कॉलर आईडी वाले पक्षी पहुंचे पौंग

Kangra Updated Wed, 29 Jan 2014 05:47 AM IST
नगरोटा सूरियां (कांगड़ा)। पौंग झील में प्रवासी पक्षियों की गणना बुधवार से शुरू हो रही है। वन्य प्राणी संरक्षण विभाग ने गणना के लिए 22 टीमों का मंगलवार को गठन कर लिया है। पौंग झील में कॉलर आईडी लगे परिंदों ने भी दस्तक दी है। पिछले वर्ष वन्य प्राणी विभाग ने 15 परिंदों में कॉलर आईडी लगाए थे, जिनमें से पांच के करीब पक्षी फिर यहां पहुंचे हैं। कॉलर आईडी के जरिये विभाग पता लगाएगा कि इन पक्षियों ने कहां-कहां विचरण किया है और कितने किलोमीटर की दूरी तय की है। विभागीय अधिकारियों की मानें तो कॉलर आईडी वाले परिंदों की प्रजाति और संख्या का खुलासा गणना के बाद ही हो सकेगा। इस बार पौंग झील में डेढ़ लाख से भी ज्यादा प्रवासी पक्षियों के पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है। पौंग में विभिन्न प्रजातियों के प्रवासी पक्षियों को बांबे नेचुरल हिस्ट्री की मदद से वन्य प्राणी विभाग ने बीते साल कॉलर आईडी और ट्रांसमीटर लगाए थे। ट्रांसमीटर लगे प्रवासी पक्षियों का कोई रिकॉर्ड विभाग को नहीं मिला है कि ये पक्षी किस दिशा और किस देश में विचर रहे हैं, लेकिन कॉलर आईडी वाले प्रवासी पक्षी दोबारा झील में जरूर पहुंचे हैं। वन्य प्राणी संरक्षण विभाग के डीएफओ सुभाष पराशर का कहना है कि ट्रांसमीटर लगे प्रवासी पक्षियों का कोई रिकार्ड नहीं है, लेकिन इस बार पौंग झील में कॉलर आईडी वाले मेहमान जरूर देखे गए हैं। कॉलर आईडी वाले कितने पक्षी यहां पहुंचे हैं, इसका पता गणना के बाद ही लग पाएगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018