होनहारों ने सड़क किनारे काटी रात

Solan Updated Tue, 07 Aug 2012 12:00 PM IST
होनहारों ने सड़क किनारे काटी रात
बद्दी (सोलन)। रविवार देर रात भारत सरकार की पोस्ट मेट्रिकुलेशन स्कालरशिप (पीएमएस) योजना के तहत संस्थान की ओर से उपलब्ध कराई गई छात्रावास सुविधा को होनहारों ने नकार दिया है। अधिकांश विद्यार्थी किन्नौर और चंबा के जनजातीय क्षेत्रों से हैं। देर रात होनहारों ने जमकर हंगामा बोला। शिक्षण संस्थान के प्रबंधकों के खिलाफ नारेबाजी भी की। विद्यार्थियों ने बद्दी में उपलब्ध कराई गई आवासीय सुविधाओं में कई खामियां बताते हुए पहले ही दिन सड़क पर बैठ कर रात बिताई। छात्रों ने मांग की है कि उन्हें जहां पर पहले आवासीय सुविधा मुहैया कराई गई थी, वह वहीं पर ही रहना चाहते हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि वह इस छात्रावास में नहीं जाएंगे। सोमवार को अपने बैग लेकर चंडीगढ़ स्थित कालेज में जाएंगे तथा रात को वहीं पर ही रहेंगे। इसी योजना के तहत रविवार देर शाम किन्नौर और चंबा के विद्यार्र्थियों को बद्दी स्थित छात्रावास में लाया गया। करीब 70 बच्चों ने छात्रावास में रहने में असमर्थता जताई।

यह है पीएमएस योजना
भारत सरकार ने एसटी बच्चों के लिए पीएमएस योजना के तहत विभिन्न कोर्स कराए जा रहे हैं। जिसको पूरा करने के बाद उन्हें बैचलर डिग्री दी जाती है। यह योजना केवल एसटी बच्चों के लिए है। जिससे इस वर्ग के विद्यार्थियों को रोजगार से जोड़ा जा सके। केंद्र सरकार की यह योजना के तहत बच्चों से कोई भी फीस, खाने पीने और रहने का कोई पैसा नहीं लिया जाता है।

एक कमरे में ठूंस दिए 17 बच्चे
छात्र संजीव, रामकुमार, राजमन, नरायण सिंह, श्रवण कुमार, देवेंद्र, शुभम नेगी, राजकुमार, सुरजीत, अमित, अंकुश ठाकुर, त्रिलोक, रवि कुमार और मनीष समेत चार दर्जन से अधिक छात्रों के अनुसार 1 अगस्त को उनका चंडीगढ़ स्थित पीएमसी कालेज के लिए चयन हुआ। जिसके तहत उन्हें चंडीगढ़ के खुडालोरा में ठहराया गया। हालांकि वहां पर भी आवासीय सुविधा इतनी अच्छी नहीं थी लेकिन रविवार को उन्हें बद्दी लाया गया। यहां पर एक कमरे में 17-17 बच्चों को ठूंस-ठूंस कर भरा गया है। छात्रावास में पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं है। औद्योगिक क्षेत्र होने से यहां पर उन्हें प्रदूषण का सामना करना पड़ रहा है।

कुछ पाने के लिए कुछ तो खोना पड़ेगा
सोलन। नार्थ इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन के प्रभारी मेजर डा. गुलशन शर्मा ने बताया कि अन्य राज्यों के बच्चे यहां पर आराम से रह रहे हैं। यहां पर विद्यार्थियों की सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। सरकार की ओर से एक विद्यार्थी को 12 सौ रुपये दिया जाता है जिससे उसके खाने-पीने, ठहरने और ट्रांसपोर्टेशन का खर्चा शामिल है। इतने कम पैसे में बच्चों को सभी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं। कुछ पाने के लिए कुछ खोना तो पड़ता ही है। यहां पर तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के बाद बच्चे अच्छी कंपनियों में जा रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी के इस दांव से खतरे में पड़ी कांग्रेस की सुरक्षित सीट सोलन

हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव महज कुछ ही दिनों की बात रह गई है। ऐसे में 68 सीटों पर प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। अमर उजाला टीवी की टीम हिमाचल प्रदेश में जनता का मूड जानने के लिए पहुंची। देखिए इस महासंग्राम की GROUND REPORT

7 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper