पंचायतीराज एक्सईएन और हुडा अधिकारियों में मैं-तू-तू

Yamuna Nagar Updated Wed, 12 Dec 2012 05:30 AM IST
यमुनानगर। हुडा सेक्टर-17 जगाधरी में मंगलवार को अतिक्रमण हटाने के दौरान पंचायतीराज के एक्सईएन और हरियाणा अर्बन डेवलपमेंट अथारिटी (हुडा) के अधिकारियों के बीच बहस हो गई। मामला बढ़ने पर एसडीएम मौके पर आए। दिन भर चली कार्रवाई में करीब 150 कोठियों के बाहर से अतिक्रमण हटाया गया। हुडा की इस कार्रवाई का लोगों ने विरोध किया।
हरियाणा अर्बन डेवलपमेंट अथॉरिटी (हुडा) की ओर से मंगलवार सुबह करीब 10:00 बजे जगाधरी हुडा सेक्टर-17 में कोठियों के आगे किए गए अवैध कब्जे हटाने की कार्रवाई आरंभ हुई। हुडा के एसडीओ देवेंद्र आहूजा और जेई सुभाष शर्मा के नेतृत्व में यह कार्रवाई शुरू हुई। एसएचओ शहर जगाधरी राजीव मिगलानी पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रे। सेक्टर-17 में कोठियों के बाहर किए गए कब्जों को जेसीबी मशीन की सहायता से हटाया जाने लगा। इस कार्रवाई का हुडा वासियों ने जमकर विरोध किया। हुडा में कोठी नंबर 134/17 पंचायतीराज विभाग के एक्सईएन रविंद्र राठौर की है। जब उनके कोठी के सामने बने बगीचे को हटाने की कार्रवाई आरंभ की गई तो एक्सईएन रविंद्र राठौर और उनके भाई बार एसोसिएशन के पूर्व प्रेसिडेंट प्रदीप राठौर वहां आ गए और कार्रवाई का विरोध करने लगे। उन्होंने अपने मजदूरों से कोठी के सामने बने बगीचे और छोटी दीवार को हटाने की बात कही लेकिन हुडा अधिकारी इसके लिए राजी नहीं हुए। इस पर उनकी जेई सुभाष शर्मा के साथ तीखी बहस हुई। एक्सईएन के विरोध के चलते कार्रवाई को रोकना पड़ा। हुडा के अधिकारियों ने इसकी सूचना एसडीएम राजनारायण कौशिक को दी। कुछ देर बाद एसडीएम मौके पर आ गए। एसडीएम और बार एसोसिएशन के पूर्व प्रेसिडेंट के बीच भी काफी तीखी बहस हुई। उनके विरोध के बावजूद एसडीएम के आदेश पर एक्सईएन की कोठी के सामने बने बगीचे को तहस-नहस कर दिया गया। शाम पांच बजे तक कार्रवाई में हुडा में करीब 150 कोठियों के आगे किए गए अवैध कब्जे हटाए गए। इस दौरान कोठियों के आगे जगह घेरकर बनाए गए बगीचों, टो वॉल और अन्य पक्के तथा कच्चे निर्माण को हटाया गया।

गलत कार्रवाई की गई : एक्सईएन
पंचायतीराज एक्सईएन रविंद्र राठौर और एडवोकेट प्रदीप राठौर ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई नोटिस नहीं दिया गया। जो नोटिस अधिकारियों के पास है उसमें टो वॉल (छोटी दीवार), झाड़ियों की बाड़ और बगीचे हटाने के निर्देश नहीं है। जबकि प्रशासन की ओर से घरों के आगे बगीचाें को भी तहस-नहस कर दिया गया है। यही नहीं टो वॉल को भी तोड़ दिया गया।

पीले पंजे का भारी विरोध
कोठियों के सामने बने बगीचों और उसमें लगे पौधों को उखाड़ने का हुडा वासियों ने भारी विरोध किया लेकिन मौके पर पुलिस बल मौजूद होने के कारण उनकी एक न चली। हुडा वासियों का कहना है कि उन्हें बगीचों में लगे गमलाें और पौधों को हटाने का भी समय नहीं दिया गया।

जेसीबी चालक पर उठे सवाल
इस कार्रवाई में इस्तेमाल की जा रही जेसीबी के चालक पर हुडा वासियों ने कई सवाल उठाए। जेसीबी कम उम्र का प्रतीत हो रहा था। लोगों ने इसका विरोध किया तो अधिकारियों ने जेसीबी के दूसरे चालक को बुलवाया।

कम हो गई है सड़कों की चौड़ाई
अतिक्रमण हटवा रहे हुडा जेई सुभाष शर्मा का कहना है कि हुडा सेक्टर-17 में लोगों ने कोठियों के सामने कब्जा किया हुआ है जिससे सीवरेज की सफाई करने की दिक्कत आती है। कोठियों के बाहर अतिक्रमण किए जाने से सड़कों की चौड़ाई कम हो गई है। इससे मोड़ पर वाहनाें को मोड़ने में दिक्कत आती है और इससे दुर्घटना का खतरा बना रहता है।

वर्जन
एसडीएम राजनारायण कौशिक का कहना है कि सेक्टर 17 में किए गए अवैध कब्जों के बारे में दस दिन पहले नोटिस देकर कोठियों के बाहर किए गए पक्के निर्माण और बगीचों को हटाने को कहा गया था। इस बारे मुनादी भी करवाई गई थी। बावजूद लोगों ने अवैध कब्जे नहीं हटाए। अतिक्रमण हटाने में किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं किया गया है।

Spotlight

Most Read

Bareilly

बच्चो! 100 रुपये में स्वेटर खा लो

नकारा सिस्टम सरकारी योजनाओं को तो पलीता लगाता ही है, उसे गरीब बच्चों से भी कोई हमदर्दी नहीं है। सर्दी में बच्चों को स्वेटर बांटने की व्यवस्था ही देख लीजिए..

20 जनवरी 2018

Related Videos

छेड़छाड़ रोकने गए पुलिस कर्मियों की इन लोगों ने फाड़ दी वर्दी

लोग कानून के रखवालो पर भी हमला करने से नही चूकते। ताज़ा मामला हरियाणा के नन्दा कॉलोनी का है जहां लड़की के साथ छेड़छाड़ के मामले की सूचना मिलने पर पहुंचे पीसीआर के पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला बोल दिया। यही नहीं उनकी वर्दी तक फाड़ डाली।  

17 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper