चल खेले धरना-धरना, तू बन जाए कांग्रेस और मैं बन जाऊं अन्ना

Rohtak Updated Wed, 03 Oct 2012 12:00 PM IST
बहल। विद्याग्राम परिसर में आयोजित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में कवियों ने जहां वर्तमान राजनैतिक व्यवस्था पर चोट की वहीं भ्रष्टाचार के लिए चलाए गए आंदोलनों पर भी कटाक्ष किा। सम्मेलन में वीररस के कवियों ने राष्ट्रभक्ति का संदेश दिया तो हरियाणवी संस्कृति से जुड़े चुटकले सुनाकर लोगों को खूब गुदगुदाया। बीआरसीएम एजूकेशन सोसाइटी की ओर से कविजनों को सम्मानित किया गया।
आगरा से आए सरदार प्रताप फौजदार ने जब मंच संभाला तो उनका जोरदार स्वागत हुआ। उन्होंने अपनी कविता ‘ चल खेले धरना-धरना, तू बन जाए कांग्रेस और मैं बन जाऊं अन्ना-अन्ना’ के माध्यम से कांग्रेस और अन्ना के बीच के द्वंद्व का मार्मिक चित्रण किया। आगे कहा ‘सात साल से प्रधानमंत्री बोला नहीं और जिस दिन बोला तो उस दिन देश बंद हो गया ’ की चार लाइनों पर खूब तालियां बजी। महिला कवियत्री बलजीत कौर तन्हा ने घर में सास-बहू के बिगड़ते रिश्ते पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जब सीता का वन में जाने के कारण पर प्रकाश डालते हुए कहा कि ‘जब तीन-तीन सास घर में हो तो जंगल जाना ही ठीक है’ पर दर्शक खूब हंसे। पति-पत्नी के बीच मनमुटाव को अन्ना अनशन से जोड़कर कहा कि ‘जब 80 साल का बूढा 13 दिन जी गया तू तो कई दिन जी जाएगी’ तो उसे श्रोताओं ने खूब सराहा।
अनिल अग्रवंशी ने चुटकलों के माध्यम से हरियाणवी व्यक्ति को सीधा-सीधा और हाजिरजवाबी के रूप में पेश करते हुए खूब समर्थन हासिल किया। उनकी हास्य कविता ‘छोटा बच्चा और सूर्य भगवान’ श्रोताओं को पसंद आई। ‘मैडम के सामने मैं कौन हूं, और जब से पीएम बना हूं तब से मौन हूं’ कविता के माध्यम से उन्होंने देश की लाचार शीर्ष सत्ता का चित्रण किया। भोपाल से आए वीर रस के कवि मदन मोहन समर ने देशभक्ति की कविता ‘शत्रु की साजिश के सम्मुख जिनका तना स्वाभिमान है, उनके दम पर खड़ा हुआ मेरा हिन्दुस्तान है’ पर लोगों ने हाथ हिलाकर समर्थन किया। इसके अलावा ‘शीला-मुन्नी की बदनामी पर हमें भी गाना आता है, पर हम इसमें डूब गए तो तुमको कौन जगाएगा’ पर फिल्मों की फूहड़ता पर कटाक्ष किया। अंत में आए कवि राजेश चेतन ने भी ‘ यह उनके बस की बात नहीं है ’ रचना से स्वार्थ की राजनीति की जमकर बखियां उधेड़ने का काम किया। कार्यक्रम में मंच संचालन कवि राजेश चेतन ने किया। सभी कविजनों को चेयरमैन हरिकृष्ण चौधरी ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस मौके पर नागरमल अग्रवाल, ट्रस्टी महेश चौधरी, डा. एनपी गौड़, पूर्व सरपंच गजानंद अग्रवाल, संतलाल गुगलवा सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: हरियाणा में प्यार करने की सजा देख रूह कांप उठेगी

हरियाणा के मेवात से एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक युवक को भरी पंचायत में जूतों से पीटा जा रहा है। युवक का जुर्म दूसरे गांव की लड़की से प्यार करना बताया जा रहा है। पंचायत ने युवक पर 80 हजार रुपये का दंड और पांच जूतों का फरमान सुना था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper