सत्य के पांच मुख : मोरारी बापू

Kangra Updated Mon, 24 Sep 2012 12:00 PM IST
धर्मशाला। विश्व विख्यात रामकथा वाचक संत मोरारी बापू ने धर्मशाला में चल रही राम कथा के दूसरे दिन भी सत्य के मर्म पर व्याख्यान दिया। कहा कि सत्य से बड़ा कोई धर्म नहीं है। सत्य के लिए कोई योजना न बनाई जाए। सबसे बड़ा पाप है असत्य। लेकिन यह भी स्पष्ट है कि मजबूरी व्यक्ति से असत्य बुलवाती है। मानव जीवन का सबसे बड़ा दुर्भाग्य यह है कि हम दूसरे के सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते।
रामचरितमानस के रचयिता तुलसी दास का जिक्र करते हुए बापू ने कहा कि ‘सुनि रघुनाथ जोरी जुगपाणि, बोले सत्य सरल मृदुवाणी ’ यानी सत्य बोलने का समय आए तो दोनों हाथ जोड़कर बोलिएगा। सत्य विनम्रता से पेश हो, क्रांति से नहीं। सत्य के पांच मुखों का वर्णन करते हुए मोरारी बापू ने कहा कि विचार, उच्चार, आचार, स्वीकार और साक्षात्कार ये सत्य के पांच मुख हैं और यही शिव के भी पांच मुख हैं। सरल मृदुवाणी... चौपाई की व्याख्या करते हुए कहा कि सरलता मतलब जटिलता से मुक्ति और मृदु मतलब कठोरता से मुक्ति। ‘मानस सत्य’ के मर्म पर चल रही इस राम कथा के एक संदर्भ में मोरारी बापू ने कहा कि पाश्चात्य सभ्यता ने हमारी रसोई पर सीधा आक्रमण किया है। पिज्जा, मैगी और बर्गर की संस्कृति हमें ठीक दिशा की ओर नहीं ले जा रही। हमारे किचन पर खतरे की घंटियां बज रही हैं। उन्होंने बहनों से सहज भाव से आग्रह किया कि प्यार से रसोई में खिचड़ी भी बना ली जाए तो वह भी साधना है। कथा के बीच मोरारी बापू द्वारा छेड़ी गई धुन म्हारो धन राधा...पर पूरा पंडाल झूम उठा।

यह हकीकत बहुत पुरानी है
अपने शायराना और सूफी अंदाज में मोरारी बापू ने व्यंग्य किया कि यह हकीकत पुरानी है, यह दिल मोहब्बत की राजधानी है। अपने बच्चों पर क्यों कर मैं गुस्सा करूं, हर कमी उनमें खानदानी है। कहा कि पहले हमें खुद को सुधारना होगा। तभी बच्चों में श्रेष्ठ संस्कारों का प्रादुर्भाव होगा। वहीं उन्होंने कौसर साहब की गजल ...जिसे रास्ते में खबर हो जाए कि मेरा रास्ता कोई और है का जिक्र करते हुए एकमात्र राम के मार्ग पर चलने का आग्रह किया।

भक्तों ने किए सवाल
कथा के बीच भक्तों ने मोरारी बापू से सत्य के रहस्य पर लिखित सवाल भी किए। पहले सवाल में किसी ने पूछा कि मैं सत्य का शोधक हूं, बापू क्या आपको सत्य मिल गया? जवाब था कि मैं तो खोज में हूं, मिले ऐसी मेरी कोई मुराद भी नहीं। दूसरे सवाल में पूछा कि सत्य किस हद तक बोलना चाहिए? बापू ने जवाब दिया-खत्म हो जाएं तब तक बोलो। महात्मा गांधी को गोली लग गई पर सत्य नहीं छूटा। अगले सवाल में किसी ने पूछा कि राम नाम सत्य है, ऐसा अंतिम समय में ही क्यों बोला जाता है। जवाब: क्योंकि सत्य का अंतिम समय में ही पता चलता है। जैसे प्रकाश होते ही अंधेरा गायब हो जाता है, सत्य के प्रकट होते ही असत्य भी गायब हो जाता है।

तिब्बत मसले पर हुए भावुक
दलाईलामा से मुलाकात का जिक्र छेड़ते हुए मोरारी बापू तिब्बत के मसले पर भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि दलाईलामा एक विश्व गुरु है, लेकिन जिस गुरु को उसके देश से निर्वासन मिल गया हो, उसके भक्तों की क्या स्थिति होगी। उन्होंने तिब्बत की आजादी के लिए प्रार्थना की।

प्रधानमंत्री भी नहीं बचे
मोरारी बापू के व्यंग्यवाणों से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी नहीं बच पाए। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह सरलता की मूर्ति हैं। अब उन्होंने कहा कि मुझ पर भरोसा रखें। चुनाव भी आने को हैं। सुन चंपा, सुन तारा कौन जीता कौन हारा। सब पता चल जाएगा। अब भरोसा करके देख लेते हैं।

मुख्यमंत्री ने लिया आशीर्वाद
मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने मोरारी बापू से बीती रात मुलाकात की। सुबह रामकथा में पहुंच कर बापू के अमृत वचनों का रसपान किया। सीएम ने मोरारी बापू को हिमाचली टोपी भेंट की। हालांकि मोरारी बापू ने बीच में व्यंग्य भी किया कि यह टोपी कुछ गरम है। इससे मैं कुछ संदर्भ भूल रहा हूं। लेकिन प्यार से दी हुई इस भेंट को में कथा के अंत तक पहने रखूंगा।

Spotlight

Most Read

Lucknow

सीएम योगी आदित्यनाथ से मिले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवारीजन

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजनों ने मंगलवार को लोक भवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट की।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अब ये खास अंडरवियर बचाएगी बहू-बेटियों की आबरू

साल 2016 में देश में सबसे ज्यादा रेप के मामले उत्तर प्रदेश से सामने आए। अब यूपी की ही एक बेटी ने एक महिलाओं की इज्जत-आबरू को बचाने का बेड़ा उठाया है। इस बेटी ने एक ऐसा अंडरवियर बनाया है जो रेप प्रूफ है। देखिए क्या है इसकी खासियत।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper