चुनावी बेला में ट्रैक्टर मालिकों ने भरी हुंकार

Bilaspur Updated Fri, 26 Oct 2012 12:00 PM IST
बरठीं (बिलासपुर)। झंडूता विकास खंड के अंतर्गत आने वाले ट्रैक्टर आपरेटराें ने चुनावी बेला में अपनी मांगों को लेकर आवाज बुलंद की है। ट्रैक्टर मालिकों का कहना है कि विभाग उन पर तो शिकंजा कस रहा है, लेकिन क्रशर मालिकों की ओर आंख तक नहीं उठाई जाती। इस वर्ग ने निर्णय लिया है कि जो भी राजनीतिक दल उनकी समस्याओं के समाधान का वादा करेगा, वे उसी को समर्थन देंगे।
वीरवार को सुन्हाणी में वरिष्ठ ट्रैक्टर आपरेटर गांधीराम की अध्यक्षता में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए यूनियन के प्रधान लखवीर सिंह ने कहा कि ट्रैक्टर मालिकों ने बैंकों से लाखों रुपये का ऋण ले रखा है। सरकार उनसे हर साल हजारों रुपये टैक्स तो ले रही है, लेकिन पिछले कई वर्षों से खड्डों में खनन पर पाबंदी लगी हुई है। इसके चलते परिवार का पालन-पोषण करना तो दूर, उन्हें बैंक से लिए गए ऋण की अदायगी करना भी मुश्किल हो गया है।
बैठक में कहा गया कि प्रदेश में जो भी निर्माण कार्य हो रहे हैं, उनके लिए रेत, बजरी व पत्थर खड्डों से ही उठाया ज रहा है। संबंधित ठेकेदारों के खिलाफ कभी कोई कार्रवाई नहीं की जाती। स्टोन क्रशर भी धड़ल्ले से चल रहे हैं। इसके विपरीत ट्रैक्टर मालिक अपनी रोजी-रोटी के लिए खड्डों से रेत-बजरी उठाते हैं तो उनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाती है। सीरखड्ड पर सैकड़ों पेयजल व सिंचाई योजनाएं आधारित हैं। खड्ड का जलस्तर उनकी वजह से कम हो रहा है, लेकिन इसका ठीकरा ट्रैक्टर मालिकों के सिर पर फोड़ दिया जाता है। निर्णय लिया गया कि वे उसी दल को समर्थन देंगे, जो उनकी समस्याओं का समाधान करने का वादा करेंगे।
बैठक में यूनियन के उपप्रधान रमेश व सचिव संदीप गौतम के साथ ही कश्मीर सिंह, सुभाष चंद, मुख्त्यार सिंह, शमशेर सिंह, रजनू राम, मदन चंदेल, सुमन चंदेल, रमेश चंदेल व सुरेंद्र सिंह आदि ने भाग लिया। अजमेरपुर ट्रैक्टर यूनियन दधोल के प्रधान नूतन चौहान व सचिव कमल नयन सिंह ने भी उक्त यूनियन का समर्थन किया है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

ये वीडियो देखकर आपकी आंखे फटी रह जाएंगी

हिमाचल प्रदेश में एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया। यहां एक स्टीमर को पानी में उतारने के लिए लाई गई मशीन ही पानी में गिर गई। देखिए जरा ये तस्वीर।

17 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper