जिले में आयुर्वेदिक अस्पतालों का हाल-बेहाल

Chamba Updated Sat, 03 Nov 2012 12:00 PM IST
चंबा। जिले में आयुर्वेदिक अस्पतालों में स्टाफ की कमी लंबे अरसे से चल रही है। खाली पदों को भरने की मांग करने के बावजूद पद नहीं भरे गए। इस कारण अस्पतालों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। स्टाफ की कमी होने के कारण मरीजों को इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। जिले में जिन अस्पतालों में चिकित्सक का पद भरा है, वहां फार्मासिस्ट का पद खाली चल रहा है। जहां पर चिकित्सक और फार्मासिस्ट दोनों ही पद भरे हैं, वहां स्टाफ नर्स और एएनएम नर्सिंग स्टाफ के पद खाली चल रहे हैं।
स्टाफ की कमी के कारण दुर्घटना की स्थिति में भी मरीजों को प्राथमिक उपचार के बाद दूसरे अस्पतालों में रेफर करना पड़ता है। जिले के लोग देसी पद्धति से इलाज करवाना काफी बेहतर समझते हैं। उपचार करवाने के लिए लोग दूर-दूर से आयुर्वेदिक अस्पतालों में पहुंचते हैं। स्टाफ के पद खाली होने के कारण मरीजों को पैसा खर्च कर दूसरे जिलों में जाकर अपना इलाज करवाना पड़ रहा है।
इस वजह से मरीजों को इलाज करवाने के लिए अतिरिक्त पैसा भी खर्च करना पड़ रहा है। जिले के अलग-अलग आयुर्वेदिक अस्पतालों में 107 चिकित्सकों के पद स्वीकृत है। इनमें से 67 पद भरे हुए है। 40 चिकित्सकों के पद खाली चल रहे हैं। चिकित्सक न होने के कारण फार्मासिस्ट को ही अस्पतालों में दवाईयां देनी पड़ रही हैं। चिकित्सकों के पद भरने के लिए लोग कई बार सरकार से मांग कर चुके हैं। लेकिन, खाली पदों को अभी तक नहीं भरा गया।
वहीं, जिले में फार्मासिस्ट के 103 पद स्वीकृत हैं। इनमें 54 पद भरे हुए हैं। शेष 46 पद खाली चल रहे हैं। अलग-अलग अस्पतालों में स्टाफ नर्स के 3 पद स्वीकृत हैं। भरमौर अस्पताल में स्टाफ नर्स का 1 पद खाली चल रहा है। स्टाफ नर्स का पद खाली होने से अस्पताल में उपचाराधीन मरीजों को उपचार करवाने में परेशानी हो रही है। एएनएम नर्सिंग के 14 पद स्वीकृत हैं। इनमें तीन पद भरे हुए है, 11 पद खाली चल रहे हैं। अस्पताल के हर वार्ड में उपचाराधीन मरीजों को संभालने की जिम्मेवारी एक ही स्टाफ नर्स पर है।
इससे उपचाराधीन मरीज को उपचार करवाने में दिक्कत पेश आती हैं। दाईयाें के कुल 84 पद स्वीकृत हैं, इनमें से 14 पद भरे हुए है, 70 पद खाली चल रहे हैं। अस्पतालों में दाई न होने के कारण प्रसव के दौरान महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है। जिला में कुल मिलाकर स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गईं हैं। वहीं, इस संबंध में जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. सतीश कुमार शर्मा ने कहा कि चिकित्सक, फार्मासिस्ट, स्टाफ नर्स और एएनएम नर्सिंग के पद खाली चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन पदों को भरने की सिफारिश आला अधिकारियों से की गई है।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने लहराया परचम, 24 में से 20 वॉर्ड पर कब्जा

मध्यप्रदेश के राघोगढ़ में हुए नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस को 20 वार्डों में जीत हासिल हुई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

हिमाचल प्रदेश की जनता ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, हुआ 74.45% मतदान

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की 68 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 74% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। रिपोर्ट में देखिए हिमाचल प्रदेश में हुए मतदान की सारी जानकारी।

10 नवंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper