महाराजा कोठी में नहीं रहेगी पानी की कमी

Kullu Updated Mon, 27 Jan 2014 05:48 AM IST
काईस (कुल्लू)। महाराजा कोठी की करीब पांच हजार आबादी को अब पानी की कमी नहीं रहेगी। आईपीएच विभाग ने इसके लिए प्रयास तेज कर दिए हैं। पेयजल स्रोत सूखने से चिंतित विभाग अब नदी-नालों के तटों पर भी पेयजल योजनाएं बनाकर पानी की किल्लत दूर करेगा। आईपीएच शमशी के तहत आने वाले बदाह, सिंधी, राजगिरी और मौहल पेयजल योजना को अमलीजामा पहनाने की कवायद तेज हो गई है। बदाह, सिंधी और राजगिरी पेयजल योजना पर एक करोड़ 23 लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। मौहल पेयजल योजना 86 लाख 26 हजार रुपये की लागत से बनाई जाएगी। बदाह, सिंधी और राजगिरी पेयजल योजना को नाबार्ड से मंजूरी मिल गई है। मौहल पेयजल योजना के सिरे चढ़ने से बदाह, सिंधी, राजगिरी, भुलंग, मौहल, नरेणी, पिरड़ी तथा छारशू गांवों के हजारों लोगों को फायदा पहुंचेगा। आईपीएच शमशी के सहायक अभियंता राकेश ठाकुर ने बताया कि लोगों को पीने के पानी की समस्या न हो, इसे देखते हुए विभाग योजनाओं का निर्माण कर रहा है। विभाग पाहनाला से सिंधी और अन्य कई इलाकों को पानी की पाइपें बिछा रहा है तथा मौहल पेयजल योजना को ट्यूबवेल खोद कर पानी की सप्लाई दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इससे लोगों को पानी की समस्या नहीं रहेगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बर्फ से ढकी हिमाचल की सड़कों पर पहली बार चली ये खास मशीन

हिमाचल प्रदेश ऊंचे इलाकों में बर्फबारी लगातार हो रही है। इस कारण रास्ते जाम हो गए हैं। इस हालात से निपटने के लिए पहली बार स्नो कटर का इस्तेमाल हो रहा है यहां के जलोड़ी दर्रा नेशनल हाईवे पर।

17 दिसंबर 2017