पहाड़ों के चितेरे कवि गंगा प्रसाद विमल की सड़क दुर्घटना में मौत, वरिष्ठ साहित्यकारों ने जताया दुख

अमित शर्मा, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Harendra Chaudhary Updated Wed, 25 Dec 2019 06:00 PM IST

सार

  • जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन कॉलेज और पंजाब विश्वविद्यालय में संभाली बड़ी जिम्मेदारी
  • केंद्रीय हिंदी निदेशालय के निदेशक के तौर पर भी किया काम
  • कविताएं और उपन्यास रहे प्रमुख पहचान, अनुवाद में भी निभाई भूमिका
  • मानुसखोर (2013) रहा अंतिम उपन्यास
Ganga Prasad Vimal
Ganga Prasad Vimal - फोटो : AmarUjala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

हिंदी साहित्य में पहाड़ों के सौंदर्य को विशेष रूप से रेखांकित करने वाले वरिष्ठ साहित्यकार गंगा प्रसाद विमल नहीं रहे। मंगलवार शाम को श्रीलंका में एक सड़क दुर्घटना के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। अपने मित्रों और सहकर्मियों के बीच हंसमुख और जिंदादिल स्वभाव के लिए याद किए जाने वाले गंगा प्रसाद विमल के अंतिम क्षणों में यह बात और दुखद रही कि इस दुर्घटना में उनके साथ-साथ उनकी बेटी और टीवी पत्रकार कनुप्रिया और नातिन की भी मौत हो गई।
विज्ञापन

दुर्घटना के समय वे मटारा से कोलंबो की यात्रा कर रहे थे। श्रीलंका पुलिस के मुताबिक उनके वाहन के ड्राइवर को गाड़ी चलाते समय नींद आ गई थी, जिससे उनका वाहन एक लॉरी से टकरा गया। गंगा प्रसाद विमल से जुड़े रहे साहित्यकारों ने उनके देहावसान को हिंदी साहित्य की अपूरणीय क्षति बताया है। उन्होंने जवाहरालाल विश्वविद्यालय, दिल्ली यूनिवर्सिटी, पंजाब यूनिवर्सिटी और केंद्रीय हिंदी संस्थान के निदेशक के रुप में अनेक बड़ी जिम्मेदारियां निभाई थीं। वे 80 वर्ष के थे।


गंगा प्रसाद विमल के साथ काम कर चुके प्रसिद्ध व्यंगकार गोपाल चतुर्वेदी ने अमर उजाला को बताया कि वे बेहद प्रगतिशील विचारों के धनी व्यक्ति थे। कट्टरपंथी और दक्षिणपंथी विचारधारा के वे कठोर आलोचक थे। गोपाल चतुर्वेदी ने कहा कि इस समय देश में नागरिकता संशोधन विधेयक और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर को लेकर विवाद चल रहा है। इस समय में अगर गंगा प्रसाद विमल से टिप्पणी ली जाती, तो शायद वे केवल इतना ही कहते कि आखिर इन लोगों से इसके अलावा और उम्मीद भी क्या की जा सकती है?

उन्होंने कहा कि उनका हंसमुख स्वभाव सबको आकर्षित करने वाला था। लेकिन यह उनके बाह्य स्वभाव का ही हिस्सा था क्योंकि अपने लेखन में वे बहुत गंभीर थे। उनके उठाए मुद्दे समसामयिक मुद्दों पर करारी चोट करते थे। 
 
वरिष्ठ हिंदी व्यंगकार गोपाल चतुर्वेदी ने बताया कि उनकी गंगा प्रसाद विमल से इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में अक्सर मुलाकात होती थी। उन्होंने मेरी (गोपाल चतुर्वेदी की) कई पुस्तकों की समीक्षा लिखी थी। अच्छी मित्रता के बाद भी पुस्तकों की समीक्षा के दौरान वे बेहद कठोर रहा करते थे और हमेशा बेबाकी से अपनी बात कहते थे। हालांकि, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में बिल चुकाने को लेकर उनके बीच हमेशा दोस्ताना बहस हो जाती थी। वे अपने दोस्तों पर खुले दिल से खर्च करने वाले इंसान थे।

उन्होंने कहा कि पिछले महीने ही उनसे मुलाकात हुई थी। फोन पर घंटों बात हो जाती थी। घुमक्कड़ी स्वभाव के विमल का अंत भी एक यात्रा के दौरान होगा, यह किसी ने सोचा न था। उन्हें विमल के देहावसान से व्यक्तिगत और पारिवारिक क्षति हुई है।

प्रकाशक मित्र ने जताया दुख

अरुण माहेश्वरी स्वयं एक साहित्यकार होने के साथ-साथ एक प्रकाशक भी हैं। उन्होंने बताया कि उन्होंने गंगा प्रसाद विमल की कई पुस्तकों का प्रकाशन किया है। अरुण माहेश्वरी के मुताबिक गंगा प्रसाद विमल एक सहज, सरल बाल हृदय व्यक्ति थे। बच्चों से उन्हें बहुत प्रेम था। कबीर और सूफी संतों पर उन्होंने न सिर्फ काम किया, बल्कि उनका आनंदित रहने वाला स्वभाव उनके अंदर समाहित हो गया था। मानुसखोर (2013) गंगा प्रसाद विमल का अंतिम उपन्यास था।

इस उपन्यास में भी उन्होंने पहाड़ों की समस्याओं का ही जिक्र किया था। अरुण माहेश्वरी के मुताबिक गंगा प्रसाद विमल की विचारधारा गंगा नदी के समान पवित्र भी थी और कल्याणकारी भी। उनका लेखन हमेशा विविधता लिए होता था जिसके कारण उन्हें कभी किसी श्रेणी में बांधना संभव नहीं होता था, लेकिन उनके लेखन की गंभीरता पाठकों को वैचारिक सागर की गहराई में ले जाता था। 
 
प्रसिद्ध व्यंगकार सुभाष चंदर ने कहा कि गोपाल प्रसाद विमल उनके बेहद करीबी मित्र थे। उनकी सहज-सरल टिप्पणी भी समसामयिक घटनाओं पर करारा व्यंग्य किया करती थीं। उन्होंने लेखन के तौर पर स्वयं को एक व्यंगकार के रुप में विकसित नहीं किया, लेकिन साहित्यिक चर्चाओं में उनके भाषण ही व्यंगकारों को उनकी लेखनी के लिए खुराक दे दिया करते थे, क्योंकि उनके भाषण सटीक व्यंग से भरे हुए होते थे। उन्होंने विमल जी के देहावसान को अपनी व्यक्तिगत क्षति बताया है।

प्रमुख कृतियांः-

गोपाल प्रसाद विमल ने अपने लगभग 50 साल के साहित्यिक करियर में सैकड़ों उच्चकोटि की रचनाएं कीं। इनमें कविताएं, उपन्यास और अनुवाद सभी शामिल रहे। लेकिन 'बोधिवृक्ष' (1983) और 'कुछ तो है' विशेष रुप से प्रसिद्ध हुए। इसके अलावा कोई शुरुआत, अतीत में कुछ, चर्चित कहानियां और समग्र कहानियां कहानी संग्रह काफी लोकप्रिय रहे। अपने से अलग, कहीं कुछ और, मृगांक और मानुसखोर उनके उपन्यासों ने अपने पाठकों पर अमिट छाप छोड़ी।

इसके अलावा उन्होंने कई प्रमुख पुस्तकों का अनुवाद कार्य भी किया। लेकिन प्रकाशक बताते हैं कि उन्होंने अपने लेखन में कहीं भी अनुवाद की छाप नहीं आने दी।

गंगा प्रसाद विमल की एक कविता के अंश इस प्रकार हैं-

कुछ भी लिखूंगा
बनेगी
तुम्हारी स्तुति
ओ प्यारी धरती।
पहाड़ ही नहीं जन्मे तुमने
न घाटियां क्षितिज तक पहुंचने वाली
फैलाव में
रचा है तुमने आश्चर्य
आश्चर्य की इस खेती में
उगते हैं
निरंतर नए अचरज
मैं नहीं
अंतरिक्ष भी आवाक है
देखकर तुम्हारा तिलिस्म।
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00