डंपिंग ग्राउंड नहीं अब कालका के कचरे से बनेगी खाद

Panchkula bureauपंचकुला ब्‍यूरो Updated Wed, 01 Jul 2020 01:57 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
कालका। क्षेत्र को गंदगी से निजात दिलाने और विकेंद्रीकृत अपशिष्ट प्रबंधन (डिसेंट्रलाइज्ड वेस्ट मैनेजमेंट) को ध्यान में रखकर कालका प्रशासन ने काम करना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में नगर निगम कालका जोन में 48 लाख रुपये की लागत से सैनिटेशन पार्क बनाने का काम शुरू हो गया है। क्षेत्र के कूड़े कचरे को पंचकूला डंपिंग ग्राउंड न भेजकर उसका इस पार्क में खाद बनाया जाएगा। कालका में राधे श्याम गोशाला के समीप बनने वाले इस पार्क से पंचकूला डंपिंग ग्राउंड का दबाव भी कम होगा। इस पार्क के बनने से जहां कालका से पंचकूला कूड़ा कचरा ले जाने वाले वाहनों का तेल बचेगा, वहीं समय की बचत भी होगी।
विज्ञापन

नगर निगम कालका में फीड बैक फाउंडेशन एनजीओ के सहयोग से सैनिटेशन पार्क बनाने का काम शुरू हो गया है। कालका में राधे श्याम गोशाला के समीप सैनिटेशन पार्क के निर्माण के लिए पहले चरण में खुदाई का काम शुरू हो गया है। नगर निगम कालका जोन के अधिकारियों का कहना है कि करीब 48 लाख रुपये की लागत से सैनिटेशन पार्क का निर्माण कार्य पूरा होगा। इस कार्य को करीब तीन माह में पूरा कर लिया जाएगा। सैनिटेशन पार्क में गीले कचरे की खाद बनाई जाएगी। यह खाद गार्डनिंग और एग्रीकल्चर के काम के लिए बेची भी जाएगी। वहीं सूखा कचरा रिसाइक्लिंग के लिए फैक्टरी में भेजा जाएगा। पंचकूला एमसी ने कचरे के निपटान के लिए फीडबैक फाउंडेशन से समझौता किया है। उनके अनुसार डंपिंग ग्राउंड में कचरे के ढेर लगाना समस्या का समाधान नहीं है। डंपिंग ग्राउंड में कब तक पुराने वेस्ट के ऊपर ही नया वेस्ट डाला जाता रहेगा। वेस्ट को कम करने के लिए विकेंद्रीकृत अपशिष्ट प्रबंधन (डिसेंट्रलाइज्ड वेस्ट मैनेजमेंट) पर काम करने को प्राथमिकता दी जा रही है। निगम के अनुसार सैनिटेशन पार्क बनाकर डिसेंट्रलाइज्ड वेस्ट मैनेजमेंट पर काम करने से ही समस्या का समाधान होगा।
घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेगा फाउंडेशन
फीडबैक फाउंडेशन के प्रोजेक्ट को-ऑर्डिनेटर अजीत तिवारी का कहना है कि फीडबैक फांउडेशन गुरुग्राम की एक एजेंसी है जो गवर्नमेंट ऑफ इंडिया के लिए काम करती है। एजेंसी स्वच्छ भारत मिशन की ट्रेनिंग देती है। जोकि पायलट के तौर पर कालका में कार्य करेगी। फीडबैक फाउंडेशन के सदस्य लोगों को घर पर ही गीला और सूखा कचरा अलग-अलग करने के लिए मोटिवेट करेंगे। स्वीपर्स और डोर टू डोर गारबेज कलेक्टर्स को वेस्ट सेग्रीगेशन के लिए अवेयर करने के साथ ट्रेनिंग दी जाएगी। सैनिटेशन पार्क में गीले कचरे की खाद बनाई जाएगी। इसमें एमसी के स्वीपर्स और डोर टू डोर गारबेज कलेक्टर्स पहले की तरह काम करते रहेंगे। मैनेजमेंट पूरी तरह से फाउंडेशन की होगी। पंचकूला एमसी के साथ स्वच्छ भारत मिशन रूल्स, 2016 के तहत इस अभियान को शुरू किया गया है। इसमें कचरे को एकत्र करने के बाद इसकी प्रोसेसिंग और ट्रीटमेंट की जाएगी। गीले कचरे की कालका और पिंजौर में बनने वाले बनाई जाएगी। यह खाद गार्डनिंग व एग्रीकल्चर काम के लिए बेची जाएगी। सूखा कचरा रिसाइक्लिंग के लिए फैक्टरी में भेजा जाएगा। बायो मेडिकल वेस्ट के निपटारे के लिए स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड से टाइअप किया जाएगा। बोर्ड का एक प्राइवेट एजेंसी से समझौता है जोकि बायो मेडिकल वेस्ट का डिस्पोजल करेगी। हेजार्डस वेस्ट को एक्सटेंडेड प्रॉड्यूसर रिस्पांसिबिलिटी के तहत कंपनी का प्रोडक्ट उसी कंपनी को भेजा जाएगा।
48 लाख रुपये की लागत से कालका में सैनिटेशन पार्क का निर्माण शुरू हो गया है। यह करीब तीन माह में बनकर तैयार हो जाएगा। - सुभाष, जेई, कालका, नगर निगम जोन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us