पुलिस पर भारी रहा लुटेरों का ‘पंच’

Panipat Updated Wed, 05 Dec 2012 05:30 AM IST
पानीपत। लुटेरे सरेआम वारदात को अंजाम देकर पुलिस प्रबंधों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। वीटा दूध सप्लायर उपकार सिंह को गोली मारकर 12.67 लाख रुपये और दो चेक लूटना नई वारदात नहीं है। इससे पहले भी लूट की दर्जनों वारदात हो चुकी हैं। पुलिस अधिकारी हर बार वारदात के खुलासे का दावा कर देती है, लेकिन कई वारदातों का आज तक खुलासा तक नहीं हो पाया। पुलिस के ढुलमुल रवैये से लोगों का विश्वास उठता जा रहा है। अमर उजाला ने गत वर्ष जिले में हुई पांच वारदातों को उठाया। इनमें पुलिस की सतर्कता की तसवीर का सहज अंदाजा लगाया जा सकता है।
वारदात नंबर एक
लुटेरों ने 6 दिसंबर 2011 को गोहाना रोड स्थित वेस्ट काटन के आफिस में घुसकर मालिक मनीराम से 6.40 लाख रुपये लूट लिए और फरार हो गए। पुलिस ने आरोपियों की धरपकड़ की, लेकिन सफलता नहीं मिल पाई। 23 मई 2012 को चांदनी बाग की दयाल कालोनी में एक कंपनी के कैशियर को गोली मार कर 4.50 लाख रुपये लूट ले गए।
वारदात नंबर दो
माडल टाउन थाने के अंतर्गत लतीफ गार्डन से 10 दिसंबर 2011 की शाम को खल व्यवसायी अमरीक सिंह से 46 हजार रुपये लूट लिए। अमरीक सिंह उस दिन शाम को दुकान बंद कर अपने कर्मचारी लालीन के साथ घर जा रहा था। लुटेरे वारदात को अंजाम देकर फायरिंग के बाद हथियार लहराते हुए फरार हो गए। लुटेरों के शांति नगर में मिलने की सूचना पर पुलिस ने पूरे माडल टाउन की नाकाबंदी कर दी, लेकिन लुटेरे पुलिस की आंखों में धूल झोंककर निकल गए। पुलिस लुटेरों को पकड़ने का दावा तो रही है, पर पीड़ित को लुटी राशि नहीं मिल पाई।
वारदात नंबर तीन
थाना सदर के अंतर्गत पानीपत-हरिद्वार मार्ग पर छाजपुर कलां गांव के पास 13 दिसंबर 2011 को पेट्रोल पंप मालिक रोहताश रावल की गोली मारकर हत्या कर दी और उससे पेट्रोल पंप की से 3.44 लाख रुपये लूट लिए। पुलिस के उच्च अधिकारियों ने मौके का मुआयना किया और लुटेरों को पकड़ने का दावा किया। पुलिस अगले दिन पंप मालिक की क्षतिग्रस्त मोटरसाइकिल ही खेतों से बरामद कर पाई। पुलिस ने लुटेरों का सुराग देने वालों को 50 हजार का ईनाम रखा। परिजनों ने भी कई बार तत्कालीन एसपी से मिलकर न्याय की गुहार लगाई, लेकिन पुलिस लुटेरों को नहीं पकड़ पाई।
वारदात नंबर चार
22 दिसंबर 2011 को शहर थाने के अंतर्गत परमहंस कुटिया के पास वोडाफोन के डिस्ट्रीब्यूटर जितेंद्र गर्ग से गन प्वाइंट पर 3.10 लाख रुपये लूटे। लुटेरे नकाब पहनकर वहां पहुंचे। 22 फरवरी 2012 को वोडाफोन के डिस्ट्रीब्यूटर सुनील मदान से 4 लाख रुपये लूटे। पुलिस लूट की इन वारदातों को अब तक सुलझाने में असफल रही है।
वारदात नंबर पांच
बापौली थाना क्षेत्र के गांव बिहौली के पास दो मार्च 2012 को तीन लुटेरों ने समालखा के टोका उद्यमी नरेश और उसके चालक को बंधक बना लिया था। वे यूपी के कई शहरों से आर्डर का 6.70 लाख रुपये लेकर आ रहे थे। लुटेरों ने उनकी गाड़ी के आगे मोटरसाइकिल अड़ाकर वारदात को अंजाम दिया और वे दोनों को गन प्वाइंट पर बंधक बना गाड़ी लेकर इधर उधर घूमते रहे। इसके बाद वे दोनों को समालखा की सीमा पार कर सोनीपत के गांव छदिया ले गए और दोनों को उन्हीं के कपड़ों से बांधकर फरार हो गए। पुलिस दोनों बंधकों को मिलने के बाद रातभर लुटेरों की तलाश करती रही। पुलिस को अगले दिन गन्नौर के एक गांव के पास उद्यमी की गाड़ी तो बरामद कर ली, लेकिन लुटेरों और लूट की राशि का आज तक सुराग नहीं लग पाया है।
वर्जन
पुलिस कानून व्यवस्था कायम रखने के लिए सजग है। लूट की कुछ वारदात हो गई थी। पुलिस ने वारदातों को सुलझा दिया है। छाजपुर कलां में पेट्रोल पंप मालिक की हत्या और लूट की वारदात अभी सुलझ नहीं पाई है। पुलिस लगातार इसके प्रयास में है।
नरेंद्र सिंह, प्रवक्ता, पुलिस पानीपत

Spotlight

Most Read

National

सियासी दल सहमत तो निर्वाचन आयोग ‘एक देश एक चुनाव’ के लिए तैयार

मध्य प्रदेश काडर के आईएएस अधिकारी और झांसी जिले के मूल निवासी ओपी रावत ने मंगलवार को मुख्य चुनाव आयुक्त का कार्यभार संभाल लिया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

पानीपत में मेयर के भाई का अपहरण! एक किडनैपर दबोचा गया

पानीपत में मेयर सुरेश वर्मा के छोटे भाई नरेश को अगवा कर लिया गया। किडनैपर्स ने नरेश को यूपी में ले जाने की कोशिश की पर नाकेबंदी की वजह से नरेश को बबैल रोड पर ही छोड़कर भाग निकले।

10 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper