चंबा में धान की खेती पर संकट

Chamba Updated Fri, 31 Aug 2012 12:00 PM IST
चंबा। जिला में धान की फसल पर संकट मंडराने लगा है। बीजी गई फसल अचानक पीली पड़ने लगी है। इसका कारण जिंक और सूक्ष्म तत्वों की भी कमी बताया जा रहा है। इससे फसल धीरे-धीरे पीली हो गई है और इसके चौपट होने की संभावना से किसान परेशान हैं। कृषि विभाग इसका कारण बारिश का पानी खेतों में रुकना बता रहा है। इन दिनों जिले में बारिश ज्यादा हो रही है, इस कारण खेत भी पानी से तर हैं। उधर, बताया जा रहा है कि सूक्ष्म तत्वों की कमी होने के कारण भी फसल की पैदावार कम होने की संभावना रहती है। कृषि विभाग किसानों को मृदा परीक्षण करने की सलाह तो देता है। सैंपल भी इकट्ठा करता है। इसके बावजूद किसानों को धान की फसल की पैदावार के लिए सावधानियां और मिट्टी में तत्वों की कमी के प्रति जागरूक नहीं किया जा सका है। इस कारण अब उम्मीद से कम फसल होने की उम्मीद जताई जा रही है। पहले बारिश नहीं हो रही थी तो किसान चिंतित थे। अब पानी खेतों में रुक जाने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। गौर रहे कि चुवाड़ी, बनीखेत, सलूणी में किसान धान की फसल की बिजाई करते हैं। क्षेत्र के किसानों का पूरा साल का खर्चा भी फसल की पैदावार पर ही चलता है। कृषि विभाग के उपनिदेशक डा. एसएस पठानिया ने कहा कि धान की फसल में सूक्ष्म तत्वों और जिंक की कमी के कारण फसल पीली होने शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि इससे फसल की कम पैदावार हो सकती है। उन्होंने कहा कि इससे फसल को बचाने के उपाय किए जा रहे हैं। इसके अलावा खेतों में लगातार पानी रुकने से भी फसल पीली पड़ जाती है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

हिमाचल प्रदेश की जनता ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, हुआ 74.45% मतदान

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की 68 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 74% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। रिपोर्ट में देखिए हिमाचल प्रदेश में हुए मतदान की सारी जानकारी।

10 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls