ट्विनसिटी हुई पानी-पानी

Yamuna Nagar Updated Tue, 28 Aug 2012 12:00 PM IST
यमुनानगर। तीन दिन से लगातार हो रही बारिश से ट्विनसिटी पानी-पानी हो गया है। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में जहां नदी और नाले उफान पर हैं, वहीं घरों, दुकानों और फैक्टरियों में पानी घुसने से भारी नुकसान का आंकलन किया जा रहा है। नाराज लोगों का कहना है कि निकासी नहीं होने के कारण ट्विनसिटी पानी-पानी हो गया है। इसके लिए निगम के अधिकारी जिम्मेदार हैं।


जगाधरी में रामलीला भवन के नजदीक से गुजर रहे गंदे नाले ने मटका चौक नेशनल हाईवे तक लोगों का जीना मुहाल कर रखा है। तीन दिन से घरों, दुकानों और कारखानों में घुसा पानी अभी तक नहीं निकला है। लोगों की मानें तो वे दिन रात घरों से पानी निकाल-निकाल कर थक चुके हैं। उन्होंने प्रशासन से पंप के जरिए पानी निकालने की गुहार लगाई है।
मटका चौक रेलवे रोड निवासी बलबीर सिंह, जसबीर सिंह, नरेंद्र सिंह, दलीप सिंह, खजान सिंह, गुलजार सिंह, नवदीप सिंह, अशोक कुमार, दुकानदार सुभाष, कल्याण सिंह का कहना है कि उनके घरों और दुकानों में बरसात और नाले का गंदा पानी तीन रुका है।

पानी में डूबी मशीनरी, कामकाज ठप
क्षेत्र के लोगों ने बताया कि बरसात के बाद पानी में सारी मशीनरी डूब गई, जिस कारण पिछले तीन दिनों से कामकाज ठप पड़ा हुआ है। बरसात व नाला ओवरफ्लो होने के कारण बिजली की मोटरें गिली हो गई है। कामकाज ठप होने की वजह से कई परिवारों के समक्ष रोजी रोटी के लाले पड़ने शुरू हो गए हैं।

ईटों पर बेड और मेज पर रखा फ्रीज
बलबीर सिंह व गुलजार सिंह ने बताया कि गंदे पानी में जब घरेलू सामान खराब होना शुरू हो गया, तो लोगों ने ईंटों पर बेड व टेबल पर फ्रीज को लगा दिया, ताकि उसको पानी की मार से बचाया जा सके। उन्होंने बताया कि बेड के अंदर रखे कपडे़ गंदे पानी में डूबकर खराब हो चुके हैं। इसके अलावा ट्रंक, अलमारी और अन्य घरेलू सामान भी पानी में भीगकर खराब होना शुरू हो गया है।

जुगाड़ भी नहीं आया काम
घरों में बरसात व नाले का गंदा पानी न घुसे इसलिए इस क्षेत्र के लोगों ने घरों के बाहर ईंटें व फट्टे लगाकर गंदे पानी को अंदर जाने से रोकने का जुगाड़ कर रखा है। पानी का बहाव इतना तेज है कि जुगाड़ भी उसके आगे बेबस हो गया। शनिवार को हुई तेज बारिश व नाले का गंदा पानी फट्टों व ईंटों के ऊपर से होकर लोगों के घरों में घुस गया। क्षेत्रवासियों का कहना है कि बरसात के दौरान इस सड़क पर अंदाजा लगना मुश्किल हो जाता है कि कहां तक सड़क है और कहां से नाला शुरू हो रहा है। यही वजह है कि रोजाना कई लोग नाले में गिरकर चोटिल हो जाते हैं।

निकासी की लचर व्यवस्था ने फिर खोली पोल
रविवार और सोमवार सुबह रुक रुककर बारिश होने के कारण जगाधरी एक बार फिर पानी-पानी हो गई है। शहर की अधिकांश सड़कों पर बरसात का पानी रुका है। सबसे ज्यादा दिक्कत सिविल लाइन, स्कूल रोड़, मटका चौक से रामलीला भवन को जाने वाली सड़क, पुराना छछरौली रोड़, श्मशान घाट रोड के लोगों को हो रही है। रामलीला भवन से मटका चौक नेशनल हाईवे पर सुबह के समय तीन से चार फीट तक पानी रुका था। इसके अलावा यमुनानगर के निचले इलाकों में भी पानी खड़ा नजर आया। इस कारण लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शहरवासी विक्रांत कुमार, विवेक कुमार, अश्विनी कुमार व अभिमन्यु का कहना है कि प्रशासन लोगों को मूलभूत सुविधाएं देने का दावा तो करता है, लेकिन हकीकत इससे कोसों दूर है। उन्होंने कहा कि नालों की सफाई पर प्रशासन ने लाखों खर्च किए हैं, लेकिन नतीजा सिफर है।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

फुल ड्रेस रिहर्सल आज, यातायात में होगी दिक्कत, कई जगह मिल सकता है जाम

सुबह 10:30 से दोपहर 12 बजे तक ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा। कई ट्रेनें मार्ग में रोककर चलाई जाएंगी तो कई आंशिक रूप से निरस्त रहेंगी।

23 जनवरी 2018

Related Videos

छेड़छाड़ रोकने गए पुलिस कर्मियों की इन लोगों ने फाड़ दी वर्दी

लोग कानून के रखवालो पर भी हमला करने से नही चूकते। ताज़ा मामला हरियाणा के नन्दा कॉलोनी का है जहां लड़की के साथ छेड़छाड़ के मामले की सूचना मिलने पर पहुंचे पीसीआर के पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला बोल दिया। यही नहीं उनकी वर्दी तक फाड़ डाली।  

17 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper