बेरवाला बर्ड सेंक्चुरी में हो रहा हरियाली का सफाया

Panchkula Updated Tue, 28 Aug 2012 12:00 PM IST
मोरनी। मोरनी-पिंजौर वन मंडल के प्रतिबंधित बेरवाला बर्ड सेंक्चुरी जोन में वन विभाग और वन्य प्राणी विभाग की सरपरस्ती में लोग बिना अनुमति के हरियाली का सफाया कर अवैध कालोनियां काटने में जुटे हैं। यहां प्लाट की नींव भरने के साथ फार्म हाउस बनाए जा रहे हैं। हैरानीजनक है कि वन्य प्राणी विभाग का वन मंडल स्तर का कार्यालय इससे महज 200 मीटर दूर है। इससे भी गंभीर बात यह है कि वन विभाग और वन्य प्राणी विभाग पर्यावरण के साथ खिलवाड़ और अवैध कालोनियों के कटने के मामले पर एक-दूसरे की जिम्मेवारी बता कर अपनी गर्दन बचाने में जुटे हैं। वन्य प्राणी विभाग अपने क्षेत्राधिकार में बडे़ पैमाने पर कट रही कालोनियों क ो लेकर बचाव की मुद्रा में काम रोक दिया गया, बताकर गर्दन छुड़ाना चाह रहा है, जबकि वन विभाग सरकार की ओर से कोई ईको सेंसटिव जोन अभी तक घोषित न होने की आड़ में यह कह कर पल्ला झाड़ रहा है कि ईको सेंसटिव जोन को लेकर मुख्यमंत्री हरियाणा आगामी 31 अगस्त को बैठक में एरिया पिन प्वाइंट करने के लिए निर्देश देंगे, तभी कुछ हो सकेगा।
दफा चार प्रतिबंधित क्षेत्र में जेसीबी मशीनों से पर्यावरण को बिगाड़ने के खेल को लेकर वन विभाग चुप्पी साधे बैठा है। लेकिन, टाऊन कंट्री प्लानिंग विभाग नोटिस जारी करने में जुटा रहता है। सोचने वाली बात है कि पंचकूला से करीब पांच छह किमी दूर स्थित बेरवाला बर्ड सफारी जोन में हो रहे इस गड़बड़झाले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा। साथ लगते नाडा गांव को हुडा विभाग ने अधिगृहीत कर यहां पर प्लाट काट कर बेचे थे। जिससे यहां से कुछ ही फासले पर जमीनों के दाम आसमान पर हैं। मगर यह क्षेत्र हुडा के दायरे से बाहर होने के चलते ज्यादा मंहगा नहीं हुआ, जिसका लाभ उठाने की फिराक में कालोनाइजार यह गोरखधंधा कर रहे हैं। मोरनी-पिंजौर वन मंडल के बेरवाला के जंगलों मे कुछ समय से बड़े पैमाने पर बर्ड सेक्चुरी क्षेत्र में बाहरी लोगों ने जमीनें खरीद कर पहाड़ों-जंगलों को काट कर प्लाट काटने के साथ-साथ फार्म हाउस बनाने शुरू कर दिए हैं। एक प्राइवेट स्कूल के पास तो पहाड़ों को काट कर मैदान में बदल दिया गया है।
इस मामले में वन मंडल अधिकारी जगमोहन शर्मा ने कहा कि यह क्षेत्र अभी सेंसटिव जोन घोषित नहीं हुआ है। आगामी 31 अगस्त को मुख्यमंत्री हरियाणा के ऐसे संवेदनशील इलाकों के लिए आवश्यक निर्देश जारी करेंगे। इस घोषणा तक बेरवाला मामले में वह कुछ नहीं कर सकते। उधर, वन्य प्राणी विभाग के वन मंडल अधिकारी आरके शर्मा ने इस बारे में जानकारी होने से इंकार कर दिया और सेंसटिव जोन की घोषणा जल्द होने की बात कही। वहीं, वन्य प्राणी विभाग के निरीक्षक जयवीर ने बताया कि जमीनों को कृषि कार्य के लिए समतल किया जा रहा था, जिसे उन्होंने दो दिन पहले ही बंद करवा दिया है। उन्होंने कहा कि अगर किसी की ओर से पहाड़ या जंगल काटा जा रहा है तो जल्द कार्रवाई करेंगे।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

गरीबी की वजह से इस शख्स ने शुरू किया था मिट्टी खाना, अब लग गई लत

गरीबी की वजह से झारखंड के कारु पासवान ने मिट्टी खानी शुरू की थी।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: हरियाणा में प्यार करने की सजा देख रूह कांप उठेगी

हरियाणा के मेवात से एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक युवक को भरी पंचायत में जूतों से पीटा जा रहा है। युवक का जुर्म दूसरे गांव की लड़की से प्यार करना बताया जा रहा है। पंचायत ने युवक पर 80 हजार रुपये का दंड और पांच जूतों का फरमान सुना था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper