विज्ञापन
विज्ञापन

मकानों के बीच गुम हो गई कोस मीनार

Palwal Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
होडल बाजार में बनी मीनार तक नहीं पहुंच पाते लोग
विज्ञापन
विज्ञापन
होडल। मुगल कालीन कोस मीनारों की हालत दिन-प्रतिदिन दयनीय होती जा रही है। मुख्य बाजार में स्थित कोस मीनार को देखने के लिए आस-पास बने मकानों के मालिकाेंसे इजाजत लेकर पहुंचना पडे़गा। इसके आसपास जमीन पर लोगों ने कब्जा कर रखा है और यहां तक पहुंचने के लिए एक इंच का भी रास्ता नहीं छोड़ा है। इसके कारण मकानों के बीच कोस मीनार गुम हो गई है।
इतिहास बताता है कि , शेरशाह शूरी ने सन् 1540 से 45 के बीच इन मीनारों का चौकी के रूप में निर्माण किया गया था। डाक चौकी के पास कई मीनारों पर सराय का निर्माण कराया गया, लेकिन यहां बनी सराय का भी अवैध कब्जाधारियों ने नामोनिशान तक मिटा दिया है।
सम्राट अकबर ने किया था विकास
मुगल सम्राट अकबर ने डाक प्रणाली के महत्व को समझते हुए इसका विकास किया और डाक चौकी को कोस मीनार का रूप दे दिया। यहां से संदेश आगे पहुंचाए जाते थे, वहीं, इनका पहचान चिह्न के रूप में इस्तेमाल होता था। अबुल फजल ने इनके बारे में बताया है कि ये कोस मीनारें भूले भटके मुसाफिरों को रास्ता दिखाने का कार्य करती थीं और कई बार विश्राम स्थल का रूप में इस्तेमाल होता था। यहां एक चौकीदार नियुक्त होता था जो एक मीनार से दूसरी मीनार तक ऊंट पर सवार होकर से डाक पहुंचाने का काम करता था।
हरियाणा और पंजाब में बनी कोस मीनारें जहांगीर के कालखंड की हैं। तुजुक-ए-जहांगीरी के अनुसार बादशाह ने 1619 में मुल्तान के फौजदार बकीरखान को हर कोस पर एक मीनार बनाने के आदेश दिए थे। उस समय एक कोस पांच हजार गज या वर्तमान में 4.57 किलोमीटर या फिर दो मील के बराबर दूरी मानी जाती है।
कारीगरी का नमूना है मीनार
इस मीनार का ऊपरी भाग गोलाकार और नीचे का आधा भाग अष्टभुजी है। यह मीनार वर्गाकार चबूतरे पर निर्मित है। यह पूरी मीनार पुराने समय में प्रयोग किए जाने वाली छोटी ईंटों से निर्मित है इसमें चूने व सुर्खी से प्लास्टर किया गया है। आज हालत यह है कि अवैध कब्जे के कारण इनकी पहचान खत्म हो रही है। जल्द ही इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो प्राचीन धरोहर खत्म हो सकती है।

कोस मीनार के पास अवैध कब्जा के मामले में वे कुछ नहीं कर सकते, क्योंकि यह मामला पुरातत्व विभाग से संबंधित है। इसकी रिपोर्ट विभागीय कार्यालय में भेज दी गई है।
विजय दहिया, जिला उपायुक्त

उपायुक्त के मारफत उनके पास रिपोर्ट आई हुई है। रिपोर्ट को संज्ञान में लेते हुए जल्द ही मौका-मुआयना कर कोस मीनार का रास्ता निकाला जाएगा और अवैध कब्जे हटाए जाएंगे।
फतेह सिंह डागर, (निदेशक, पुरातत्व विभाग)

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Palwal

चुनाव बहिष्कार की धमकी के बाद जागा प्रशासन

चुनाव बहिष्कार की धमकी के बाद जागा प्रशासन

19 अप्रैल 2019

विज्ञापन

करनाल में कांग्रेस पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने साधा निशाना, लोगों से पूछा ये सवाल

लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां बढ़ती ही जा रही हैं। देशभर में सभी सियासी दलों के नेता जमकर प्रचार कर रहे हैं। रविवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने करनाल में चुनावी जनसभा को संबोधित किया। देखिए ये रिपोर्ट।

7 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election