फारेस्ट क्लीयरेंस रिपोर्ट 90 दिन में : भरमौरी

Kullu Updated Tue, 28 Jan 2014 05:48 AM IST
कुल्लू। जिला स्तरीय 65वां गणतंत्र दिवस कुल्लू के ऐतिहासिक ढालपुर मैदान में हर्षोल्लास से मनाया गया। समारोह की अध्यक्षता करते हुए वन एवं मत्स्य पालन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने तिरंगा फहराया तथा भव्य परेड की सलामी ली। परेड में हिमाचल प्रदेश पुलिस के अलावा भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, सशस्त्र सीमा बल, होमगार्ड्स, एनसीसी, एनएसएस, स्काउट एंड गाइड्स और रोवर्स-रेंजर्स की टुकड़ियों ने भाग लिया। इस अवसर पर कुल्लूवासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए ठाकुर सिंह भरमौरी ने कहा कि पिछले एक वर्ष के दौरान हिमाचल प्रदेश ने विकास के नए आयाम स्थापित किए हैं। प्रदेश सरकार ने वन्य प्राणी क्षेत्रों का युक्तिकरण करके प्रदेश के 775 गांवों को वन्य अभ्यारण्य क्षेत्रों से बाहर किया है, जिससे एक लाख से अधिक लोग लाभान्वित हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में विकास कार्यों को गति प्रदान करने के लिए राज्य सरकार ने फारेस्ट क्लीयरेंस मामलों का सरलीकरण करके 90 दिन के भीतर क्लीयरेंस रिपोर्ट संबंधित विभागों को देने की व्यवस्था की है। वन मंत्री ने बताया कि प्रदेश में नई टीडी नीति बनाई गई है, जिससे प्रदेशवासियों को आसानी से इमारती लकड़ी उपलब्ध होगी। कुल्लू जिला के शमशी में लकड़ी का डिपो खोला गया है। समारोह में भुंतर ट्रक यूनियन के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए एक लाख रुपये का चेक वन मंत्री को सौंपा। इस अवसर पर बंजार के विधायक कर्ण सिंह, जिला परिषद अध्यक्ष हरि चंद शर्मा, वूल फेडरेशन अध्यक्ष रघुवीर सिंह, पूर्व मंत्री सत्य प्रकाश ठाकुर, प्रदेश कांग्रेस महासचिव सुंदर सिंह ठाकुर, प्रवक्ता भुवनेश्वर गौड़, नगर परिषद उपाध्यक्ष मनु शर्मा, जिलाधीश राकेश कंवर, एसपी डॉ. विनोद धवन, पंचायतीराज संस्थाओं के जनप्रतिनिधि, विभिन्न विभागों के अधिकारी और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू यादव को तीसरे केस में 5 साल की सजा, कोर्ट ने 10 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फ से ढकी हिमाचल की सड़कों पर पहली बार चली ये खास मशीन

हिमाचल प्रदेश ऊंचे इलाकों में बर्फबारी लगातार हो रही है। इस कारण रास्ते जाम हो गए हैं। इस हालात से निपटने के लिए पहली बार स्नो कटर का इस्तेमाल हो रहा है यहां के जलोड़ी दर्रा नेशनल हाईवे पर।

17 दिसंबर 2017