बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

नंबर प्लेट के चार अक्षर, टूटे बंफर के आधार पर पकड़ा बुजुर्ग को रौंदने वाला

Updated Sun, 04 Jun 2017 08:35 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन

पानीपत। सर्दियों में घनी धुंध में जीटी रोड पेप्सी पुल के पास एक गाड़ी की चपेट में आने से बिहार मूल के बुजुर्ग की मौत हो गई थी। यह मामला उलझ गया था। जांच अधिकारी ने भी एक बार अपने हाथ खड़े कर लिए थे। थाना सदर के नए प्रभारी ट्रेनी आईपीएस चंद्र मोहन ने पांच माह बाद हादसे को सुलझाते हुए दिल्ली के एक उद्यमी की गाड़ी के ड्राइवर को काबू किया है। ट्रेनी आईपीएस का कहना है कि आरोपी की गिरफ्तारी के बाद अब आश्रित परिवार को क्लेम की राशि मिल जाएगी। ट्रेनी आईपीएस ने शव की शिनाख्त के लिए एक पर्ची और गाड़ी पकड़ने के लिए उसकी टूटी नंबर प्लेट को जरिया बनाया।
थाना सदर प्रभारी चंद्र मोहन (ट्रेनी आईपीएस) ने रविवार को बताया कि 24 जनवरी की रात जीटी रोड नजदीक पेप्सी पुल के पास सड़क हादसे में एक 61 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी। थाना सदर पुलिस ने शव को सिविल अस्पताल के शवगृह में रखवा कर अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया था। पुलिस को शव के पास इलाज की एक पर्ची बरामद हुई। इस पर उसके मधुबनी जिला, बिहार और गांव का नाम लिखा था। शव की पहचान के लिए मधुबनी के एसपी से फोन पर संपर्क किया। इसके बाद गांव के सरपंच के मोबाइल नंबर पर संपर्क कर और सोशल मीडिया के माध्यम से शव की फोटो भेजी। परिजनों ने शव की पहचान शिवशंकर दास (61) निवासी रामपती जिला मधुबनी बिहार के रूप में की।

इसे बाद से यह मामला अनट्रेस था। जांच अधिकारी हवलदार बाबूलाल भी एक बार ढीले पड़ गए। ट्रेनी आईपीएस चंद्र मोहन ने इस मामले में घटनास्थल से एक गाड़ी की टूटी हुई आधी नंबर प्लेट बरामद की। इस पर केवल चार अक्षर लिखे थे। पुलिस ने इस नंबर की गाड़ियों का पता किया तो दस गाड़ियां मिलीं। नंबर प्लेट के अलावा पुलिस को मौके से गाड़ी से टूटे हुए बंफर के कुछ टुकड़े भी मिले थे। एक्सपर्ट इन टुकड़ों को सफारी का बताया। इसके बाद दस गाड़ियों को चेक किया तो उनमें से एक सफारी गाड़ी निकली।
आरसी के आधार पर हुई पहचान
सफारी गाड़ी के मालिक की पहचान करने के लिए आनलाइन आरसी चेक करवाई गई तो आरसी मे केवल हाउस नंबर 70 गुड़गांव ही लिखा मिला। इसके बाद पुलिस ने सफारी गाड़ी की एजेंसी में संपर्क साधा। आठ साल पुराने बिल निकलवाए तो गाड़ी रोहित टोगस निवासी दिल्ली के नाम मिली। पुलिस ने दिल्ली पहुंच रोहित से पूछताछ की तो रोहित ने बताया की 24 जनवरी की रात को उसका परिवार सफारी गाड़ी से शिमला गया था। गाड़ी को ड्राइवर सालिग राम प्रजोली निवासी बसंत विहार दिल्ली चला रहा था। वह मूल रूप से नेपाल का है। पुलिस ने शनिवार देर शाम आरोपी ड्राइवर शालिक राम प्रजोली को दिल्ली से गिरफ्तार कर पानीपत लेकर आई। आरोपी शालिक राम को रविवार को माननीय न्यायालय मे पेश किया गया।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us