चांजू प्रोजेक्ट के खिलाफ प्रभावित लामबंद

Chamba Updated Tue, 11 Dec 2012 05:30 AM IST
उचित मुआवजा न मिलने पर लोग भड़के, आंदोलन छेड़ने की धमकी
बैठक में तय हुई थी मुआवजा राशि
एसडीएम चुराह से करेंगे शिकायत
स्र अमर उजाला ब्यूरो
चंबा। चांजू प्रोजेक्ट प्रभावित मांगे पूरी न होने पर परियोजना के खिलाफ लामबंद होने लगे हैं। प्रभावितों का कहना है कि परियोजना प्रबंधन ने इकरारनामे के बाद उन्हें उचित मुआवजा नहीं दिया।
पन बिजली विद्युत परियोजना-एक के प्रभावितों ने गांव धलंजन परगना टिकरीगढ़ में बैठक आयोजित की। इसमें अबंडेकर मिशन सोसाइटी के अध्यक्ष रघु राम सहित अन्य लोग विशेष रूप से मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि इस बाबत कंपनी और परियोजना प्रभाविताें के बीच जो इकरारनामा हुआ था उसके खिलाफ लोग एसडीएम चुराह के साथ शिकायत करेंगे। बैठक के दौरान परियोजना प्रभावितों ने टैननसी एंड लैंड रिफार्म एक्ट की धारा 118 का उल्लंघन करने, ग्राम सभा की अनुमति के बिना क्रशर प्लांट लगाने, प्रभावितों को 40 वर्ष का स्थायी रोजगार, परियोजना निर्माण से घरों और घराटों में आ रही दरारों के बारे रणनीति बनाई।
परियोजना प्रभावितों ने अंबेडर सोसायटी के बैनर तले प्रदेश और केंद्र सरकार को शिकायत करने का निर्णय लिया। अंबेडकर मिशन सोसायटी के सदस्यों के मुताबिक परियोजना प्रभावितोें की मांगों को पूरा करवाने के लिए विधायक सुरेंद्र भारद्वाज का उन्हें भरपूर समर्थन मिल रहा है। इस अवसर पर लाल चंद, भाग सिंह, कमल कुमार, मान सिंह, ठाकुर दास, झांडा राम, गिरधारी लाल, गणेश, बिल्लु, परवेज खान, दीन मोहम्मद, जगदीश, देस राज, उतम चंद और देवी सिंह मौजूद रहे।

Spotlight

Related Videos

हिमाचल प्रदेश की जनता ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, हुआ 74.45% मतदान

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की 68 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 74% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। रिपोर्ट में देखिए हिमाचल प्रदेश में हुए मतदान की सारी जानकारी।

10 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper