आज भी खातरियों का पानी पीते हैं लोग

Mandi Updated Thu, 10 May 2012 12:00 PM IST
धर्मपुर मंडी। गर्मियों के मौसम में खातरियों के पानी के उपयोग की परंपरा आज भी कायम है। धर्मपुर क्षेत्र में सदियों से जमीन के अंदर बने गड्ढों में बूंद-बूंद पानी एकत्र कर गर्मियों के मौसम में इस पानी का उपयोग करते हैं।
आमतौर पर क्षेत्र में पानी की किल्लत रहती है। लोग खातरियों में बरसात के मौसम में पानी भर लेते हैं, जिसे गर्मियों के मौसम में उपयोग में लाते हैं। क्षेत्र में यह प्रथा आज भी कायम है। खातरियों का पानी ठंडा होता है। क्षेत्र के सकलाना, समौड़, कमलाह, टौरखोला, टिहरा, स्योह, खनौड़, संधोल, गदीधार, ग्रयोह इत्यादि पंचायतों में आज भी खातरियों का पानी पीते हैं। घर में आए मेहमानों को भी खातरियों का ठंडा पानी पिलाया जाता है। खातरियों को इस प्रकार से बनाया जाता है कि बरसात के मौसम में पानी की बूंद-बूंद उसमें एकत्र होती रहे। यह पानी साल भर ठंडा रहता है। खातरियों एवं बावड़ियों का मोह लोगों के मन से नहीं छूट रहा है।
स्थानीय बुजुर्ग नेकराम, सुदामा राम, खगड़िया राम इत्यादि का कहना है कि खातरियों एवं बावड़ियों का पानी शुद्ध होता है। वे खातरियों का पानी पीना ज्यादा पसंद करते हैं। पहले गांव के लिये बावड़ी बनाई होती थी। इस पानी से गांव के लोग गुजारा कर लेते थे। अब जनसंख्या बढ़ने के कारण उस गांव के लिये बावड़ी का पानी कम पड़ रहा है।
आईपीएच धर्मपुर उपमंडल के सहायक अभियंता एलआर शर्मा का कहना है कि नल का पानी सबसे सुरक्षित है और नल के पानी का प्रयोग ज्यादा करना चाहिए। लोगों को अपनी खातरियों एवं बावड़ियों की समय -समय सफाई करनी चाहिए ताकि प्रदूषित पानी पीने से बचा जा सके ।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: हिमाचल में भारी बर्फबारी, कड़ी मशक्कत के बाद निकाले जा रहे हैं वाहन

जम्मू कश्मीर और हिमाचल के कई इलाकों में जमकर बर्फबारी हो रही है। बर्फबारी की वजह से दोनों ही राज्यों में पारा काफी ज्यादा गिर गया है और जगह जगह रास्ते बंद हो गए हैं।

14 दिसंबर 2017