आदेशों के बावजूद नहीं हटा गेहूं (ईपीएस लगाएं)

Panipat Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
पानीपत। खरीद शुरू होते ही जहां धान की आवक तेज हो गई है, वहीं मंडियों से गेहूं का उठान नहीं होने के कारण स्थिति बदतर होती जा रही है। डीसी के आदेशों के बावजूद एजेेंसियों का मंडियों में करीब 29 लाख बैग गेहूं पड़ा है। वर्तमान में जिले की पानीपत, समालखा, मतलौडा, बाबरपुर और बापौली की मंडियों से गेहूं का उठान नहीं हो पाया है। आढ़तियों का कहना है कि मंडियों से गेहूं का उठान नहीं होने से किसानों की परेशानी बढ़ती जा रही है। डीसी ने एक अक्तूबर को एफसीआई के अधिकारियों को लताड़ लगाकर दो दिन के अंदर गेहूं के उठान की प्रक्रिया शुरू करने को कहा था, लेकिन आदेशों की अनदेखी करते हुए पांच दिन बीतने के बावजूद स्थिति ढाक के तीन पात है।

समालखा मंडी में है 14.18 लाख बैग
समालखा मंडी में एजेंसियाें के करीब 14 लाख गेहूं के बैग शेड और प्लेटफार्म पर रखे हैं। इनमें से हैफेड के 6.93 लाख, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के 4.15 लाख और कांफेड के 3.10 लाख बैग शामिल हैं। इससे मंडियाें में धान आवक का कामकाज प्रभावित हो सकता है। आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान रोशन लाल, पूर्व प्रधान संजय जैन, राजबीर भापरा, वीर प्रकाश जैन और पिंकी गर्ग का कहना है कि अगर गेहूं उठान का काम शीघ्र ही शुरू नहीं हुआ तो धान के सीजन में आढ़तियाें के अलावा किसानाें को भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

मतलौडा में रखे हैं नौ लाख बैग
मतलौडा अनाज मंडी में गेहूं के करीब नौ लाख बैग (50 किलोग्राम) शेड और प्लेटफार्म पर रखे हैं। ये बैग हरियाणा स्टेट वेयर हाउस और हैफेड एजेंसी के हैं। मार्केट कमेटी के सचिव ऋषि कुमार का कहना है कि गेहूं के उठान को लेकर वे संबंधित एजेेंसियाें को नोटिस जारी कर चुके हैं। शेड के नीचे रखे स्टेट वेयर हाउस के प्रबंधक राजेश कुमार का कहना है कि इस बारे में भारतीय खाद्य निगम को कई बार पत्र लिखकर उठान की मांग की जा चुकी है, मगर अभी तक कोई जवाब नहीं आया है। उनकी कोशिश रहेगी की शेड जल्द से जल्द खाली हो जाएं। गेहूं के उठान को बारे में हैफेड के प्रबंधक सतबीर सांगवान का भी यही कहना है।

पानीपत में पडे़ 50 हजार बैग
मंडी में हैफेड के करीब 50 हजार बैग अभी भी शेड के नीचे रखे हैं। कांफेड के करीब ढाई हजार बैग रखे हैं। कांफेड के स्टोर इंचार्ज ओमप्रकाश ने बताया कि उन्हाेंने अपना सारा गेहूं उठवा लिया है। फिलहाल यह माल आंगनबाड़ी में भेजने के लिए रखा है, इसे भी जल्द ही उठवा लिया जाएगा। हैफेड के प्रबंधक प्रवीण कुमार ने बताया कि अगले दो दिन में गेहूं उठान का काम पूरा हो जाएगा।

बाबरपुर मंडी में पड़े हैं दो साल के पांच लाख बैग
बाबरपुर मंडी में इस साल की तो बात दूर अभी तक पिछले साल के गेहूं का भी उठान नहीं हुआ है। इस मंडी में कांफेड का गेहूं पड़ा है। कांफेड के एसओ मनोहर लाल का कहना है कि पिछले साल का करीब 9,950 टन और इस साल का 14, 600 टन गेहूं मंडियों में पड़ा है, यानी की दोनों साल के गेहूं को जोड़ लें तो यह आंकड़ा पांच लाख बैग के पार बनता है।

यह कहते हैं आढ़ती
जाटल ट्रेडिंग कंपनी के संचालक बिजेंद्र सिंह, राजा खेड़ी ट्रेडिंग कंपनी के संचालक बलवान शर्मा, घनघस ट्रेडिंग कंपनी के संचालक बलराम कटवाल और पानीपत ट्रेडिंग कंपनी के संचालक बलकार मलिक ने बताया कि मंडी एसोसिएशन ने एजेंसी के अधिकारियों और जिला प्रशासन से कई बार मांग की है कि मंडी से गेहूं उठवाया जाए, ताकि सीजन के समय किसी प्रकार की बाधा नहीं आए। बार-बार मांग करने के बाद भी गेहूं का उठान नहीं हो पाया है।

वर्जन
गेहूं के उठान को लेकर भारतीय खाद्य निगम के सीएमडी एलएस सहरावत को पत्र लिखने के अलावा उसने बातचीत भी हो चुकी है। समालखा और बाबरपुर मंडी में गेहूं को लेकर थोड़ी दिक्कत आ सकती है। इसलिए वहां के शेड जल्द ही खाली कराए जाएंगे। किसानाें को किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।
मोना श्रीनिवास, उपायुक्त पानीपत

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी पुलिस भर्ती को लेकर युवाओं में जोश, पहले ही दिन रिकॉर्ड रजिस्ट्रेशन

यूपी पुलिस में 22 जनवरी से शुरू हुआ फॉर्म भरने का सिलसिला पहले दिन रिकॉर्ड नंबरों तक पहुंच गया।

23 जनवरी 2018

Related Videos

पानीपत में मेयर के भाई का अपहरण! एक किडनैपर दबोचा गया

पानीपत में मेयर सुरेश वर्मा के छोटे भाई नरेश को अगवा कर लिया गया। किडनैपर्स ने नरेश को यूपी में ले जाने की कोशिश की पर नाकेबंदी की वजह से नरेश को बबैल रोड पर ही छोड़कर भाग निकले।

10 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper