तीन वर्ष की अल्पावधि में बनाई अलग पहचान

Yamuna Nagar Updated Thu, 01 Nov 2012 12:00 PM IST
मात्र तीन वर्ष की अल्पावधि में ही मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर कुरुक्षेत्र ने केवल राज्य स्तर पर ही नहीं, बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर अपनी एक विशेष पहचान बना चुका है। मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर, कुरुक्षेत्र ने हरियाणा व अन्य प्रदेशों में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करने व अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कलाकारों को हरियाणा के दर्शकों से रूबरू करवाने में अपनी अहम भूमिका निभाई है। संस्थान के उपनिदेशक एवं प्रभारी हरियाणा के प्रसिद्ध रंगकर्मी विश्व दीपक त्रिखा के अनुसार ये संस्थान हरियाणा के रंगकर्मियों और शिल्पकारों के लिए खास मंच बन कर सामने आया है। हरियाणा प्रदेश में अपनी तरह के एक मात्र संस्थान का उद्घाटन हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने 9 जुलाई 2009 को किया था। आज ये सेंटर विजय वर्धन एवं आनंद मोहन शरण भारतीय प्रशासनिक सेवा, निदेशक संस्कृति विभाग के मार्ग दर्शन में विश्व दीपक त्रिखा उपनिदेशक की देखरेख में कार्य कर रहा है। तीन साल में इस सेंटर ने समाज में पनप रही विभिन्न समस्याओं पर आधारित तथा ऐतिहासिक व धार्मिक नाटकों का मंचन कर लोगों का मनोरंजन करने के साथ -साथ उन्हें शिक्षा प्रदान करने की दिशा में उल्लेखनीय कार्य किया है। मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में 9 जुलाई 2009 को उद्घाटन अवसर पर मंचित नाटक देवसेना के बाद 9 जुलाई से 24 जुलाई 2009 तक एक राज्य कला प्रदर्शनी का आयोजन किया गया, जिसमें हरियाणा के कई नामी चित्रकारों द्वारा अपनी कला कृतियां प्रदर्शित की गई थी। इसके बाद गजल संध्या, कवि सम्मेलन, एक शाम रफी के नाम आदि कार्यक्रम आयोजित किए गए। तब से मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में सांस्कृतिक कार्यक्र्रमों की एक शृंखला शुरू हो गई। मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में हर शनिवार या रविवार एक सांस्कृतिक सांझ सजने लगी, जिसने कुरुक्षेत्र के ही नहीं अपितु आसपास के इलाके के लोगों के दिलों में भी अपनी एक बेहतरीन छवि कायम की। उत्तर मध्य सांस्कृतिक केंद्र इलाहाबाद के सहयोग से मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर में 29 से 31 अगस्त 2009 तक तीन दिवसीय नाट्य उत्सव रंगतरंग का आयोजन किया गया। इस नाट्य उत्सव में इलाहाबाद, उदयपुर और जबलपुर के कलाकारों द्वारा बेहतरीन नाटकों का मंचन किया गया, जिसे कुरुक्षेत्र के दर्शकों ने खूब सराहा।
9 जुलाई 2009 से 25 सितंबर 2012 तक इस सेंटर में नाटक, स्वांग, नृत्य, संगीत, पेंटिंग की लगभग 460 से अधिक गतिविधियां आयोजित की जा चुकी है। इनमें से लगभग 219 नाटकों का मंचन किया जा चुका है, 51 गजल संध्या, ललित कला की 30 गतिविधियां, 21 सांग, हरियाणवी सांस्कृतिक कार्यक्रम 18, कव्वाली प्रोग्राम 17, हरियाणा थियेटर फेस्टीवल 9, स्कूली बच्चों की प्रतियोगिताएं 11, भजन संध्या 5, सूफी गायन 5, थियेटर वर्कशाप 7 व अन्य 67 कार्यक्रमों सहित कुल 460 से अधिक कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं।
14 नवंबर 2009 को सेंटर में बाल मेले का आयोजन किया गया, जिसमें एक साथ 13 प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस मेले में जिले के विभिन्न स्कूलों से 1200 से अधिक बच्चों ने भाग लिया। इसके अलावा लोहड़ी आदि त्योहारों पर भी कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहे हैं। इस सेंटर के माध्यम से कथक नृत्यांगना पद्मश्री शोवना नारायण, नंदिनी सिंह, भरतनाट्यम में पद्मश्री सरोजा वैद्यानाथन, सितार में पद्मश्री देबू चौधरी, बांसुरी में पद्मश्री राजेंद्र प्रसन्ना और प्रसिद्ध गजल गायिका पिनाज़ मसानी भी अपनी प्रतिभा से लोगों का दिल जीत चुकी है। मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर ने हरियाणा के कलाकारों को हरियाणा में ही नहीं अपितु इलाहाबाद, जयपुर व शिमला में भी अपनी कला के जौहर दिखाने के लिए अवसर प्रदान किए हैं। सेंटर के उपनिदेशक एवं प्रभारी विश्व दीपक त्रिखा के अथक प्रयासों के कारण मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर देश के प्रमुख सांस्कृतिक केंद्रों में अपना स्थान बनाने में सफल रहा है।
मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर ने मई व जून 2012 में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के साथ संयुक्त रूप से पूरे हरियाणा में लगभग हर जिले में चैखव की दुनिया, आदम जाद और पंचलाइट जैसे बेहतरीन नाटकों का मंचन करवाया। एक महीने से अधिक दिनों तक चले इस कार्यक्रम के तहत हरियाणा के 15 जिलों में 30 शो किए गए। यह पहला अवसर था जब राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय द्वारा पहली बार हरियाणा में इतना बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया था।
मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर द्वारा कुरुक्षेत्र में हर बुधवार को नाटक तथा हर दूसरे व चौथे मंगलवार को हरियाणा सांग का आयोजन तो करवाया ही जा रहा है, बल्कि इसके अलावा भी अक्सर बीच-बीच में भी नियमित तौर पर कार्यक्रम होते रहते हैं। ठीक इसी तर्ज पर रोहतक में हर पहले और तीसरे शनिवार को, जींद में महीने के अंतिम शुक्रवार को, अंबाला में महीने के अंतिम सप्ताह में एक नाटक का आयोजन अवश्य होता है। इसके अलावा गुड़गांव व फरीदाबाद में भी हर महीने कम से कम दो कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। मैक के प्रभारी एवं उप-निदेशक विश्व दीपक त्रिखा का कहना है कि उनका प्रयास रहेगा कि मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर के माध्यम से हरियाणा के प्रत्येक जिले में महीने में कम से कम एक कार्यक्रम तो आयोजित किया जा सके।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ओपी सिंह होंगे यूपी के नए डीजीपी, सोमवार को संभाल सकते हैं कार्यभार

सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह यूपी के नए डीजीपी होंगे। शनिवार को केंद्र ने उन्हें रिलीव कर दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

छेड़छाड़ रोकने गए पुलिस कर्मियों की इन लोगों ने फाड़ दी वर्दी

लोग कानून के रखवालो पर भी हमला करने से नही चूकते। ताज़ा मामला हरियाणा के नन्दा कॉलोनी का है जहां लड़की के साथ छेड़छाड़ के मामले की सूचना मिलने पर पहुंचे पीसीआर के पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला बोल दिया। यही नहीं उनकी वर्दी तक फाड़ डाली।  

17 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper