जल्द शिफ्ट होगी जगाधरी की लक्कड़ मंडी

Yamuna Nagar Updated Fri, 03 Aug 2012 12:00 PM IST
यमुनानगर। जगाधरी शहर के बीच से गुजर रहे एनएच-73 बनी लक्कड़ मंडी के शिफ्टिंग में गतिरोध लगभग समाप्त हो गया है। मार्केट कमेटी बोर्ड ने मानकपुर में बनाई गई नई लक्कड़ मंडी में दुकानों व बूथ के लिए छोटे प्लाटों की अलाटमेंट करने का निर्णय ले लिया है।
मार्केट कमेटी मानकपुर में बनाई गई नई लक्कड़ मंडी में जल्द ही छोटे प्लाटों की बोली करवाने जा रही है। मार्केट कमेटी के मंडी सुपरवाइजर विनोद गुप्ता ने बताया कि नई मंडी 12 गुणा 30 और 12 गुणा 27 के करीब 250 दुकानें और बूथ बनाए जाने का निर्णय लिया गया है। इन प्लाटों को जगाधरी लक्कड़ मंडी के टिंबर मर्चेंट को अलाट किया जाएगा। फिलहाल मंडी में प्लेटफार्म और मंडी में दी जाने वाली अन्य सुविधाओं को पूरा करवाया जा रहा है। यह कार्य जल्द ही पूरा हो जाएगा। नई मंडी में टिंबर मर्चेंट और लक्कड़ लेकर आने वाले किसानों को सभी सुविधाएं एक ही छत के नीचे मिलेगी।

शहर के लिए अभिशाप
जगाधरी शहर के बीच से गुजर रहे नेशनल हाईवे पर बनी लक्कड़ मंडी यहां जाम और दुर्घटनाओं का कारण बन रही है। लक्कड़ मंडी को शिफ्ट करने की कवायद चार साल से लटकी हुई है। जगाधरी के बुड़िया चौक से लेकर अग्रसेन चौक तक सड़क के दोनाें ओर तीन सौ से अधिक टिंबर मर्चेंट की दुकानें हैं। करीब दो किलोमीटर लंबे इस नेशनल हाईवे पर प्रतिदिन तड़के से ही पापुलर और सफेदे से लदी ट्रैक्टर-ट्रालियां और ट्रक आने शुरू हो जाते हैं, जो कई-कई घंटे तक एनएच के किनारे ही खड़े रहते हैं। इस मार्ग पर दो स्कूल और एक कालेज है। जगाधरी शहर का मुख्य मार्ग होने के कारण बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे सुबह और दोपहर को यहां से गुजरते हैं। इसके अलावा शहर वासी भी यहां से आते-जाते हैं। लकड़ी से लदी ट्रैक्टर-ट्रालियों के कारण यहां आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। एनएच पर सैकड़ों की संख्या में लकड़ी से लदे वाहन आड़े-तिरछे खड़े होने के कारण अन्य वाहनों को निकलने में भारी परेशानी होती है, जिससे जाम लगता रहता है।

चार साल से अटकी शिफ्टिंग
एनएच पर होने वाली दुर्घटनाओं और जगाधरी को जाम से छुटकारा दिलाने के लिए जिला प्रशासन ने जगाधरी की लक्कड़ मंडी को शहर से बाहर करने की योजना बनाई थी। इसके तहत वर्ष 2008 में मानकपुर इंडस्ट्रियल एरिया के सामने 24 एकड़ 5 कनाल 3 मरले में लक्कड़ मंडी बनाई गई। मार्केट कमेटी ने यहां प्लाट काटकर उसे बोली के माध्यम से सेल किया। बावजूद इसके जगाधरी की लक्कड़ मंडी शिफ्ट नहीं हो पाई है।

वाजिब रेट पर मिले प्लाट
जगाधरी टिंबर मर्चेंट एसोसिएशन के सेक्रेटरी वेद कांबोज ने कहा कि यदि मार्केट कमेटी वाजिब कीमत पर टिंबर मर्चेंटस को छोटे प्लाट उपलब्ध कराती है तो हमें शिफ्ट होने में कोई एतराज नहीं है। यदि मार्केट कमेटी पहले ही छोटे प्लाट काटकर मंडी के आढ़तियों को दे देती तो अब तक मंडी शिफ्ट हो गई होती।

क्यों नहीं मिले प्लाट
जगाधरी टिंबर मर्चेंट एसोसिएशन के प्रधान जितेंद्र ने कहा कि मार्केट कमेटी ने नई लक्कड़ मंडी में करीब 110 गज और इससे अधिक साइज के प्लाट काटे और इनकी ओपन बोली करवाई। इनकी कीमत 30 लाख रुपये से अधिक थी। इसके कारण बाहरी व्यक्ति, फाइनेंसर और प्रापर्टी डीलर्स भी बोली में आ गए। जगाधरी लक्कड़ मंडी में 250 से अधिक टिंबर मर्चेंट हैं, लेकिन बोली में करीब 85 प्रतिशत प्लाट बाहरी लोगाें नेे ले लिए। इन प्लाटोें की कीमत इतनी अधिक रखी गई कि इन्हें खरीदना टिंबर मर्चेंट के बस में नहीं था।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

छेड़छाड़ रोकने गए पुलिस कर्मियों की इन लोगों ने फाड़ दी वर्दी

लोग कानून के रखवालो पर भी हमला करने से नही चूकते। ताज़ा मामला हरियाणा के नन्दा कॉलोनी का है जहां लड़की के साथ छेड़छाड़ के मामले की सूचना मिलने पर पहुंचे पीसीआर के पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला बोल दिया। यही नहीं उनकी वर्दी तक फाड़ डाली।  

17 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper