200 छात्रों के वजीफे पर संकट

Kangra Updated Sat, 22 Dec 2012 05:30 AM IST
धर्मशाला। शिक्षा विभाग पहली मर्तबा दसवीं के आधार पर छात्रों को ग्यारहवीं में भी छात्रवृत्ति दे रहा है। लेकिन जिला कांगड़ा के 200 से ज्यादा छात्रों ने छात्रवृत्ति के रिन्युअल आवेदन फार्म जमा नहीं करवाए हैं। इसका कारण छात्रों को इसके बारे में जानकारी न होना भी माना जा रहा है। यदि इन छात्रों ने एक सप्ताह के भीतर आवेदन फार्म जमा नहीं करवाए तो इनकी स्कालरशिप पर तलवार लटक सकती है।
ग्यारहवीं कक्षा का बोर्ड टूट जाने के बाद पहली मर्तबा दसवीं के आधार पर यह स्कालरशिप दी जा रही है। इससे पहले दसवीं के मेधावी छात्रों को एक बार ही छात्रवृत्ति दी जाती रही है। ग्यारहवीं में पढ़ रहे इन छात्रों को दसवीं के आधार पर ही स्कालरशिप दी जा रही है। विभाग स्वामी विवेकानंद, डा. भीम राव अंबेडकर, ओबीसी, एससी के अंतर्गत 10 हजार रुपए व ठाकुर सेन नेगी छात्रवृत्ति के अंतर्गत 11 हजार रुपए की स्कालरशिप दी जाएगी। लेकिन 2012-13 सत्र लगभग खत्म होने को है। ऐसे में छात्रों द्वारा समय पर आवेदन न करने के चलते इन पर तलवार भी लटक सकती है। वहीं उच्च शिक्षा उप निदेशक विधि चंद ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि जिला कांगड़ा के 200 के करीब छात्रों ने छात्रवृत्ति के रिन्यूअल आवेदन फार्म नहीं भेजे हैं। एक सप्ताह के भीतर आवेदन फार्म न भेजने की स्थिति में इनकी छात्रवृत्ति पर तलवार लटक सकती है।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper