विज्ञापन
विज्ञापन

चमकी के डर से लीची के भाव हुए धड़ाम, किसानों से व्यापारी तक परेशान, लोगों में बना खौफ

Rohtak Bureauरोहतक ब्यूरो Updated Sun, 23 Jun 2019 11:29 PM IST
ख़बर सुनें
पानीपत। बिहार में चमकी यानि दिमागी बुखार से लगातार हुई बच्चों की मौत के हादसे को सोशल मीडिया ने लीची को जिम्मेदार ठहरा दिया है। सोशल मीडिया पर लगातार फैल रही अफवाहों के कारण लीची का व्यापार बिल्कुल ठप सा हो गया है। व्हाट्सएप और फेसबुक पर अफवाह फैल रही है कि लीची के अंदर एक कीड़ा पाया जा रहा है, जो बच्चों के लिए खतरनाक है। इससे विशेष रूप से कम उम्र के बच्चे चमकी बुखार का शिकार हो रहे हैं। नतीजा यह हुआ कि पानीपत की मशहूर लीची को लोगों ने खरीदना ही बंद कर दिया। इससे लीची उगाने वाले किसानों के साथ थोक विक्रेता और रेहड़ी और फड़ी वालों के लिए परेशानी खड़ी हो चुकी है। व्यापार 90 प्रतिशत गिर चुका है। जहां लीची के रेट 130 रुपये प्रति किलो हो चुके थे, अब इन्हें कोई 70 रुपये प्रति किलो खरीदने को भी तैयार नहीं है। दुकानों पर खरीदी जा चुकी लीची खराब हो रही है। इस बारे में जब विशेषज्ञों से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि चमकी यानि दिमागी बुखार का लीची से कोई संबंध नहीं है। यह बुखार डि-हाइड्रेशन की वजह से होता है। उन्होंने लीची की वजह से होने वाले इस बुखार को पूरी तरह से अफवाह ठहराया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
कीड़े होने की फैली अफवाह
अफवाह थी कि लीची के अंदर एक कीड़ा होता है। इससे कम उम्र के बच्चे ज्यादा प्रभावित होते हैं। इसे खाने से वे चमकी बुखार की गिरफ्त में आ सकते हैं। कई लोगों ने यहां की लीची को बिहार में हुई घटना से भी जोड़ा है।
यमुना तलहटी लीची का खुमार बंद
यमुना की तलहटी से निकलने वाली लीची की मार्केट वैल्यू सबसे ज्यादा रहती है। इसकी कीमत बाकी जगह से आने वाले लीची से ज्यादा होती थी। इस घटना के बाद यहां की लीची बिकनी बंद हो चुकी है। पहाड़ों से आने वाली लीची को भी कोई खरीदने को तैयार नहीं है।
चमकी बुखार के बाद से कारोबार ठप
सनौली के लीची बाग मालिक कृष्ण त्यागी ने बताया कि सबसे लीची से चमकी बुखार होने की अफवाह उड़ी है, तब से कारोबार ठप है। बाग से 100 रुपये में उठने वाली लीची के दाम गिरकर बीते 15 दिन में 60 रुपये तक आ गए हैं। बाग मालिक सुधीर त्यागी ने बताया कि बाजार में लीची की बिक्री न हो पाने की वजह से लीची दुकानों पर ही पड़ी-पड़ी खराब हो रही है। वहीं इसे उगाने वाले किसान भी अब परेशान हो चुके हैं। उनसे थोक विक्रेता लीची खरीदने को तैयार ही नहीं है। जो लीची यमुना तलहटी के नाम से ही बिकना शुरू हुआ करती थी, वह लीची अफवाह की वजह से खराब होना शुरू हो चुकी है। उधर, सिविल अस्पताल, पानीपत की बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. निहारिका ने कहा कि चमकी यानी दिमागी बुखार लीची से नहीं होता। यह एक अफवाह है। यह बुखार डि-हाइड्रेशन की वजह से होता है। इसकी चपेट में सबसे ज्यादा वो बच्चे आते हैं, जिनका औसतन वजन कम होता है।

Recommended

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य
Invertis university

'अभिरुचि' एक नई पहल जो बना रही है छात्रों का भविष्य

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019
Astrology

लंबी आयु और अच्छी सेहत के लिए इस सावन महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक - 22/ जुलाई/2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Chandigarh

समझौता ब्लास्ट मामला: पाकिस्तानी महिला ने एनआईए कोर्ट के आदेश को हाईकोर्ट में दी चुनौती

एनआईए की विशेष अदालत द्वारा बहुचर्चित समझौता एक्सप्रेस बम धमाके के मामले में दिए गए फैसले को पाकिस्तानी महिला ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में चुनौती दी है।

20 जुलाई 2019

विज्ञापन

Tik-Tok पर आपत्तिजनक वीडियो शेयर कर बुरा फंसे एजाज खान, अब पत्नी ने दिया बड़ा बयान

बिग बॉस के पूर्व कंटेस्टेंट एजाज खान को टिक टॉक पर विवादित वीडियो की वजह से मुंबई साइबर क्राइम पुलिस ने 18 जुलाई गिरफ्तार कर लिया था। वहीं अब एजाज खान की पत्नी का बयान सामने आया हैं जिसमें उन्होंने इसे पूरे घटनाक्रम को साजिश बताया है।

20 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree