लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Karnal ›   crime, police, canal, children

तीन बच्चों को नहर में फेंकने के बाद पिता बोला-मुझे फांसी दे दो

Amar Ujala Bureau अमर उजाला ब्यूरो
Updated Wed, 25 Nov 2020 02:17 AM IST
crime, police, canal, children
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सुबरी के समीप आवर्धन नहर में तीन बच्चों को फेंकने वाले बेरहम पिता को कुंजपुरा थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जायेगा। आरोपी ने बताया कि उसकी पत्नी का दूसरे व्यक्ति के साथ प्रेम प्रसंग था। इसी कारण पिछले एक साल से उसका झगड़ा हो रहा था, लेकिन उसकी पत्नी हरकतों से नहीं मानी। इस कारण गुस्से में अपने तीनों बच्चों को नहर में फेंक दिया। आरोपी ने खुद पुलिस के सामने कहा कि उसे फांसी की सजा दी जाये। फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। वहीं दूसरी ओर 24 घंटे बीतने के बाद भी तीनों बच्चों के शव का कोई सुराग नहीं लगा। गोताखोरों ने करीब 24 किलोमीटर तक नहर के ठंडे पानी में बच्चों के शवों की तलाश की, लेकिन मंगलवार को देर शाम तक बरामद नहीं हो सका। डीसी निशांत कुमार, एसपी गंगाराम पुनिया, डीएसपी जगदीप दुन, तहसीलदार सहित अन्य अधिकारियों ने भी नहर पर मौके का जायजा लिया और परिजनों को आश्वासन दिया कि वह जल्द ही नहर से बच्चों को तलाश कर लेंगे।

नहर में पानी का है तेज बहाव, पूरा दिन नहर किनारे डटे रहे ग्रामीण
मंगलवार को परिजन और ग्रामीण दिनभर नहर किनारे डटे रहे, लेकिन तेज बहाव के कारण गोताखोरों को सफलता नहीं मिल सकी है। डीएसपी जगदीप ने बताया कि नहर में पानी का स्तर कम करने के लिए यमुनानगर हेड पर संपर्क किया गया है, हालांकि घटनास्थल व यमुनानगर हेड की ज्यादा दूरी होने के कारण पानी का स्तर कम होने में करीब 2 दिन का समय लग सकता है। संसाधनों की पर्याप्त व्यवस्था न होने व पानी का स्तर अधिक होने के कारण बहरहाल बच्चों को गहरे पानी में तलाश करना संभव नजर नहीं आ रहा।

...............................
बच्चों को जूते और जुराबे दिलाने के बहाने ले गया था पिता, दूसरे से मांगी थी बाइक
गांव नलीपार निवासी सुशील ने सोमवार रात को गांव सुभरी पुल के पास आवर्धन नहर में अपने तीन बच्चों 8 साल का लड़का शिव, 6 साल की लड़की जान्हवी, 3 साल का लड़का देव को फेंक दिया था। वह अपने दो बच्चों को बाजार से जूते व जुराबे दिलाने के नाम पर दोस्त की बाइक मांगकर उस पर बैठाकर लाया था। उस बाइक पर छिंका लगा हुआ था। एक बेटा उसका दूध लेने गया था तो उसे रास्ते से ही बाइक पर बैठा लिया था।
.....................
मेरे पोते व पोती का क्या कसूर था, रोते हुये बोले दादा
बच्चों के दादा व सुशील के पिता ने रोते हुए कहा कि हमारे पोते पोती का क्या कसूर था कि एक जालिम पिता ने अपनी पत्नी का गुस्सा बच्चों पर निकाला। कोई भी व्यक्ति अपने बच्चों के साथ ऐसा कुकृत्य नहीं करता, लेकिन सुशील ने अपने हाथों अपना चमन उजाड़ दिया। घरों में छोटे-मोटे विवाद बनते रहते हैं, मगर कोई भी व्यक्ति अपनी अगत बेल काटने की नहीं सोच सकता। अब वह भी जीना नहीं चाहते, उनकी आंखों के सामने उसके पोता पोती मिट गए। सोमवार रात से ही दादा-दादी व परिजनों का रो रो-कर बुरा हाल है। इस घटना के बाद गांव नली पार ही नहीं आसपास क्षेत्र में भी मातम सा पसरा हुआ है।
भाई के साथ ग्रामीण बोले- फांसी देनी चाहिये ऐसे पिता को
सुशील के बड़े भाई अनिल व मामा के लड़के गांव घीड़ निवासी बसंत सहित ग्रामीणों ने सुशील को जल्लाद बताते हुए उसे फांसी देने की मांग की। उन्होंने कहा कि 3 मासूम बच्चों के हत्यारों की वह शक्ल नहीं देखना चाहते। उसे अब समाज में जीने का कोई अधिकार नहीं रह गया। अनिल ने बताया कि उसका 8 साल का भतीजा चौथी कक्षा में पढ़ता था जबकि भतीजी जान्हवी तीसरी क्लास में व छोटा भतीजा देव मात्र 3 साल का था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00