बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

-कॉलोनी में हाईटेंशन तारों का करंट लगने से छठा हादसा, तीन की हो चुकी मौत

Updated Sun, 04 Jun 2017 09:15 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन

पानीपत। बतरा कॉलोनी रविवार को हाईटेंशन तारों के टकराने से हुए धमकों से दहल उठी। पिछले पांच सालों में कॉलोनी में हाईटेंशन तारों के चलते छठा हादसा हुआ। इन हादसों में मरने वालों की संख्या तीन हो गई है। हाईटेंशन तारों के नीचे करीब 250 मकान हैं। इन मकानों की छत पर जाना जान को खतरे में डालना है। मकानों में हल्की सी बारिश होते ही करंट आ जाता है। इसके चलते मकानों में रहने में भी डर लगता है। प्रशासन और बिजली निगम का इस तरफ कोई ध्यान नहीं है।
रविवार को पारा 45 डिग्री होने के कारण हर कोई घर में दुबका था। बहुत जरूरी होने पर ही लोग घर से बाहर निकल रहे थे। दोपहर को करीब दो बजे विपिन निवासी जौधी हरदोई यूपी पानीपत की बतरा कॉलोनी में रहने वाले अपनी मौसी के लड़के रामनिहार के पास आया था। वह आने के कुछ देर बाद मकान की छत पर चला गया। वहां पर मकान की छत के बिलकुल पास से गुजर रहे हाईटेंशन तार की चपेट में आ गया। हाईटेंशन तारों के छूते ही तारों में जोरदार धमाका हुआ और बतरा कॉलोनी समेत आसपास की कॉलोनियों की बिजली गुल हो गई। धमाका होते ही कॉलोनी के लोग आवाज की दिशा में भाग खड़े हुए।

खंभे पर लगे मीटर और पास के मकानों में भी धमाके
अलापुर बदायूं निवासी बदलेराम ने बताया कि वह दोपहर को अपने घर जा रहा था। वह रामनिहोर के मकान के नजदीक बिजली के खंभे के पास पहुंचा तो तेज धमाका हुआ। वह भी मीटरों में हुए धमाके और उसमें लगी आग की चपेट में आ गया। आग से उसका हाथ बुरी तरह से झुलस गया। वहां से भागकर उसने पीछे मुड़कर देखा तो गली में एक युवक का शव पड़ा था। आसपास के मकानों से भी धुआं निकल रहा था।
मकान बुरी तरह से हो गया क्षतिग्रस्त
हाईटेंशन तारों के करंट मकान और बिजली की फिटिंग में आने धमका हो गया। मकान की छत हिल गई और शटर भी टूट गया। पास में स्थित कई मकानों में बिजली के उपकरण फुंक गए। हादसे के बाद कॉलोनी की बिजली गुल हो गई। कुछ देर बाद बिजली आ भी गई। लेकिन, लोगों ने बिजली निगम को सूचना देकर सप्लाई बंद करवा दी।
कॉलोनी के लोगों में रोष
बतरा कॉलोनी में हादसे के बाद प्रशासन और बिजली निगम के प्रति लोगों में आक्रोश है। कॉलोनीवासी महाबीर सिंह सैनी और पार्षद प्रवेश नैन ने बताया कि हाईटेंशन तारों की हर साल खिंचाई कर दी जाती थी। इससे हादसों से बचे रहते थे। बिजली निगम ने पिछले दो साल से तारों पर ध्यान नहीं दिया। इस वजह से तार ढीले होकर मकान की छतों से चार या पांच फीट ही ऊंचे रह गए हैं। प्रशासन भी इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया रहा है। पिछले सालों एक बार कुछ लोगों को नोटिस दिए गए थे, लेकिन बाद में मामला फिर ठंडे बस्ते में चला गया।
राजस्व विभाग ने कर दी रजिस्ट्री
बतरा कॉलोनी पूरी तरह से आबाद है। शहर की वैध कॉलोनियों में है। हाईटेंशन तारों के नीचे की जमीन पर भी प्लॉटिंग कर दी गई है। राजस्व विभाग ने भी इसकी रजिस्ट्री तक कर दी। लोगों ने अपनी जमीन पर मकान बना लिए, लेकिन वे तारों के खतरे के चलते छत पीछे ही रखने को मजबूर हैं। बताया जा रहा है कि पिछले दिनों सड़क और गली बनने के बाद कॉलोनी करीब पांच फुट ऊपर उठ गई है, लेकिन तार अपनी जगह हैं। इससे खतरा बढ़ गया है।

बतरा कॉलोनी में हाईटेंशन तारों की चपेट में आने से युवक की मौत की सूचना मिली थी। शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है। इस मामले को उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाया जाएगा।
जीवेंद्र मलिक, तहसीलदार, पानीपत।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us