, 08 Feb 2018 09:09 PM IST
India ranked 44 in Intellectual Property list among the world
ख़बर सुनें
भारत का प्रदर्शन हालिया अंतरराष्ट्रीय बौद्धिक संपदा सूचकांक में बेहतर हुआ है और पिछले साल की तुलना में देश एक पायदान चढ़कर 44वें स्थान पर आ गया है। हालांकि अभी भी भारत 50 देशों की सूची में नीचे ही बना हुआ है।
अमेरिकी उद्योग संगठन यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स के वैश्विक अभिनव नीति केंद्र (जीआईपीसी) ने बृहस्पतिवार को इस सूचकांक को जारी किया। इसके अनुसार छठवें संस्करण में भारत को 40 में से 12.03 अंक यानी 30 फीसदी अंक प्राप्त हुए हैं। 

पिछले संस्करण में भारत को 35 में से 8.75 अंक यानी 25 प्रतिशत अंक हासिल हुए थे। रिपोर्ट में कहा गया कि भारत का प्रदर्शन नए सूचकांकों पर अपेक्षाकृत बेहतर रहा है। इसके साथ ही कंप्यूटर प्रभावी आविष्कारों के पेटेंट तथा पंजीयन प्रक्रिया में सुधार के सकारात्मक प्रयास किए गए हैं। 

इस सूचकांक में 37.98 अंक के साथ अमेरिका पहले, 37.97 अंक के साथ ब्रिटेन दूसरे और 37.03 अंक के साथ स्वीडन तीसरे स्थान पर रहा है। आंकड़ों में बढ़ोतरी के बावजूद भारत अभी भी सूची में नीचे ही बना हुआ है। पिछले साल भारत 45 देशों में से सूचकांक में 43 वें स्थान पर आया था  जिसमें भारत को कुल 8.4 अंक मिले थे।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

बीजेपी नेता को महंगी पड़ी महिला पत्रकार पर विवादित टिप्पणी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया गिरफ्तारी का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु के भाजपा नेता एस वीई शेखर वेंकटरमण को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है।

22 मई 2018

Related Videos

स्मार्टफोन से दूर रहे सवारी, इसलिए ये ड्राइवर अपनी टैक्सी में रखता है कॉमिक्स

कोलकाता में एक ऐसे टैक्सी ड्राइवर हैं, जिन्होंने अपनी सोच से लोगों के नजरिये को बदलने का काम किया है। बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए धनंजय चक्रवर्ती ने अपनी टैक्सी की छत पर घास उगानी शुरू की थी अब वे लोगों को स्मार्टफोन की लत से बचाने की जुगत में लगे हैं।

22 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen