विज्ञापन

एंकर...जंगली जानवरों के लिए कलेसर जंगल में तैयार होगी बरसीन और बाजरा

Rohtak Bureau Updated Fri, 09 Feb 2018 11:13 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जंगली जानवरों के लिए कलेसर के जंगल में तैयार होगी बरसीम और बाजरा
विज्ञापन
-जंगल में खेती से बचेंगे किसानों के खेत और जंगली जानवर
अमर उजाला ब्यूरो
यमुनानगर/खिजराबाद। कलेसर नेशनल पार्क के जंगली जानवर अब किसानों के खेत बर्बाद नहीं करेंगे। भूख लगने पर खेतों को रुख करने वाले जंगली जानवरों के लिए अब जंगल में ही बरसीम और बाजरा उगाई जा रही है। इसके लिए जंगल में बाकायदा खेत तैयार किए जा रहे हैं।
गर्मी का सीजन आते ही जंगली जानवर घास और पानी की तलाश में मैदानी इलाकों का रुख करने लगते हैं। इससे जंगल के आसपास खेती करने वाले जमींदारों को खासा नुकसान झेलना पड़ता है। भूखे जंगली जानवर खेतों में लगी फसल को बर्बाद कर देते हैं। खेत को जंगली जानवरों से बचाने के लिए किसानों को रातों को जागकर रखवाली करनी पड़ती है। जंगल से लगे खेतों के किसान हर साल वन विभाग से जंगली जानवरों से उनकी फसल बचाने की गुहार लगाते रहते हैं। इस बारे में वन विभाग ने किसानों की फसलों को बचाने के लिए कदम उठाया है। इसके तहत जंगल में खेत तैयार कर उसमें बरसीम व बाजरा उगाया जा रहा है। जंगली जानवर इसे बडे़ चाव से खाते हैं। इसके मद्देनजर जंगल में बनी फायर लाइनों में लगभग 30 एकड़ एरिया में घास में बाजरे आदि की बिजाई की गई है ताकि जंगली जानवर जंगल में रहकर ही अपना खानपान कर सकें और मैदानी इलाकों की ओर ना जा सकें। बरसीम और बाजरा अगले दो महीने में तैयार हो जाएगी। जंगल में खरगोश, जंगली सूअर, हिरन, चीतल, सांभर और नील गाय काफी संख्या में हैं। ये बरसीम और बाजरा बड़े चाव से खाते हैं।

फसल को बचाने के फेर में जाती है जानवरों की जान
जंगली जानवर हर साल जंगल से खेतों में लगी फसल को खाने आते हैं। जानवर रात के समय खेतों में आते हैं। सभी किसान रात के समय अपने खेतों की रखवाली नहीं कर पाते। इस कारण जमींदार अपनी फसलों को बचाने के लिए अपने खेतों में कंटीली तार लगाते हैं। वहीं, कुछ जमींदार तो रात के समय कंटीली तारों में करंट छोड़ देते हैं। तार के संपर्क में आते ही जंगली जानवर अपनी जान गंवा देते हैं। वन विभाग को एक तरफ जहां किसानों की फसल बचानी होती है। वहीं, जंगली जानवरों की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी वन विभाग पर है। ऐसे में वन विभाग ने जंगल में ही जंगली जानवरों के लिए हरा चारा उपलब्ध कराने का फैसला लिया।

वर्ष 2014 के बाद से खेतों में नुकसान की घटनाएं बढ़ीं
वर्ष 2011 में कलेसर नेशनल पार्क में जंगली जानवरों के लिए जंगल में बनी फायर लाइनों में खेतों की तरह फसल उगाई गई थी। उस समय भी जंगली जानवरों द्वारा खेतों में जमींदारों की फसल के नुकसान की घटनाओं में भी कमी आई थी। वर्ष 2014 के बाद जंगली जानवरों द्वारा जंगल के पास लगते खेतों में फसल को नुकसान करने की घटनाएं बढ़ी हैं। इन्हीं घटनाओं के चलते वन विभाग ने एक बार फिर जंगल की फायर लाइनों में घास उगाने की तैयारी कर ली है। वन विभाग के अधिकारियों का मानना है कि जंगली जानवर हरे चारे की तलाश में जंगल से निकलकर खेतों में आते हैं। यदि जानवरों को जंगल में ही हरा चारा मिल जाएगा तो वे खेतों का रुख नहीं करेंगे। इससे किसानों के खेतों में नुकसान की घटनाएं नहीं होंगी और जंगली जानवर भी सुरक्षित रह सकेंगे।

जंगली जानवरों की सुरक्षा और उनके खानपान को ध्यान में रखते हुए जंगल में बनी फायर लाइनों में बरसीम व बाजरे आदि की बिजाई की गई है ताकि जंगली जानवर जंगल में रहकर ही अपना खानपान कर सकें और मैदानी इलाकों की ओर ना आए।
- राजपाल, निरीक्षक, वन्य प्राणी विभाग
फोटो-4

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Yamuna Nagar

शाही स्नान के साथ ऐतिहासिक कपालमोचन मेला शुरू, पहले दिन दो लाख श्रद्धालुओं ने पवित्र सरोवरों में लगाई श्रद्धा की डूबकी

शाही स्नान के साथ ऐतिहासिक कपालमोचन मेला शुरू, पहले दिन दो लाख श्रद्धालुओं ने पवित्र सरोवरों में लगाई श्रद्धा की डूबकी

20 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

VIDEO: मंदिर के मैनेजर की कपड़ा फाड़ पिटाई, लड़की संग किया था गंदा काम

यमुनानगर में एक मंदिर के मैनेजर को लड़की से छेड़छाड़ के आरोप में लोगों ने खूब पीटा। मैनेजर की पीटाई करते हुए उसके कपड़े भी फाड़ दिए गए और भी सभी उसे लेकर थाने पहुंच गए।

30 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree