जिले में वाहनों पर लगाई जा रही जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेटें

Shimla Bureau Updated Thu, 15 Feb 2018 10:33 PM IST
जिले में वाहनों पर लगाई जा रही जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेटें
हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट - फोटो : demo pic
अमर उजाला ब्यूरो
चंबा। जिले में वाहनों में जाली सिक्योरिटी नंबर प्लेटें लगाई जा रही हैं। डिजाइनर नंबर प्लेटें लगाने के इच्छुक वाहन मालिक बाहरी राज्यों से जाली नंबर वाली सिक्योरिटी प्लेटें लगा रहे हैं। जबकि हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाने की अथॉरिटी मात्र एसडीएम और आरटीओ कार्यालय के पास है। यहां पर वाहनों की सिक्योरिटी नंबर प्लेटें बनाई जाती हैं। इन कार्यालयों में बनने वाली सिक्योरिटी नंबर प्लेटें क्रोमियम होलोग्राम से बनाई जाती हैं। जबकि जाली सिक्योरिटी नंबर प्लेटें प्लास्टिक से बनाई जा रही है। इसके अलावा असली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट पर सात डिजिट का लेजर कोड यूनिक रजिस्ट्रेशन नंबर होता है। इस नंबर के जरिये किसी भी हादसे या आपराधिक वारदात होने की स्थिति में वाहन और इसके मालिक के बारे में सभी जानकारियां उपलब्ध की जा सकती हैं। मगर जाली सिक्योरिटी नंबर प्लेटों से ऐसा संभव नहीं है। इसकी वजह यह है कि जाली नंबर प्लेटों पर नंबर स्टीकर के जरिये चिपकाए जाते हैं। जो किसी भी समय तोड़े और बदले जा सकते हैं।

सरकारी वाहनों में भी लगी जाली सिक्योरिटी नंबर प्लेटें
चंबा में निजी वाहनों के साथ कई सरकारी वाहनों पर भी जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेटें लगी हैं। इनके ऊपर पुलिस और अन्य विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। इसकी वजह से बाहरी राज्यों से जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेटें गाड़ियों पर लगाई जा रही है। इसको देखते हुए प्रशासन को जाली सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने वालों पर कार्रवाई करने की जरूरत है।

विभाग की ओर से होगी शीघ्र कार्रवाई : आरटीओ
आरटीओ चंबा ओंकार सिंह ने बताया कि उनके ध्यान में यह मामला है। जल्द ही जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने वाले वाहनों पर कार्रवाई की जाएगी। एसडीएम या आरटीओ कार्यालय में ही असली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट बनाई जाती है।

जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट वाले वाहनों का होगा चालान
एएसपी वीरेंद्र ठाकुर ने बताया कि जाली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने वाले वाहनों के जल्द ही पुलिस चालान काटेगी। उन्होंने वाहन चालकों से आग्रह किया है कि वह वाहनों पर असली हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाएं।

Spotlight

Most Read

Pilibhit

चोरों ने समेटा दो घरों से लाखों का सामान

कोतवाली क्षेत्र के कसगंजा गांव में दी दस्तक

23 फरवरी 2018

Related Videos

हिमाचल प्रदेश की जनता ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, हुआ 74.45% मतदान

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की 68 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 74% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। रिपोर्ट में देखिए हिमाचल प्रदेश में हुए मतदान की सारी जानकारी।

10 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen