संसद की गरिमा को ठेस पहुंचा रहे अधिकारी

Chamba Updated Thu, 17 May 2012 12:00 PM IST
चंबा। जिला परिषद चंबा की बैठकों में अधिकारियों का अघोषित बायकाट जिला की संसद की गरिमा को तार-तार कर रहा है। साथ ही यह विकास और सरकार पर भी भारी पड़ेगा। अगर अधिकारी ऐसे ही पंचायती राज संस्थाओं के इस उच्च सदन में उपस्थित होने को अपनी गरिमा से जोड़ते रहे तो चंबा जैसे पिछड़े क्षेत्रों का विकास कैसे हो पाएगा। पहले जिला परिषद की बैठकों से आईएएस लाबी सरकार पर प्रेशर डाल कर कन्नी काट चुकी है। अब उपायुक्त के स्थान पर उनके कनिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों को जिप की बैठक में सचिव के तौर पर भेजा जाता है। अब पंचायतीराज संस्थाओं की बैठकों को लेकर कुछ विभागाध्यक्षों का रवैया ठीक नहीं लग रहा है। बुधवार को हुई जिला परिषद चंबा की बैठक में जिस तरह कई विभागों के अधिकारी लगातार कन्नी काटे रहे, उसे विपक्ष के पार्षदों ने हल्के से नहीं लिया है। हालांकि भाजपा समर्थक पार्षद इस मसले पर उनका साथ नहीं दे सके, मगर इससे जिला की जनता को ही नुकसान होने वाला है। अब जब विधायक के बाद जनता की नुमाइंदगी करने वाले जिप पार्षदों को उनकी तीन माह बाद होने वाली बैठकों में अधिकारी ही नहीं मिलेंगे तो वे अपने सवाल का जवाब किससे हासिल कर पाएंगे। साथ ही उनके सुझाव कौन सुनेगा। हालत यह है कि कई विभागाध्यक्ष हर बार जिप की बैठकों से कन्नी काटे रहते हैं और किसी बाबू के हाथों फाइलें उठा कर हाजिरी लगाने भेज देते हैं।
जिप चंबा में तो ऐसा लंबे अर्से से चला आ रहा है। पार्षदों ने कई बार यह बात सदन में रखी, मगर इसका असर न तो जिला के प्रशासनिक अमले पर हुआ और न ही संबंधित विभागाध्यक्षों पर। अब पार्षदों को ही सड़क पर उतरना पड़ रहा है। विपक्षी पार्षदों ने तो आंदोलन का मन बना लिया है। साथ ही अपने इस्तीफों की पेशकश कर दी है। उधर, जिला पंचायत अधिकारी एवं जिप के सचिव रमेश ने कहा कि पंचायती राज एक्ट में पार्षदों के लागातर तीन बैठकों में न भाग ले पर कार्रवाई का प्रावधान है, मगर अधिकारियों के संबंध में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है।

कारण बताओ नोटिस जारी होंगे : संतोष
जिप की अध्यक्ष संतोष ठाकुर ने माना कि कुछ अधिकारी बैठक में नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन्हें पहले भी इस संबंध में सूचित किया गया है। इस बार इन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। इसके बाद जिप इनके खिलाफ आवश्यक कार्यवाही अमल में लाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

हिमाचल प्रदेश की जनता ने तोड़े पुराने रिकॉर्ड, हुआ 74.45% मतदान

हिमाचल प्रदेश विधानसभा की 68 सीटों के लिए हुए मतदान में कुल 74% मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतगणना 18 दिसंबर को होगी। रिपोर्ट में देखिए हिमाचल प्रदेश में हुए मतदान की सारी जानकारी।

10 नवंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls