ईश्वर की परीक्षा नहीं प्रतीक्षा करो

Kangra Updated Wed, 26 Sep 2012 12:00 PM IST
धर्मशाला। विश्व विख्यात रामकथा वाचक संत मोरारी बापू ने कहा कि अध्यात्म संदेह का क्षेत्र नहीं है। यह तो भरोसे की भूमि है। ईश्वर की परीक्षा कभी नहीं की जा सकती। इस संदर्भ में अगर कुछ किया जा सकता है तो वह है प्रतीक्षा। फिर इसमें चाहे जन्म-जन्मांतर ही क्यों न लग जाएं। कोई घाटे का सौदा नहीं।
मानस सत्य को आधार मानकर पुलिस मैदान धर्मशाला में चल रही रामकथा में सीता विरह के प्रसंग को आगे बढ़ाते हुए बापू ने कहा कि सत्य के नव रस हैं। हम सत्यमेव जयते कहते हैं, पर सत्य को जय और विजय के मापदंड पर न रखें, क्योंकि सत्य के मार्ग पर विजेता वही बन सकता है, जो हारने की क्षमता रखता है। विजेता बनने की लालसा सत्य में बाधक बन सकती है। शांति सत्य का एक और रस है, सत्य शांति में रुचि रखता है, अशांति में नहीं। कथा के चौथे दिन उपस्थित साधकों पर अमृतवर्षा करते हुए मोरारी बापू ने कहा कि जिस प्रकार कवि कविता लिखना शुरू करता है उसे शांति की आवश्यकता होती है और कविता पढ़ने के बाद भी उसे शांति की अनुभूति होती है। मोरारी बापू ने कहा कि अगर किसी धार्मिक ग्रंथ का स्वाध्याय करते हुए आपकी आंखों में आंसू आ जाएं तो स्वाध्याय करना छोड़ दो, क्योंकि आपको उस स्वाध्याय का प्रतिफल मिल गया। हम अपना सत्य दूसरों पर थोपने का प्रयास करेंगे तो इससे भयानकता उत्पन्न होती है। अद्भुदता रस भी सत्य का एक रूप है, जो व्यक्ति सत्य मार्ग पर चलता है, उसे हम यह कहकर संबोधित करते हैं कि हमारे बीच विचरण करने वाला यह व्यक्ति, साधन तो हमारे जैसे ही उपयोग करता है, जैसे हवा, पानी, लेकिन वास्तव में इस लोक का है ही नहीं। किसी को सबके सामने यह कहना कि तुम बहुत खराब हो या सार्वजनिक रूप में यह कहना कि तुममें बुराइयां हैं, है तो सत्य, पर परिणाम वीभत्स हो सकते हैं, यही वीभत्स रस है। रौद्र रस भी सत्य का रूप है, लेकिन इसे ज्यादा समय तक हम सहन नहीं कर सकते। महान लोग हंसी-मजाक में भी सत्य का बखान कर देते हैं।

सरोजनी के सवाल पर गांधी का जवाब
मोरारी बापू ने कहा कि सरोजनी नायडू ने महात्मा गांधी से पूछा कि सबसे सुंदर स्त्री कौन है तो बापू का जवाब था कस्तूरबा। जब सरोजनी ने कस्तूरबा से कहा कि बापू की दृष्टि में आप सबसे सुंदर हैं तो कस्तूरबा ने सादगी से कहा कि बापू कभी झूठ नहीं बोलते। शब्द रूपी आभूषणों से अलंकृत करके सत्य को उजागर करना शृंगार रस है। राम सत्य है, रामायण सत्य है, पर तुलसी दास ने जिस तरह से शब्दों के शृंगार से उसे प्रस्तुत किया, वह शृंगार रस का उदाहरण है। वीर ही सत्य मार्ग पर चल सकता है, इसमें किसी युद्ध की बात नहीं है। सत्य के मार्ग पर चलने का साहस ही वीरता है, वही वीर रस है। जिस सत्य के उपासक के सत्य को लोग नहीं पहचानते हैं, वह उसे प्रतिपादित करने के बजाय चुपचाप आंसू बहाता है, यह करुण रस है।


...आज सोचा तो आंसू भर आए
मोरारी बापू ने मुद्दतें हो गईं मुस्कुराए, आज सोचा तो आंसू भर आए गीत की पंक्तियां भी गुनगुनाईं। अंधेरी गुफा में जब मोमबत्ती का प्रकाश होता है तो अंधेरे का नाश नहीं होता, बल्कि अंधेरा स्वयं प्रकाश हो जाता है। उसी तरह सतपुरुषों के संग में दुर्जनों का नाश नहीं होता, बल्कि वह स्वयं सतपुरुष बन जाते हैं। दुखों से मुक्ति के लिए प्रसन्न रहना चाहिए। जब परस्पर प्रेम बढ़ता है तो प्रसन्नता भी बढ़ती है। धार्मिक लोग, धार्मिक लोगों से टक्कर ले रहे हैं। संप्रदाय, संप्रदाय से लड़ रहा है, वैष्णव, वैष्णव से लड़ रहा है, भगवान बचाए। भक्त, भक्त की ईर्ष्या कर रहा है, एक, दूसरे को काटता है। फलां ऐसा, तो फलां ऐसा है, बेकार में समय बर्बाद कर रहे हैं।


ससुराल में दामाद बुरा, बहन के घर भाई
मोरारी बापू ने कथा के सार में श्रोताओं को कई नसीहतें भी दीं। कवि गंग की कविता पढ़ते हुए बापू ने कहा कि बहन के घर अकारण भाई ज्यादा दिन रुके तो बहन के लिए ठीक नहीं, ससुराल में दामाद अकारण रुके तो ठीक बुरा। खराब स्वभाव वाली नारी बुरी, सांप से खेलना बुरा, जंगल में वास बुरा तो रण में शूरवीरों का भागना बुरा माना गया है। मोरारी बापू ने कहा कि एक भूल या झूठ कोट उस बटन की तरह जो गलत काज में लग जाने के बाद पूरी शृंखला को गलत कर देता है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper