लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Ban Non-Veg Food at Govt Functions, Private Bills to to be tabled

Parliament: सरकारी कार्यक्रमों में मांसाहार-निजी क्षेत्र में रिश्वतखोरी पर लगे रोक, शीत सत्र आएंगे ये विधेयक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Thu, 01 Dec 2022 09:50 PM IST
सार

सदस्यों ने लोकसभा के विचारार्थ कुल 20 निजी विधेयक पेश करने का प्रस्ताव दिया है। इन्हें लोकसभा की कार्यसूची में सूचीबद्ध किया गया है। हालांकि, अधिकांश निजी विधेयकों को संक्षिप्त चर्चा के बाद खारिज कर दिया जाता है। आजादी के बाद से अब तक मात्र 14 ऐसे विधेयक ही पारित हो सके हैं। 

संसद का शीतकालीन सत्र
संसद का शीतकालीन सत्र - फोटो : ANI

विस्तार

सभी सरकारी कार्यक्रमों के दौरान मांसाहार (non-veg food) परोसने की मांग उठी है। इसे लेकर संसद के शीत सत्र में निजी विधेयक लाए जा रहे हैं। ऐसा ही एक विधेयक निजी क्षेत्र में रिश्वतखोरी पर लगाम के लिए भी लाया जाएगा। इन पर सत्र में गंभीर मंथन हो सकता है।



इन दो निजी विधयकों के अलावा भी कुछ अन्य ऐसे ही विधेयक शीत सत्र में लाए जाने की संभावना है। सदस्यों ने लोकसभा के विचारार्थ कुल 20 निजी विधेयक पेश करने का प्रस्ताव दिया है। इन्हें लोकसभा की कार्यसूची में सूचीबद्ध किया गया है। हालांकि, अधिकांश निजी विधेयकों को संक्षिप्त चर्चा के बाद खारिज कर दिया जाता है। आजादी के बाद से अब तक मात्र 14 ऐसे विधेयक ही पारित हो सके हैं। अंतिम निजी विधेयक 1970 में पारित किया गया था। 




जर्मनी में लगाई गई है रोक : सांसद प्रवेश वर्मा
पश्चिमी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने सरकारी बैठकों और कार्यक्रमों में मांसाहारी भोजन परोसने पर रोक की मांग करते हुए निजी विधेयक का प्रस्ताव किया है। इसे सूचीबद्ध किया गया है। वर्मा का कहना है कि जर्मनी के पर्यावरण मंत्रालय ने सरकारी बैठकों और कार्यक्रमों में मांसाहारी भोजन पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव रखा क्योंकि इसका जलवायु और ग्लोबल वार्मिंग पर बहुत बड़ा प्रभाव है। भारत में भी हम मांसाहारी भोजन छोड़ने की पहल कर सकते हैं।

रमा देवी लाएंगी निजी क्षेत्र में रिश्वत के खिलाफ विधेयक
इसी तरह, भाजपा सांसद रमा देवी निजी क्षेत्र में रिश्वतखोरी को रोकने के लिए एक विधेयक लाने जा रही हैं। वहीं, उत्तराखंड के पूर्व सीएम व सांसद तीरथ सिंह रावत ने देश के सभी स्कूलों में योग शुरू करने के लिए एक विधेयक लाने की योजना बनाई है। 

मनरेगा कानून में संशोधन के लिए विधेयक
उधर, केरल से दो विपक्षी सांसद एन.के. प्रेमचंद्रन और वी.के. श्रीकंदन मनरेगा कानून की धारा 3 में संशोधन के लिए विधेयक लाएंगे। इस धारा में प्रावधान है कि सरकार प्रत्येक श्रमिक को एक वर्ष में अधिकतम 100 दिन रोजगार देगी। विपक्ष इसे 150 दिन करना चाहता है। हालांकि, सरकार इस मांग को पहले ही खारिज कर चुकी है। 
विज्ञापन

16 नए विधेयक पेश करने की तैयारी
सरकार शीतकालीन सत्र में 16 नए विधेयक पेश कर सकती है। इसमें बहु-राज्यीय सहकारी समितियों में जवाबदेही बढ़ाने और चुनावी प्रक्रिया में सुधार से संबंधित विधेयक शामिल हैं। राष्ट्रीय दंत चिकित्सा आयोग विधेयक भी पेश किया जा सकता है। इसमें राष्ट्रीय दंत चिकित्सा आयोग की स्थापना और दंत चिकित्सक कानून, 1948 को निरस्त करने का प्रस्ताव है। इसके साथ ही राष्ट्रीय नर्सिंग आयोग संबंधी विधेयक भी पेश किए जाने की संभावना है, जिसमें राष्ट्रीय नर्सिंग आयोग (एनएनएमसी) स्थापित करने एवं भारतीय नर्सिंग परिषद कानून 1947 को निरस्त करने का प्रस्ताव है। इस दौरान बहु-राज्यीय सहकारी समितियां (संशोधन) विधेयक, छावनी विधेयक, पुराना अनुदान (विनियमन) विधेयक, वन (संरक्षण) संशोधन विधेयक, तटीय जलकृषि प्राधिकरण (संशोधन) विधेयक आदि भी पेश किए जा सकते हैं।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00