विज्ञापन

प्रदर्शनों से ठप हुई दिल्ली, जामा मस्जिद से जंतर-मंतर तक सड़क पर प्रदर्शनकारी, सुरक्षा चुस्त

अमित शर्मा, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 20 Dec 2019 06:10 PM IST
विज्ञापन
Jama Masjid Protest
Jama Masjid Protest - फोटो : PTI
ख़बर सुनें

सार

  • जामा मस्जिद पर अभी भी डटे हैं हजारों प्रदर्शनकारी, शांतिपूर्ण रहा प्रदर्शन  
  • दिल्ली गेट पर लगातार हो रही है नारेबाजी
  • सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था के कारण कोई अप्रिय घटना नहीं घटी

विस्तार

एनआरसी और नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 का पूरे देश में पुरजोर तरीके से विरोध जारी है। शुक्रवार को दिल्ली के साथ-साथ देश के अनेक हिस्सों में बड़ी संख्या में प्रदर्शन हुए। यूपी में कई जगहों पर हिंसक घटनाएं होने की बात सामने आई है। प्रदर्शन के लिहाज से शुक्रवार का दिन बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा था। सुरक्षा एजेंसियों को आशंका थी कि दोपहर में नमाज के बाद भारी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर सकते हैं। इन प्रदर्शनों का फायदा उठाकर अराजक तत्व हिंसा भड़काने की साजिश कर सकते हैं।
विज्ञापन

इसी को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने जामा मस्जिद पर प्रदर्शन करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था। हालांकि, इसके बाद भी पुलिस को धता बताते हुए भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर वहां पहुंच गए। उन्होंने लोगों के बीच जमकर नारेबाजी की और सरकार से कथित तौर पर भेदभाव करने वाला कानून वापस लेने की मांग की। प्रशासन की चौकसी के कारण बड़े स्तर पर प्रदर्शन तो नहीं किया जा सका, लेकिन फिर भी प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे और एनआरसी और नागरिकता कानून के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की।

दिल्ली गेट पर रोका गया

हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी जामा मस्जिद के गेट नंबर एक से निकले और दरियागंज के मुख्य चौराहे की तरफ आगे बढ़े। प्रदर्शनकारियों ने वहां पर कुछ देर रुक कर केंद्र सरकार और नागरिकता कानून के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद प्रदर्शनकारी दिल्ली गेट से होते हुए पहले शहीदी पार्क और उसके बाद जंतर-मंतर पर जाना चाहते थे। लेकिन सुरक्षा बलों ने दिल्ली गेट पर मार्ग पूरी तरह रोक दिया था, जिसके कारण प्रदर्शनकारी आगे नहीं बढ़ पाए।
हालांकि, वहीं पर रुककर प्रदर्शनकारियों ने लगातार नारेबाजी की। इस दौरान जामा मस्जिद के गेट नंबर एक, नेता सुभाष चंद्र मार्ग और रघुनाथ मंदिर मार्ग पर हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी डटे रहे और लगातार नारेबाजी करते रहे। आगे बढ़ने की कोशिश में उनकी प्रशासन से हल्की धक्कामुक्की भी होती रही।  

दिल्ली गेट और जंतर-मंतर पूरी तरह बंद

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने लालकिले के सामने बने जामा मस्जिद के गेट नंबर दो को पूरी तरह बंद कर दिया था। इससे सुभाष चंद्र मार्ग पर पूरे दिन वाहनों की सामान्य आवाजाही बनी रही। लेकिन दिल्ली गेट के इलाके में पूरी तरह आवाजाही को रोक दिया गया था। प्रदर्शनकारियों के जंतर-मंतर पहुंचने की भी योजना थी। इसे ध्यान में रखते हुए जंतर-मंतर पर भी भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था। इस दौरान तीन स्तर की बैरीकेडिंग की गई थी ताकि प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोका जा सके।
 
इस दौरान सुरक्षा के मद्देनजर जामा मस्जिद के साथ-साथ कई अन्य मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया था। प्रशासन ने अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए कई जगहों पर इंटरनेट पर भी प्रतिबंध लगा दिया था। पुलिस ने अनेक इलाकों के प्रवेश मार्ग पर बैरीकेडिंग लगा रखी थी। इसमें आईटीओ, राजघाट, लालकिला, जामा मस्जिद और जामियानगर जैसे इलाके शामिल हैं।  

दूसरे इलाकों में भी प्रदर्शन

दिल्ली के केंद्रीय इलाकों के अलावा अन्य हिस्सों में भी प्रदर्शन आयोजित किए गए। इनमें पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर, जाफराबाद, शास्त्री पार्क, जामिया नगर और ईदगाह के आसपास कई प्रदर्शन आयोजित किए गए। शुक्रवार सुबह से भी पुलिस ने इन जगहों पर फ्लैग मार्च किया था। सुरक्षा मजबूत बनाए रखने के लिए सभी जगहों पर अतिरिक्त फोर्स की तैनाती की गई थी।

लोगों ने क्या कहा

प्रदर्शनकारियों का सबसे बड़ा गुस्सा इस बात पर है कि नागरिकता कानून में धार्मिक आधार पर एक धर्म के लोगों को कानून से बाहर रखा गया है। लोगों ने कहा कि भारत में पहले से ही अनेक प्रकार की समस्याएं हैं। ऐसे में बाहर से आ रहे लोगों को भारत की नागरिकता देने का कोई औचित्य नहीं है।
 
जमील अंजुम देहलवी ने अमर उजाला को बताया कि सरकार ने इस कानून के साथ ही अपने मंसूबे जाहिर कर दिये हैं। वह लोगों को धर्म के आधार पर बांटना चाहती है। लेकिन वे किसी कीमत पर ऐसा नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि उनका प्रदर्शन केवल विरोध दिखाने तक सीमित नहीं रहेगा, बल्कि जब तक सरकार यह कानून वापस नहीं लेती है, उनके विरोध जारी रहेंगे।       
 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us