विज्ञापन

नागरिकता बिल पर पूर्वोत्तर में उबाल, जनजीवन अस्त-व्यस्त, तिनसुकिया डिवीजन ने आठ ट्रेनों को किया रद्द

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गुवाहाटी Updated Tue, 10 Dec 2019 10:23 PM IST
विज्ञापन
असम में नागरिकता विधेयक का काफी विरोध हो रहा है
असम में नागरिकता विधेयक का काफी विरोध हो रहा है - फोटो : ANI
ख़बर सुनें
असम में नागरिकता (संशोधन) विधेयक के खिलाफ दो छात्र संगठनों के राज्यव्यापी बंद के आह्वान के बाद ब्रह्मपुत्र घाटी में जनजीवन ठप है। ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन और नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन की ओर से बुलाए गए 11 घंटे के बंद का असर बंगाली बहुल बराक घाटी में कुछ खास नहीं रहा। शहर के मालीगांव क्षेत्र में एक सरकारी बस पर पत्थरबाजी हुई और एक स्कूटर को आग के हवाले कर दिया गया। वहीं आसामी अभिनेता उत्पल दास और अभिनेत्री वर्षा रानी बिस्वास भी इस प्रदर्शन में शामिल हो गए हैं।
विज्ञापन
 

लोकसभा में पारित हो चुके नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर पूर्वोत्तर के राज्य में मंगलवार को आयोजित बंद को लेकर जनजीवन खासा प्रभावित हुआ। नार्थ ईस्ट स्टूडेंट यूनियन एनईएसओ ने इस बंद का आह्वान किया है। एनईएसओ पूर्वोत्तर में सक्रिय छात्र संगठनों का शीर्ष संगठन है। बंद का सबसे अधिक असर असम, मणिपुर, मेघालय  में देखने को मिला जबकि अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम में बंद सामान्य ही रहा।

प्रदर्शन को देखते हुए आठ ट्रेनें रद्द

भारतीय रेलवे ने असम के तिनसुकिया डिवीजन ने आठ ट्रेनों को रद्द कर दिया है साथ ही आठ ट्रेनों को कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया गया है। ऐसा कई संगठनों और संघों द्वारा अनिश्चितकालीन रेल रोको अभियान चलाने के बाद किया गया है।

असम में दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद

असम की ब्रह्मपुत्र घाटी इलाके में बंद का खासा असर रहा और यहां के छात्र संगठनों और वाम संगठनों ने जोरदार ढंग से विरोध प्रदर्शन किया। इन संगठनों में  ऑल असम स्टूडेंट यूनियन, नार्थ ईस्ट स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन सहित एसएफआई, एडवा, आइसा, एआईएसएफ, डीवाईएफआई शामिल थे। हालांकि  बांग्ला प्रभुत्व वाले बराक घाटी में इस बंद का अधिक असर नहीं दिखा। अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्य में कई जगहों पर दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठन बंद रहे। गुवाहाटी में विधेयक के विरोध में कई जगह प्रदर्शन किया गया। सचिवालय के निकट आंदोलनकारियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प भी हुई। यहां रेलवे प्रवक्ता नं बताया कि आंदोलन की वजह से कई जगहों पर रेल यातायात प्रभावित हुआ। सड़कों पर सार्वजनिक और निजी वाहन नदारद ही रहे। ड्रिबूगढ़ में प्रदर्शनकारी सीआईएसएफ जवानों के बीच मामूली हिंसा भी हुई। इस घटना में तीन जवानों को चोटें भी आई हैं।  

अरुणाचल प्रदेश में 11 घंटे का बंद

नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर अरुणाचल प्रदेश में 11 घंटे का बंद आयोजित किया गया। इस दौरान बैंक, वाणिज्यिक संस्थान और बाजार पूरी तरह से बंद रहे अैर सड़कों पर निजी वाहन नहीं उतरे। सरकारी दफ्तरों में भी उपस्थिति बेहद कम रही।

मणिपुर में शाम तीन घंटे का बंद

विधेयक के विरोध में ऑल मणिपुर स्टूडेंट यूनियन ने मंगलवार शाम तीन बजे से छह बजे तक का पूर्ण बंद का आह्वान किया। यूनियन ने यहां तक कहा है कि अगर विधेयक फौरन वापस नहीं लिया गया तो वे अपना आंदोलन और तेज कर देंगे। ऑल मणिपुर स्टूडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष एलए मैतेई ने कहा कि केंद्र सरकार के पैर वापस खींचने तक उनका आंदोलन चलेगा।

मेघालय में सुबह पांच से शाम चार बजे तक बंद ।

मेघालय में खासी स्टूडेंट यूनियन ने बंद आयोजित कयिा और इस दौरान दुकानों, व्यापारिक संस्थानों और बाजारों का शटर गिरा ही रहा। राज्य में शैक्षिक और वित्तीय संस्थाएं भी बंद रहीं। कुछ जगहों पर टायर जलाने की घटनाएं भी सामने आई। प्रशासन ने संवेदनशील जगहों पर पुलिस और सीआरपीएफ के अतिरिक्त जवानों को बतौर एहतियातन तैनात किया गया।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us