पुजारी का शव पहुंचने पर भड़का आक्रोश

Panchkula Updated Tue, 18 Sep 2012 12:00 PM IST
मोरनी। ज्वाला माता मंदिर के पुजारी दुनी चंद का शव पहुंचते ही लोगों में पुलिस के खिलाफ आक्रोश भड़क गया। गुस्साए लोगों ने मोरनी पुलिस चौकी के खिलाफ लापरवाही का आरोप लगाते हुए पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के तबादले की मांग की। नाराज लोगों ने मोरनी पुलिस चौकी में ताला जड़ना चाहा, जिसे कुछ बुद्धिजीवियों ने सूझबूझ दिखाते हुए टाल दिया। लोगों और पुजारी के परिजनों का आरोप है कि जब पुलिस को शराबी हुड़दंगियों की सूचना समय पर दे दी गई थी तो समय पर पुलिस क्यों नहीं पहुंची, जबकि वाक्या पुलिस चौकी से कुछ दूरी पर था। मोरनी खंड कांग्रेस के प्रधान सरपंच खेमराज राणा, महिला कांग्रेस प्रधान और जिला परिषद सदस्य बिमला ठाकुर, इंटक नेता धर्मपाल शर्मा ने गुस्साए लोगों को आश्वासन देते हुए शांत कराया। उन्होंने आश्वासन दिया कि इस मामले में जल्द ही मुख्यमंत्री और डीजीपी से मिलकर लापरवाह मोरनी पुलिस चौकी के खिलाफ जांच करवाई जाएगी। उक्त नेताओं के आश्वासन के बाद परिजनों ने शव लिया और अंतिम संस्कार करने को राजी हुए।
पूर्व उपमुख्यमंत्री और हजकां नेता चंद्रमोहन ने पुजारी की हत्या पर दुख जताते हुए कहा कि मौजूदा सरकार के राज में गुंडाराज चल रहा है। मंदिर के पुजारी की पीट-पीटकर हत्या सरकार की कानून व्यवस्था की पेाल खोल रही है। उधर, इनेलो विधायक प्रदीप चौधरी ने कहा कि पुजारी की हत्या ने सरकार की नाकामी साबित कर दी है। मोरनी में पर्यटन के नाम पर सरकार जिस तरह पर्यटन को बढ़ावा दे रही है वह अफसोसजनक है। किस तरह बाहरी लोग आकर स्थानीय लोगों से मारपीट करने लगे हैं, यह पुजारी की हत्या से साफ हो चुका है।
गौरतलब है कि पिछले छह-सात महीनों से इलाके में स्थानीय लोगों पर शराबी हुड़दंगियों का हमला तेज हो गया है। लोगों का कहना है कि अगर सरकार और स्थानीय पुलिस इसी तरह हाथ पर हाथ रख कर बैठी रही तो स्थानीय निवासी सुरक्षित नहीं रहेंगे। लोगों ने आरोप लगाया कि अगर शराबियों के ठेके पर हुड़दंग मचाने की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच जाती को शायद पुजारी की हत्या न होती। दोपहर बाद भारी संख्या में लोगों की मौजूदगी में पुजारी दुनीचंद का अंतिम संस्कार कर दिया गया।


बाक्स
जांच के नाम पर महज एक पुलिस नाका
अमर उजाला ब्यूरो
मोरनी। गत दिवस दिनदहाडे़ पुजारी की हत्या के बाद इलाके के लोगों में भय का माहौल है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां आने-जाने वाले हर सैलानी की जांच होनी चाहिए। हैरानीजनक है कि मोरनी-पंचकूला मुख्य सड़क पर बेरोकटोक बाहरी हुड़दंगी आते-जाते हैं और इन्हें रोकने के लिए महज एक पुलिस नाका है, जिस पर अब कोई भी तैनात नहीं मिलता। मोरनी-पंचकूला के बीच 35 किलोमीटर के सुनसान रास्ते में कोई भी पुलिस कर्मचारी तैनात नहीं मिलता। यहां पर सड़क के मुहाने टी प्वाइंट पर पुलिस का एक नाका होता था, लेकिन अब सब कुछ वीरान है। मोरनी पुलिस चौकी भी चार-पंाच कर्मियों के सहारे है। वहीं, पेट्रोलिंग के लिए महज एक मोटरसाइकिल है। एक मोटरसाइकिल के सहारे इतने बडे़ क्षेत्र पर नजर रख पाना मुश्किल का काम है। पुजारी के हत्या के बाद फरार हो रहे युवकों को पकड़ने के लिए अगर स्थानीय लोग सामने न आते तो शायद वे फरार हो जाते। स्थानीय निवासी महेंद्र राणा, दरयाव, नरेश कमल, चरण जीत, सुरेश का कहना है कि मोरनी में पुलिस चौकी का कोई लाभ नहीं है क्योंकि स्थानीय पुलिस के पास इस अत्याधुनिक युग में संसाधनों की भारी कमी है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव का तंज, ...ताकि पकौड़ा तलने को नौकरी के बराबर मानें लोग

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा देश की सोच को अवैज्ञानिक बताना चाहती है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: हरियाणा में प्यार करने की सजा देख रूह कांप उठेगी

हरियाणा के मेवात से एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक युवक को भरी पंचायत में जूतों से पीटा जा रहा है। युवक का जुर्म दूसरे गांव की लड़की से प्यार करना बताया जा रहा है। पंचायत ने युवक पर 80 हजार रुपये का दंड और पांच जूतों का फरमान सुना था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper