डडयार में सरकारी जंगल से 22 खैर के मोछे बरामद

Shimla Bureau Updated Thu, 08 Feb 2018 10:34 PM IST
डडयार में सरकारी जंगल से 22 खैर के मोछे बरामद
ख़बर सुनें
अमर उजाला ब्यूरो
बंगाणा (ऊना)।
वन उपमंडल बंगाणा के तहत डडयार में वन काटुओं ने एक सरकारी जंगल से 22 खैर के मोछे बरामद किए हैं। वन टीम ने काटे गए खैर के मोछों को अपने कब्जे में ले लिया है। वन विभाग ने मामले के बारे में जांच शुरू कर दी हैं। अभी तक अवैध कटान से जुड़े लोगों का सुराग नहीं लग पाया। जानकारी के अनुसार बंगाणा के तनोह पंचायत के डडयार में वन काटुओं ने सरकारी जंगल से कई पेड़ काट डाले हैं।

लोगों की मानें तो रछोल और डडयार के सरकारी जंगल को तो वन काटुओं ने खाली कर दिया है। वीरवार को वन विभाग की टीम ने जंगल का निरीक्षण किया। वन विभाग की टीम में आरओ रछपाल सिंह, बीओ अश्वनी कुमार, वन रक्षक अजीत सिंह, रणजीत सिंह और अजय कुमार शामिल रहे। अभी तक वन काटुओं का कोई सुराग नहीं लग पाया है। बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले प्रोइयां कलां, भरमौत और रछोल के सरकारी जंगल तथा ककराणा व हरिनगर के मलकीयत जंगलों में पाया गया। यहां से रात को वन काटुओं ने खैर के पेड़ काट लिए थे।

वन विभाग के एसीएफ डॉ. जगदीश गौतम ने बताया कि वन काटुओं पर निगरानी रखने के लिए अलग-अलग जगहों पर कई निरीक्षण टीमें गठित की हैं जो जंगलों में गश्त करती है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि अगर अवैध कटान के बारे में कोई भी सुराग लगता है तो विभाग को सूचित करें।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Lucknow

चेकिंग अभियान में पुलिस के हत्थे चढ़ा 50 हजार का इनामी बदमाश

सीतापुर पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। इमलिया सुल्तानपुर थाना क्षेत्र में शुक्रवार देर रात जारी चेकिंग अभियान के दौरान पुलिस की 50 हजार के इनामी बदमाश मेहदिया उर्फ मोहर सिंह से मुठभेड़ हो गई।

26 मई 2018

Related Videos

VIDEO: हिमाचल के ऊना में दर्दनाक हादसा, ट्रक ने सास-बहू को रौंदा

हिमाचल प्रदेश के ऊना में गुरुवार को दर्दनाक हादसा हो गया। इस हादसे में एक बुजुर्ग महिला की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक अन्य महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। ये दोनों महिलाएं सास-बहू बताई जा रही हैं। देखिए ये रिपोर्ट।

18 मई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen