बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

रोडवेज का पहिया हुआ जाम

Updated Sun, 04 Jun 2017 12:32 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन

कुरुक्षेत्र।
निजी बसों को परमिट दिए जाने का जिन करीब एक माह बाद फिर बाहर निकल आया। विभाग ने कुरुक्षेत्र में आधा दर्जन से अधिक निजी बसों को परमिट जारी कर दिए, जिसके विरोध में रोडवेज कर्मचारी हड़ताल पर उतर आए और शनिवार को कुरुक्षेत्र डिपो का पहिया पूर्ण रूप से जाम कर दिया। बसें वर्कशॉप और बस अड्डे पर दिन भर खड़ी रही तो वहीं कर्मचारियों ने देर सांय तक प्रदेश सरकार व विभाग के खिलाफ नारेबाजी की। बसें न चलने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा तो वहीं कर्मचारियों का रोष देख भारी पुलिस बल भी बस अड्डे पर तैनात रहा।
हड़ताल का निजी बस संचालकों और अन्य वाहन चालकों ने जमकर फायदा उठाया तो एक भी निजी बस दिन भर बस अड्डे के अंदर नहीं घुस पाई। विभाग के कर्मचारियों को सुबह जैसे ही पता चला कि पिहोवा से कुरुक्षेत्र के लिए विभाग ने नई परिवहन पॉलिसी 2016-17 के तहत पांच बसों को परमिट जारी कर दिए है तो सभी आठ यूनियनें एकजुट हो गई और एकाएक ही पहिया जाम कर दिया। कर्मचारियों के बस अड्डे के मुख्य द्वार पर ही धरना दे दिया तो सरकार पर वादाखिलाफी के आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी भी की। इस दौरान कर्मचारियों को मायाराम, नरेश साकरा, सुल्तान सिंह, अरूण अत्री, शशि भूषण, सुरेंद्र टोपी, जसपाल भटटी, सुरेंद्र सिंह लाठर व नरेश कुमार सहित सभी यूनियन प्रधान व अन्य पदाधिकारियों ने संबोधित किया और ऐलान किया कि जब तक प्रदेश सरकार लिखित मेें नई परिवहन पॉलिसी 2016-17 रद् करने का आश्वासन नहीं देती तो पहिया जाम रहेगा।

सरकार के किसी भी प्रकार के दबाव को सहन नहीं किया जाएगा, जिसके लिए कर्मचारी कोई भी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि करीब एक माह पहले ही रोडवेज कर्मचारी यूनियनों की ओर से तालमेल कमेटी की प्रदेश सरकार के साथ बैठक हुई थी। उस दौरान भी निजी बसों को परमिट दिए जाने के विरोध के चलते कई दिनों तक हड़ताल रखी गई थी। लेकिन तालमेल कमेटी के साथ प्रदेश सरकार ने वादा किया था कि इस नीति के तहत कोई भी परमिट नहीं दिया जाएगा और पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में भी एफिडेविट देकर यह स्पष्ट कर दिया गया था। हालांकि सरकार ने अदालत में यह एफिडेविट भी दिया, इसके बावजूद इस नीति के तहत निजी बसों को परमिट जारी किए जा रहे है। लेकिन सरकार की यह मनमानी सहन नहीं की जाएगी। उधर हरियाणा परिवहन कर्मचारी संघ संबंधित भारतीय मजदूर संघ के प्रांतीय प्रवक्ता नरेश कुमार ने बताया कि देर सांय तक किसी अधिकारी ने रोष जता रहे कर्मचारियों की सुध नहीं ली है और रविवार को भी न केवल डिपो में हड़ताल रहेगी बल्कि प्रदेश स्तरीय हड़ताल भी होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि हड़ताल के चलते एक भी बस नहीं चल पाई और सभी कर्मचारियों ने हड़ताल को पूर्ण रूप से सफल बनाया है। बसें न चलने से यात्रियों को भारी परेशानी झेलनी पड़ी।
-------------------
रोडवेज को करीब 13 लाख का नुकसान
एक दिन की हड़ताल से रोडवेज को करीब 13 लाख रुपये का नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है। जीएम का कहना है कि यह रविवार को ही सही पता चल पाएगा, लेकिन कर्मचारियों की मानें तो शनिवार को ही हड़ताल से करीब 13 लाख का नुकसान हुआ है।
-------------------------
निजी वाहन चालकों ने उठाया फायदा
रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल का निजी वाहन चालकों व बस संचालकों ने भी जमकर फायदा उठाया। जहां अनेकों वाहन चालकों ने मनमाना किराया वसूल किया तो वहीं कई यात्रियों के साथ यह चालक उलझते भी नजर आए।
-----------------------
जीएम बोले बसें चलाओ, कर्मचारी बोले निजी परमिट करो रद
कर्मचारियों की हड़ताल के चलते जीएम रोहताश सिंह ने उन्हें बुलाया और कहा कि बसें चलाई जाएं, जिस पर कर्मचारियों ने स्पष्ट कर दिया कि पहले निजी परमिट रद् किए जाएं, तभी बसें चलेंगी। दोनों ओर से इसी जिद्द के चलते कोई सहमति नहीं बन पाई।
--------------------
भारी पुलिस बल रहा तैनात
रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल के चलते बस अड्डे पर सिटी एसएचओ के नेतृत्व में भारी पुलिस बल तैनात रहा और सुरक्षा के चलते निजी बसों को अड्डे के अंदर नहीं आने दिया गया। यह बसें अड्डे से बाहर ही यात्रियों को लेती रही और वहीं से वापस जाती रही।
------------
दूसरी यूनियनों ने दिया समर्थन
रोडवेज कर्मचारियों को हरियाणा अध्यापक संघ सहित कई अन्य संगठन भी समर्थन देने पहुंचे जबकि रविवार को अन्य सभी कर्मचारी संगठनों के समर्थन दिए जाने की संभावना जताई जा रही है।
--------------------
उधर हड़ताल तो दूसरी ओर 3 और परमिट कर दिए जारी
रोडवेज कर्मचारी जहां सुबह से ही निजी बसों को परमिट दिए जाने के विरोध में उतर आए वहीं दूसरी ओर इसके उपरांत तीन नये परमिट भी जारी कर दिए। इससे पहले पांच बसों के परिमट दिए गए थे, जो पिहोवा से कुरुक्षेत्र के लिए शुरू की गई।
---------------------
विभाग व सरकार को करवाया अवगत : जीएम
जीएम रोहताश सिंह का कहना है कि कुछ बसें जो हड़ताल से पहले रूटों पर गई हुई थी, वो चलती रही, लेकिन अधिकतर कर्मचारी हड़ताल पर रहे। जिसको लेकर प्रदेश सरकार व विभाग को सूचित कर दिया है। जैसे ही नए आदेश आएंगे वैसे ही कार्रवाई की जाएगी।
-----------------------------
पंजाब से आकर फंस गई : गुरमीत
पंजाब से इंद्री के लिए कुुरुक्षेत्र बस अड्डे पर पहुंची गुरमीत का कहना था कि वह आज यहां आकर फंस गई है। अब वह इंद्री कैसे पहुंच पाएगी कोई पता नहीं।
------------
शादी समारोह में जाना हुआ दूभर : ओमप्रकाश
गांव निवारसी निवासी ओमप्रकाश का कहना है कि उसे अपने बच्चों के साथ गांव ठोल शादी समारोह में जाना था, लेकिन यहां आकर पता चला कि बसें बंद है। अब शादी समारोह में जाना भी दूभर हो गया है।
------------------
यूपी से बहन व भांजे को लेकर आया तो मिली निराशा: रणजीत
बच्चों की स्कूली छुट्टी होने पर गांव रायसन जिला करनाल निवासी रणजीत राणा अपनी बहन सीमा चौहान व भांजे शोभित को लेकर सहारनपुर से यहां पहुंचे, लेकिन उन्हें यहां आकर पता चला कि बसें बंद है। उनके गांव के लिए एक ही बस चलती है वह भी बंद है। अब कैसे पहुंच पाएंगे, पता नहीं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us