लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Financial frauds hamper countrys overall growth says court convicts three bankers in cheating case

Maharashtra: देना बैंक के तीन अधिकारियों समेत चार को दो साल का सश्रम कारावास, करोड़ों की धोखाधड़ी का मामला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Published by: निर्मल कांत Updated Sat, 01 Apr 2023 08:05 PM IST
सार

विशेष सीबीआई अदालत ने वित्तीय धोखाधड़ी के मामले देना बैं के तीन अधिकारियों के अलावा नरगिस दिवेंत्री को भी मामले में दोषी पाया और सभी आरोपियों को दो साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। 

Financial frauds hamper countrys overall growth says court convicts three bankers in cheating case
court Order

विस्तार

मुंबई की एक विशेष अदालत ने धोखाधड़ी के 19 साल पुराने मामले में तीन बैंकरों को दोषी ठहराया। इसके साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि धोखाधड़ी से अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान होता है और देश के समग्र विकास में बाधा आती है। 



विशेष सीबीआई न्यायाधीश डीपी सिंगाडे ने देना बैंक के तीन अधिकारियों श्रींकात पडाले (51 वर्षीय), विजया नायर (46 वर्षीय) और वी राधाकृष्णन (61 वर्षीय) को भ्रष्टाचार निरोधक कानून और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत आरोपों का दोषी पाया। 30 मार्च को पारित आदेश शनिवार को उपलब्ध कराया गया।


अदालत ने  इन तीनों के अलावा नरगिस दिवेंत्री (49 वर्षीय) को भी मामले में दोषी पाया और सभी आरोपियों को दो साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। अभियोजन पक्ष के मुताबिक, आरोपी अधिकारियों ने 2003 में यहां देना बैंक की कालबादेवी शाखा को धोखा देने और गलत तरीके से नुकसान पहुंचाने के लिए लोगों के साथ आपराधिक साजिश रची थी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed