नगर निगम का खेल, रसूखदारों पर मेहरबानी

Rohtak Bureau Updated Sat, 10 Feb 2018 02:28 AM IST
शहर में आम लोगों को पछतावा, काश हम भी होते सत्ता के करीबी
निगम रसूखदारों पर मेहरबान, नियमों को ताक पर रख बनाई सीमेंट की गलियां

: वार्ड नंबर 11,13 व 18 में उजागर हुए मामले
: कांग्रेस पार्षद बोले - गली में रहते हैं भाजपा कार्यकर्ता
: भाजपाई बोले, मंत्री से करूंगा निर्माण में भेदभाव की शिकायत
: आयुक्त बोले, जहां जरूरत वहां बनाई सीमेंट की सड़क, यह कोई बड़ी बात नहीं
- सांई दास कॉलोनी में एक तरफ बनाई इंटरलॉकिंग तो दूसरी तरफ सीमेंट की सड़क
- पार्षद ने मांगा निगम आयुक्त से लेकर इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारियों से जवाब
- मिगलानी और जयकिशन के वार्ड 17 और 11 में भी चल रहा यही खेल

विजेंद्र कौशिक
रोहतक।
शहर के आम आदमी खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। पछतावा है कि काश वे भी किसी रसूखदार या सत्ता के करीबी के पड़ोसी होते। कम से कम चमचमाती सीमेंट की गली तो मिलती। यह हम नहीं, बल्कि नगर निगम शहर के लोगों का यह अहसास करवा रहा है। वार्ड नंबर 11,13 व 18 में इस तरह का भेदभाव सामने आया है। पूछने पर निगम के अधिकारी बड़ी आसानी से छोटी-मोटी बात कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं।

केस नंबर 1:
नेताजी की गली सीमेंट की, पड़ोसी की इंटर लॉकिंग भी उखड़ने लगी
कांग्रेसी पार्षद संजय सैनी के वार्ड नंबर 13 की सांईदास कॉलोनी में दो माह पहले आधा दर्जन गलियों के निर्माण के लिए 40 लाख रुपये का टेंडर निगम की तरफ से लगाया गया था। सभी गलियां इंटर लॉकिंग टाइल से बनाई जानी थी। अचानक निगम की प्लानिंग बदल गई और सती मंदिर के नजदीक एक गली सीमेंट से बना दी। इसके लिए बाकायदा 2 लाख 98 हजार रुपये का टेंडर लगाया गया। कालोनी के लोगों का कहना है कि निगम यह भेदभाव क्यों कर रहा है। एक तरफ कालोनी की ज्यादातर गलियां टाइल की बनाई हैं। जबकि एक गली सीमेंट की बनाई गई है।

मंत्री ने घोषणा की तो मैं भी जिद्द पर अड़ गया : अशोक गुलाटी
अमर उजाला ने पड़ताल की तो पता चला कि गली के कोने पर सत्ता के करीबी फर्नीचर व्यापारी अशोक गुलाटी का मकान है। गुलाटी से बात की तो बोले, एक दिन कार्यक्रम में मंत्री मनीष ग्रोवर आए थे। मंत्री ने घोषणा की थी कि जो जैसी गली बनवाना चाहे, बना दी जाएगी। उस समय निगम आयुक्त प्रदीप कुमार भी वहीं थे। मैं तो अगले ही दिन आयुक्त के पास पहुंच गया और गली को सीमेंट की बनवाने की मांग की। कहा, मंत्री अपने शब्द वापस लें या मेरी गली सीमेंट की बनवाएं। इसके बाद निगम ने गली बना दी।

मैं कहां जाऊं, लोग उतार रहे कपड़े, अधिकारी झाड़ रहे पल्ला
मेरी देखरेख में सभी छह गलियों को इंटर लॉकिंग बनाने का टेंडर लगाया गया। एक सप्ताह के लिए वे बाहर चले गए। पीछे से निगम प्रशासन ने एक गली का अलग से सीमेंट का बनाने का टेंडर लगा दिया। अब बाकी गलियों के लोग उससे पूछ रहे हैं उनके साथ ये भेदभाव क्यों। जब निगम आयुक्त से लेकर इंजीनियरिंग ब्रांच के अधिकारियों से पूछा तो वे कोई संतोषजनक जवाब नहीं देते। कहते हैं कि छोटी-मोटी बातें होती रहती हैं।
- संजय सैनी, कांग्रेस पार्षद वार्ड नंबर 13

केस नंबर 2 :
आरएसएस व भाजपा नेता का मकान, नहीं कोई विरोध करने वाला
कांग्रेसी पार्षद अनीता मिगलानी के वार्ड में लेबर चौक से वाल्मीकि बस्ती तक सीमेंट का 20 फीट चौड़ा रोड बन रहा है। जबकि वार्ड के अंदर दूसरी गलियां इंटरलॉकिंग टाइल की बनी हैं। इतना ही नहीं, गली के निर्माण को लेकर एक बार तो ठेकेदार को भी घेरा जा चुका है। जब पड़ताल की गई तो पता चला कि गली में न केवल संघ के कार्यकर्ताओं का मकान है, बल्कि एक भाजपा का भी यहीं मकान है। इतना ही नहीं भाजपा के मनोनित पार्षद मदनलाल कुरड़ा भी एरिया में सक्रिय रहते हैं। एक माह से सीमेंट की गल बनी रही है।

मेरी वार्ड के अंदर ज्यादातर गलियां टाइल की बनाईं गई हैं, लेकिन लेबर चौक से वाल्मीकि बस्ती तक सीमेंट से सड़क बनाई जा रही हैं। ऐसा निगम क्यों कर रहा है, यह समझ से बाहर है। हालांकि पता चला है कि उस गली में भाजपा के कुछ कार्यकर्ता जरूर रहते हैं। निगम को सभी के साथ एक जैसा व्यवहार करना चाहिए। इस तरह का भेदभाव ठीक नहीं है।
- अनीता मिगलानी, कांग्रेस पार्षद वार्ड नंबर 11

केस नंबर 3
अच्छी खासी सीमेंट गली उखाड़ने की तैयारी
निगम के वार्ड नंबर 18 में स्थित शिवाजी कॉलोनी में एक गली पर निगम काफी मेहरबानी दिखा रहा है। गली न केवल सीमेंट की बनी हुई है, बल्कि हालत भी ठीक है। निगम सूत्रों का कहना है कि इस गली को दोबारा से सीमेंट की बनाने की तैयारी चल रही है। जल्द वर्क आर्डर जारी हो सकता है। गली में न केवल एक ठेकेदार का मकान है, बल्कि सत्ता से जुड़े एक व्यक्ति की रिश्तेदारी भी है। पड़ताल करने पर गली के लोगों का कहना है कि अभी निर्माण की सूचना नहीं मिली। गली पूरी तरह ठीक है। दोबारा तोड़क नहीं बनानी चाहिए। इससे लोगों को परेशानी ही होगी।

मेरे वार्ड की गलियां भी बनाओ सीमेंट की
मेरे वार्ड के साथ वार्ड नंबर 18 की शिवाजी कॉलोनी लगती है, जहां एक गली को सीमेंट का बनाने की तैयारी चल रही है। किसी भी दिन वर्क आर्डर जारी हो सकता है। जबकि उसके वार्ड की जनता कॉलोनी में चार गलियों का काम बंद पड़ा है। लोग टाइल की जगह सीमेंट की सड़क बनवाना चाहते हैं। वे इसके लिए निगम के अधिकारियों से मिले थे। अधिकारियों ने जल्द सीमेंट की सड़क बनाने का भरोसा दिया है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो मंत्री से शिकायत करेंगे। मेरे वार्ड के साथ भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा।
- जय किशन राजोतिया, भाजपा पार्षद वार्ड नंबर 17
वर्जन
जो वर्क आर्डर आते हैं, उसी तरह से गली का निर्माण कराया जाता है। पार्षद मेरे पास भी आए थे। मैं इस संबंध में कोई जवाब नहीं दे सकता।
- जगदीश चंद्र, म्यूनिसिपल इंजीनियर नगर निगम

इंटरलॉकिंग टाइल की सड़कों पर जोर
नगर निगम का इंटरलॉकिंग टाइल से सड़क बनाने पर जोर रहता है। ये सड़क सीमेंट की सड़क से ज्यादा मजबूत बनती हैं। इसके बावजूद कुछ लोग सीमेंट से बनी सड़क को स्टेटस सिंबल मानकर चल रहे हैं। ऐसा कुछ नहीं है।
- मंजीत दहिया, एक्सईएन नगर निगम

छोटी-मोटी बातें हो जाती हैं
कहीं सीमेंट तो कहीं इंटरलॉकिंग टाइल की सड़क बनी हैं। कुछ लोग बेवजह शिकायत कर रहे हैं। इस तरह की छोटी-मोटी बातें होती रहती हैं। यह कोई मुद्दा नहीं है। जहां तक अच्छी सड़क को दोबारा बनाने की बात है। वे जांच कराएंगे। अगर सड़क की हालत सही है तो उसे तोड़कर दोबारा बनाने पर पैसा बर्बाद नहीं होगा।
- प्रदीप कुमार, आयुक्त नगर निगम

इसलिए सीमेंट की सड़क पर जोर
सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के तहत एक सड़क को तोड़े बगैर नहीं बनाया जा सकता, क्योंकि इससे घर नीचे चले जाते हैं। सीमेंट की पुरानी या नई सड़क तोड़ने में ज्यादा परेशानी आती है। इस कारण सरकार ने हिदायत दे रखी है कि सड़कें इंटर लॉकिंग टाइल की बनाएं। एक्सपर्ट का मानना है कि अगर नीचे कंक्रीट से आधार बनाकर तब टाइल बिछाएं तो इंटर लॉकिंग टाइल की मजबूत सड़क बनती है, लेकिन ठेकेदार ऐसा नहीं करते। सामान्य तरीके से रोड़े बिछाकर टाइल लगा दी जाती है, जो दबाव आते ही धंस जाती हैं। इसलिए लोग सीमेंट की सड़क बनवाने पर जोर देते हैं।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Chhattisgarh

छत्तीसगढ़: फर्जी नोट छापने और चलाने के आरोप में तीन गिरफ्तार 

छत्तीसगढ़ में महासमुंद पुलिस ने एक डॉक्टर सहित तीन लोगों को फर्जी नोट छापने और उन्हें चलाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है।

25 फरवरी 2018

Related Videos

हनीप्रीत की हुई कोर्ट में पेशी, पंचकूला हिंसा भड़काने का आरोप

पंचकूला हिंसा में देशद्रोह का मामला झेल रहीं डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की राजदार हनीप्रीतइंसा को बुधवार को जिला अदालत में पेश किया गया।

21 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen