बिना उपकरण बीमारी से जंग

Panipat Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
पानीपत। मौसम बदलते ही मलेरिया, टाइफाइड के मरीजों के साथ डेंगू के संदिग्ध मामले आने शुरू हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग सिविल अस्पताल में पर्याप्त सुविधाओं का दावा तो कर रहा है, लेकिन लेबोरेट्री में दावों की पोल खुल रही है। लेबोरेट्री में ब्लड सैंपल डालने के शीशे की ट्यूब पर्याप्त नहीं है, जिससे मरीजों को मायूस होकर लौटना पड़ रहा है।
सिविल अस्पताल की सामान्य ओपीडी करीब 700 होती है, लेकिन अब यह संख्या 1000 तक पहुंच गई है। करीब 300 मरीजों में अधिकतर का मलेरिया और टाइफाइड की जांच करानी होती है। अस्पताल के डाक्टर भी इसकी राय देते हैं, लेकिन मरीजों के लेबोरेट्री में पहुंचने पर बीमारी से हालात सुधरने की बजाय खराब हो जाती है।
100 मलेरिया और 50 टाइफाइड तक सीमित
सिविल अस्पताल की लेबोरेट्री में मलेरिया के 100 और टाइफाइड के 50 वावल हैं। इससे अधिक मरीजों के आने पर स्वास्थ्य कर्मी बाहर का रास्ता दिखा देते हैं। सबसे अधिक परेशानी टाइफाइड के मरीजों को होती है। इनका चेकअप प्रात: 8 से 11 बजे तक किया जाता है। मात्र तीन घंटे में मरीजों के लिए शीशे की ट्यूब अनुसार 50 के सैंपल लिए जाते हैं। इसके बाद आने वाले मरीजों को वापस कर दिया जाता है। मरीजों की गुहार लगाने के बाद भी स्वास्थ्य कर्मी बात सुनने को राजी नहीं होते।
अस्पताल में नहीं मिल पाता सहारा
भादौड़ निवासी रविंद्र कुमार ने बताया कि वह शुक्रवार को बुखार के चलते सिविल अस्पताल में दवा लेने गया था। वह बड़ी मुश्किल से डाक्टर के पास पहुंचा। डाक्टर ने मलेरिया और टाइफाइड की जांच कराने की कही। लेबोरेट्री में मलेरिया का सैंपल लेने के बाद टाइफाइड के लिए अगले दिन आने को कहा। उसने स्वास्थ्यकर्मियों से बीमारी ज्यादा होने की गुहार लगाई, लेकिन किसी ने उसकी एक न सुनी। शनिवार को जांच कराने पहुंची कमला और राजेश को टाइफाइड की जांच कराने में मायूसी हाथ लगी। यह अकेले रविंद्र की परेशानी नहीं, बल्कि कई मरीजाें को ऐसी ही मायूसी हाथ लगती है।
वर्जन
सिविल अस्पताल की लेबोरेट्री में मलेरिया के मरीजों के सैंपल लगातार लिए जा रहे हैं। टाइफाइड के सैंपल 11 बजे तक लेने होते हैं। लेबोरेट्री में ब्लड सैंपल लेने के उपकरण कम नहीं होने चाहिए। ऐसा है तो कार्य दिवस के दिन रिपोर्ट ली जाएगी। लेबोरेट्री में उपकरणों की कमी नहीं रहने दी जाएगी।
डा. भूपेश चौधरी, चिकित्सा अधीक्षक, सिविल अस्पताल, पानीपत

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

पानीपत में मेयर के भाई का अपहरण! एक किडनैपर दबोचा गया

पानीपत में मेयर सुरेश वर्मा के छोटे भाई नरेश को अगवा कर लिया गया। किडनैपर्स ने नरेश को यूपी में ले जाने की कोशिश की पर नाकेबंदी की वजह से नरेश को बबैल रोड पर ही छोड़कर भाग निकले।

10 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper