लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Ashoka Stambh National Emblem designer Laxman Vyas exclusive interview to Amar Ujala explains art behind creation news in hindi

Ashoka Stambh National Emblem: नए संसद भवन पर स्थापित राष्ट्रीय चिह्न की प्रतिकृति क्यों खास? आंकड़ों में समझें

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र Updated Thu, 14 Jul 2022 11:25 PM IST
सार

दिल्ली में नए संसद भवन की छत पर स्थापित की गई अशोक स्तंभ की प्रतिकृति में तांबे का 90 फीसदी इस्तेमाल हुआ है। इसमें कभी जंग नहीं लगेगा। इसे स्थापित करने में दो महीने का वक्त लगा।

अशोक स्तंभ।
अशोक स्तंभ। - फोटो : अमर उजाला/सोनू कुमार

विस्तार

बीते सोमवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए संसद भवन की छत पर स्थापित अशोक स्तंभ की प्रतिकृति का अनावरण किया। इसे लेकर विवाद भी हो रहा है। हालांकि, इसे स्थापित करने वाले मूर्तिकार राजस्थान के लक्ष्मण व्यास कहते हैं कि यह प्रतिकृति सारनाथ में रखे गए अशोक स्तंभ जैसी ही है। अमर उजाला के साथ खास बातचीत में वे यह भी बताते हैं कि इस प्रतिकृति को स्थापित करना कितना चुनौतीपूर्ण था। तब दिल्ली में तापमान 45 से 50 डिग्री के बीच था। उनके कई साथी बीमार भी हुए, लेकिन राष्ट्रीय चिह्न को लेकर जुनून इस कदर था कि उनके साथियों ने तय वक्त में यह काम पूरा कर दिखाया। जानिए, इस प्रतिकृति और उसे स्थापित करने की प्रक्रिया से जुड़ी कुछ रोचक बातें...


लक्ष्मण व्यास बताते हैं कि प्रतिकृति बनाने का काम मुझे टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड की तरफ से मिला। यह डिजाइन मेरा नहीं है। डिजाइन मुझे टाटा के आर्टिस्ट से मिला। हमें मेटल कास्टिंग कर प्रतिमा को वहां स्थापित करने का जिम्मा मिला था। करीब 40 लोगों ने मिलकर इसे तैयार किया। इसमें पांच महीने लगे। इसका वजन 9620 किलोग्राम है। 

चिलचिलाती धूप में 50 दिन की मेहनत
वे बताते हैं कि करीब 50 दिन हमने संसद की छत पर बिताए। 45-50 डिग्री से ज्यादा तापमान में हमने किया, कई साथी बीमार भी हुए, लेकिन जुनून और जज्बा अलग था। हमारी यही सोच थी कि हम देश के लिए यह काम कर रहे हैं और ईश्वर की दया से प्रतिकृति स्थापित हो गई। इसे इटैलिन लॉस्ट वैक्स प्रक्रिया के तहत तैयार किया गया। इसमें 150 टुकड़े थे। इसे संसद भवन की इमारत पर जाकर ही जोड़ा गया और वेल्डिंग की गई।

उन्होंने बताया कि हमारे लिए हर कृति एक चुनौती होती है। हमारा ध्येय रहता है कि हम पूरी कला को उसमें समाहित करें। जब यह प्रतिकृति भारत की सबसे बड़ी पंचायत में लगने वाली थी तो हमारी जिम्मेदारी बढ़ गई। इस प्रक्रिया में कई डिजाइनर, कई अधिकारी शामिल रहे, तब जाकर यह प्रतिकृति वहां स्थापित हो पाई।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00