असहाय बच्चों की मदद को डायल करें ‘1098’

Yamuna Nagar Updated Sat, 29 Sep 2012 12:00 PM IST
यमुनानगर। यदि आप किसी बच्चे पर जुल्म होता देख रहे हैं या आपकी नजर में किसी बच्चे को मदद की दरकार है तो फौरन 1098 पर डायल करें। यह नंबर ऐसे बच्चों की मदद के लिए देशभर में संचालित हो रहा है। अब इस नंबर से जिले के असहाय बच्चों की समय पर मदद संभव हो पाएगी। इस टेलीफोन नंबर के माध्यम से कोई व्यक्ति किसी भी बेसहारा, असहाय, मजबूर और शोषित बच्चे की सहायता कर सकता है। राष्ट्रीय स्तर पर बेसहारा बच्चों की सहायता का कार्य करने वाली चाइल्ड लाइन ने जिले में एक हेल्पलाइन नंबर सेवा शुरू की है। किसी भी फोन के माध्यम से हेल्पलाइन का 1098 नंबर मिलाकर ऐसे बच्चों की सहायता की जा सकती है। जिले में यह सुविधा शुरू हो चुकी है।
चाइल्ड लाइन समन्वयक पवन त्रिपाठी ने बताया कि यह नंबर हफ्ते के सातों दिन और 24 घंटे काम करेगा। जिले में इसके लिए उत्थान संस्था को चुना गया है जो इस नंबर पर आने वाले फोन कॉल को अटेंड कर असहाय बच्चों की मदद करेगी। उत्थान संस्थान की कार्यकारी निर्देशिका डॉ. अंजू वाजपेयी और सचिव डा. गुरप्रीत कौर ने बताया कि इस परियोजना के माध्यम से जिले के हजारों जरूरतमंद बच्चों को लाभ मिलेगा।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की परियोजना
देश के लाखों बच्चों को सीधे तौर पर केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की योजना का लाभ पहुंचाने के लिए मंत्रालय ने राज्य सरकार, गैर सरकारी संगठनों, शैक्षणिक संस्थानों, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय एजेंसियों तथा कारपोरेट सेक्टर के साथ भागीदारी कर इस महत्वकांक्षी परियोजना की शुरुआत की है। जिले में इसके लिए उत्थान संस्थान का चयन किया गया है।

इस तरह से काम करेगी हेल्पलाइन डेस्क
चाइल्ड लाइन के हेल्पलाइन के नंबर 1098 पर कॉल करने पर कॉल मुंबई स्थित कार्यालय में उठेगी। फोन पर दिए गए निर्देशों का अनुसरण करने पर कॉल सीधे कालर के जिले में ट्रांसफर कर दी जाएगी। कॉल आने पर संस्था के सदस्य जिले के किसी भी हिस्से में 2 से 3 घंटे के भीतर घटनास्थल पर पहुंच जाएंगे। आपातकालीन स्थिति में उसी दिन या अगले दिन बच्चे की विस्तृत जानकारी और उसके लिए सहायता योजना तैयार करके उसे अमली जामा पहनाया जाएगा।
कुशल कार्य के लिए बनाई टीम
उत्थान संस्था के साथ मिलकर इस परियोजना के कुशल संचालन के लिए जिले में परियोजना निर्देशक, समन्वयक चाइल्ड काउंसलर के 8 सदस्यों की टीम के साथ-साथ 3 वालंटियर की नियुक्ति की गई है। यह टीम डेढ़ माह से इस परियोजना के बारे में जन-जन को जागरूक कर रही है।

ऐसा होने पर करें फोन
किसी बच्चे के साथ कहीं कोई दुर्व्यवहार करता हो।
बच्चे का शारीरिक, मानसिक रूप से शोषण किया जा रहा हो।
कोई बच्चा बीमार हो या अकेला बेसहारा हो।
बच्चे से जबरन मजदूरी करवाई जा रही हो।
बच्चे से काम करवाकर उसका मेहनताना न दिया जा रहा हो।
बाल मजदूरी करवाई जा रही है।
बच्चे को ऐसे कार्य करने पर मजबूर किया जा रहा हो जो वह करना नहीं चाहता हो।
बच्चे को गलत संगति में धकेला जा रहा हो।
मां-बाप या अन्य परिजनों व रिश्तेदारों द्वारा बच्चे को छोड़ दिया गया हो।
बच्चे को किसी भी तरह से प्रताड़ित किया जा रहा हो।
मां-बाप व परिजनों या अनाथ बच्चे को अमानवीय यातनाएं दी जा रही हाें।
बच्चे को शिक्षा व खेलकूद से महरूम रखा जा रहा हो।v

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

छेड़छाड़ रोकने गए पुलिस कर्मियों की इन लोगों ने फाड़ दी वर्दी

लोग कानून के रखवालो पर भी हमला करने से नही चूकते। ताज़ा मामला हरियाणा के नन्दा कॉलोनी का है जहां लड़की के साथ छेड़छाड़ के मामले की सूचना मिलने पर पहुंचे पीसीआर के पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला बोल दिया। यही नहीं उनकी वर्दी तक फाड़ डाली।  

17 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper