लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Guthi Koya tribals, Forest officer killing brings vexed Podu lands issue into focus in Telangana

Telangana: वन अधिकारी की हत्या के बाद सुर्खियों में आया पोडू भूमि का मुद्दा, जानें क्या है पूरा मामला?

पीटीआई, हैदराबाद Published by: संजीव कुमार झा Updated Wed, 07 Dec 2022 10:20 AM IST
सार

गुथी कोया आदिवासियों द्वारा तेलंगाना में एक वन अधिकारी की हत्या के बाद से  'पोडू' भूमि (स्थानांतरित खेती) का मुद्दा फिर से गरमा गया है।

पोडू भूमि विवाद
पोडू भूमि विवाद - फोटो : Social Media

विस्तार

गुथी कोया आदिवासियों द्वारा तेलंगाना में एक वन अधिकारी की हत्या के बाद से  'पोडू' भूमि (स्थानांतरित खेती) का मुद्दा फिर से गरमा गया है। आदिवासी एक बार फिर से इस मुद्दे को उठा रहे हैं और जमीन पर अधिकार की मांग कर रहे हैं। बता दें कि 22 नवंबर को भद्राद्री कोठागुडेम जिले के एक वन क्षेत्र के अंदर 'पोडू' की खेती में शामिल आदिवासियों के एक समूह द्वारा हमला किए जाने के बाद वन रेंज अधिकारी श्रीनिवास राव की मृत्यु हो गई। बताया जा रहा है कि श्रीनिवास राव  चंद्रगोंडा मंडल के बेंदलापाडु गांव में वृक्षारोपण को काटने से रोक रहे थे और इसी दौरान कुछ आदिवासियों ने उनपर हमला कर दिया।



जानें क्या है विवाद?
चूंकि पोडू विषय केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में है, इसलिए राज्य सरकार इस समस्या को हल करने में असमर्थ है। चूंकी केंद्र सरकार ने कट-ऑफ डेट तय की और 13 दिसंबर, 2005 तक वन भूमि पर कब्जा करने वाले आदिवासियों को ही अधिकार दिए।  लेकिन राज्य सरकार का विचार है कि केंद्र सरकार को अनुसूचित जनजाति और अन्य पारंपरिक वन निवासी (वन अधिकारों की मान्यता) अधिनियम में संशोधन करना चाहिए और  कट ऑफ डेट को आगे बढ़ाना चाहिए।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00